कोरोना से पैरेंट्स को खोने वाले बच्चों की मदद के लिए केंद के साथ राज्य भी आए आगे, मुफ्त शिक्षा के साथ अन्य योजनाओं का भी किया ऐलान

Covid-19: कोरोना महामारी के चलते अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों के लिए राज्य सरकारों ने कई योजनाओं की घोषणा की है। साथ ही कहा कि ऐसे बच्चों के लालन-पालन शिक्षा-दीक्षा सहित विकास के सभी संसाधन उपलब्ध कराना राज्य सरकार की जिम्मेदारी है।

By: Dhirendra

Updated: 30 May 2021, 12:49 PM IST

COVID-19 कोरोना महामारी के चलते अपने पैरेंट्स को खोने वाले बच्चों के लिए केंद्र सरकार के साथ कई राज्य सरकारों ने भी मदद का ऐलान किया है। इन राज्यों में उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, असम, त्रिपुरा, अरुणाचल प्रदेश, हरियाणा और उत्तराखंड और दिल्ली सहित कई अन्य राज्यों के नाम शामिल हैं। राज्यों ने योजनाओं की घोषणा के साथ कहा कि ऐसे बच्चों के लालन-पालन, शिक्षा-दीक्षा सहित विकास के सभी संसाधन उपलब्ध कराना राज्य सरकार की भी जिम्मेदारी है।

Read More: Haryana bseh 12th Exam 2021: 12वीं की परीक्षा पैटर्न में हो सकता है बड़ा बदलाव, पूछे जा सकते हैं ऑब्जेक्टिव सवाल

प्रदेश सरकार की योजनाएं

उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, असम, त्रिपुरा, अरुणाचल प्रदेश, हरियाणा और उत्तराखंड और दिल्ली सरकार ने भी कोरोना से अनाथ हुए बच्चों के लिए कई घोषणाएं की हैं। इनमें बच्चों को मासिक भत्ता, निशुल्क शिक्षा,स्वास्थ्य सुविधा, राजकीय बाल गृह में अवयस्क बालिकाओं की देखभाल, निशुल्क राशन, लड़कियों को शादी के दौरान आर्थिक सहायता व अन्य सुविधाएं देने की घोषणा की है।

PM Cares Scheme for Children

कोरोना महामारी के चलते अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़ा ऐलान किया है। उन्होंने पीएम केयर्स फंड से ऐसे बच्चों को निशुल्क शिक्षा, स्वास्थ्य बीमा और अन्य लाभ देने की घोषणा की है। उन्होंने कहा है कि बच्चे देश के भविष्य का प्रतिनिधित्व करते हैं। इसलिए केंद्र सरकार ऐसे बच्चों के बेहतर भविष्य और सुरक्षा के लिए सब कुछ करेगी। पीएम मोदी के इस घोषणा के बाद 10 साल से कम उम्र के बच्चों को नजदीकी केंद्रीय विद्यालय या निजी स्कूल में डे स्कॉलर के रूप में प्रवेश दिया जाएगा। PM Care ड्रेस, पाठ्यपुस्तकों और नोटबुक्स पर होने वाले खर्च का भुगतान करेगा। 11 से 18 वर्ष के बीच के बच्चों को केंद्र सरकार के किसी भी आवासीय विद्यालय जैसे सैनिक स्कूल, नवोदय विद्यालय आदि में प्रवेश दिया जाएगा। 18 साल की उम्र में बच्चे को मासिक छात्रवृत्ति और 23 साल की उम्र में 10 लाख रुपए का फंड मिलेगा। आयुष्मान भारत के तहत 18 साल तक के बच्चों को 5 लाख रुपए का मुफ्त स्वास्थ्य बीमा दिया जाएगा और प्रीमियम का भुगतान पीएम केयर्स द्वारा किया जाएगा।

Read More: KIITEE 2021 phase 1 result declared: केआईआईटीईई फेज वन का रिजल्ट जारी, यहां से करें चेक

Web Title: Covid-19 Center And States Govt Announced Help Children Orphaned From Coronavirus

COVID-19
Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned