scriptAssam Assembly Elections 2021 CM Waiting Himanta Biswa Sarma view on Politics | Assam Assembly Elections 2021: जानिए कौन हैं सीएम इन वेटिंग हिमंत बिस्वा सरमा, राजनीति को लेकर ऐसे हैं विचार | Patrika News

Assam Assembly Elections 2021: जानिए कौन हैं सीएम इन वेटिंग हिमंत बिस्वा सरमा, राजनीति को लेकर ऐसे हैं विचार

Assam Assembly Elections 2021 अपने 22 वर्षों के राजनीतिक करियर के बावजूद बेटे को पॉलिटिक्स से दूर रखना चाहते हैं हिमंत बिस्वा सरमा

नई दिल्ली

Published: April 08, 2021 10:54:47 am

नई दिल्ली। असम विधानसभा चुनाव ( Assam Assembly Elections 2021 ) के तीनों चरण का मतदान पूरा हो चुका है। इसके साथ ही सभी राजनीतिक दलों के साथ पूरे देश की नजरें टिकी हैं 2 मई को आने वाले चुनाव नतीजों पर। इस दिन तय हो जाएगा कि जनता ने बीजेपी को दोबारा मौका दिया है या फिर सत्ता की चाबी किसी ओर के नाम कर दी है।
Himanta Biswa Sarma
हिमंत बिस्वा सरमा
हालांकि इस बीच सभी दलों ने अपनी-अपनी जीत के दावे भी किए हैं। वहीं इस चुनाव में कई बड़े चेहरे रहे जिन्होंने सबका ध्यान खींचा। इनमें सबसे बड़ा नाम रहा सीएम इन वेटिंग के तौर पर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ( Himanta Biswa Sarma ) का। हिमंत ना सिर्फ अपने बयानों बल्कि अगले सीएम के तौर पर भी चर्चा में रहे।
यह भी पढ़ेँः Assam Assembly Elections 2021: केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने बीजेपी के दोबारा सत्ता में आने का किया दावा, बताई ये वजह

हालांकि बीजेपी ने सर्बानंद सोनोवाल के नाम पर ही चुनाव लड़ा, लेकिन हिमंत बिस्वा का प्रचार भी शीर्ष नेताओं जमकर किया। आइए जानते हैं कौन हैं हिमंत बिस्वा सरमा और राजनीतिक को लेकर क्या है उनकी सोच।
असम सरकार में मंत्री हिमंत बिस्व सरमा राज्य के सबसे कद्दावर नेताओं में जाने जाते हैं। आलम यह है कि मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल से ज्यादा असम में सरमा ही चर्चा में रहते हैं।

छात्र जीवन में शुरू हुआ राजनीतिक करियर
हिमंत बिस्वा सरमा राज्य के पहली पीढ़ी के नेताओं में से एक रहे हैं। सरमा का राजनीतिक करियर छात्र जीवन में ही शुरू हो गया था।
जब वे स्कूल में पढ़ाई कर रहे थे, उस दौरान राज्य में अवैध बांग्लादेशियों के खिलाफ ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन (आसू) के नेतृत्व में असम आंदोलन की शुरुआत हुई थी।

वे छात्र राजनीति की तरफ आकर्षित हुए और आसू में शामिल होकर अपनी सक्रियता दिखाना शुरू कर दी।
1996 में लड़ा पहला चुनाव
इस दौरान उन्हें प्रफुल्ल कुमार महंत और भृगु कुमार फुकन के साथ रहने का मौका मिला। हालांकि, उन्हें चुनाव लड़ने का मौका पहली बार 1996 में मिला था। इसके बाद से उन्होंने कांग्रेस से बीजेपी तक में लंबा अनुभव हासिल किया।
गोगोई सरकार में शुरू हुआ हिमंत का सुनहरा दौर
वैसे तो हिमंत ने लगातार राजनीति में चढ़ाव ही देखा, लेकिन उनके राजनीतिक करियर का सुनहरा दौर गोगोई सरकार में ही शुरू हुआ। वर्ष 2001 में तरुण गोगोई असम के मुख्यमंत्री बने और इसके बाद 2002 में उन्होंने हिमंत को अपने मंत्रिमंडल में शामिल किया।
ऐसे मिली बड़ी जिम्मेदारी
गोगोई सरकार में शुरुआती दौर में तो हिमंत को बड़े विभाग नहीं मिले। उन्हें कृषि और योजना एवं विकास विभाग में राज्य मंत्री बनाया गया था। लेकिन धीरे-धीरे उन्होंने अपने कामों से अपनी जगह बनाना शुरू कर दी।
कुछ ही वर्षों में उन्हें बड़ी जिम्मेदारी वाले विभाग भी मिल गए। गोगोई सरकार में उन्हें वित्त, शिक्षा-स्वास्थ्य जैसे कई बड़े विभागों की जिम्मेदारी मिल गई।
यह भी पढ़ेँः Assam Assembly Elections 2021 चुनाव असम का, रणनीति 'राज-स्थान' की

गोगोई सरकार में भी नंबर दो
हिमंत ने अपना कद हमेशा बड़ा ही रखा। सोनोवाल सरकार में जहां उन्हें दूसरे नंबर पर गिना जाता है, वहीं इससे पहले गोगोई सरकार में भी हिमंत बिस्वा सरमा की हैसियत नंबर दो पर ही रही।
अब तक दबी रही सीएम बनने की चाह
अपने बढ़ते कद के बीच हिमंत की चाह भी बढ़ने लगी। सरमा असम के मुख्यमंत्री बनने का सपना देखने लगे तो वर्ष 2011 के विधानसभा चुनाव में गोगोई परिवार ने उन्हें किनारा करना शुरू कर दिया।
गोगोई परिवार के मनमुटाव का असर यह रहा कि हिमंत बिस्वा सरमा की नजदीकियां बीजेपी से बढ़ने लगीं और उन्होंने आखिरकार बीजेपी का ही दामन थाम लिया।

बेटे को राजनीति से रखना चाहते हैं दूर
हिमंत बिस्वा सरमा ने भले ही राजनीति में लगातार आगे बढ़े हों, लेकिन वे नहीं चाहते हैं उनका बेटा राजनीति में कदम रखे और अपना करियर बनाए।
सरमा का मानना है कि उनका बेटा नंदिल अभी 18 साल का है। यह बेहतर होगा कि वह राजनीति से जितना हो सके दूर रहे।

युवा पीढ़ी में नहीं चुनौती झेलने की ताकत
सरमा के मुताबिक, अपने बेटे को इस दुनिया में कदम नहीं रखवाना चाहता हूं, जिस तरह की चुनौतियां मैंने झेली हैं, मुझे नहीं लगता कि मौजूदा पीढ़ी ऐसी चुनौतियां झेल सकती है। उन्होंने कहा कि उनका बेटा अगले कुछ महीनों में लॉ यूनिवर्सिटी जॉइन करेगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

'हर घर तिरंगा' अभियान में शामिल हुई PM नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन, बच्‍चों के संग फहराया राष्‍ट्रीय ध्‍वज7,500 स्टूडेंट्स ने मिलकर बनाया सबसे बड़ा ह्यूमन फ्लैग, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ नामबिहारः सत्ता गंवाते ही NDA के 3 सांसद पाला बदलने को तैयार, महागठबंधन में शामिल होने की चल रही चर्चा'फ्री रेवड़ी ' कल्चर व स्कूल के मुद्दे पर संबित्र पात्रा ने AAP को घेरा, कहा- 701 स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं, 745 स्कूलों में नहीं पढ़ाया जाता विज्ञानPM मोदी ने कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लेने वाले दल से मुलाकात की, कहा- विजेताओं से मिलकर हो रहा गर्वप्रियंका के बाद अब सोनिया गांधी भी दोबारा हुईं कोरोना पॉजिटिव, तेजस्वी यादव ने कल ही की थी मुलाकातजम्मू कश्मीर में टेरर लिंक मामले में बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार सरकारी कर्मचारी बर्खास्त2009 में UPSC किया टॉप, 2019 में राजनीति के लिए नौकरी छोड़ी, अब 2022 में फिर कैसे IAS बने शाह फैसल?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.