scriptUP Assembly Election 2022 Third Phase polling Voters | तीसरे चरण का रण - आलू, तंबाकू और गुलाब के आगे नहीं चल पा रहा हिजाब, मतदाता मांग रहे हैं पांच साल में किए कामों का हिसाब | Patrika News

तीसरे चरण का रण - आलू, तंबाकू और गुलाब के आगे नहीं चल पा रहा हिजाब, मतदाता मांग रहे हैं पांच साल में किए कामों का हिसाब

तीसरे चरण के रण में भी नेताओं का दिन खेतों में ही बीत रहा है। कहीं आलू के ढेर के बीच तो कहीं हरे-भरे तंबाकू खेत के बीच खड़े नेताओं से किसान सवाल दर सवाल दाग रहे हैं। नेताओं को मतदाता बरसाती मेंढक करार दे रहे हैं। उनका कहना है कि किसानों के दर्द और उनकी समस्याओंं पर कोई बात नहीं हो रही।

लखनऊ

Published: February 17, 2022 02:24:59 pm

UP Assembly Elections 2022: पश्चिमी यूपी में पहले और दूसरे चरण के चुनाव में नेता गन्ना खेतों का चक्कर लगा रहे थे। तब गन्ने की ठूँठ से ज्यादा उन्हें किसानों की बातें चुभ रही थीं। तीसरे चरण के रण में भी नेताओं का दिन खेतों में ही बीत रहा है। कहीं आलू के ढेर के बीच तो कहीं हरे-भरे तंबाकू खेत के बीच खड़े नेताओं से किसान सवाल दर सवाल दाग रहे हैं। गुलाब की खेती करने वाले वोटर्स नेताओं से पिछले पांच साल में किए कामों का ब्योरा मांग रहे हैं। आलू, तंबाकू और गुलाब की महक के मुकाबले में भाजपा के हिजाब की चर्चा दब गयी है। ...तो विपक्षी पार्टियों को मतदाता बरसाती मेंढक करार दे रहे हैं। उनका कहना है कि किसानों के दर्द और उनकी समस्याओंं पर कोई बात नहीं हो रही। मतदाताओं के बिगड़े मूड से नेताओं के चेहरों की हवाईयां उड़ रही हैं।
तीसरे चरण का रण - आलू, तंबाकू और गुलाब के आगे नहीं चल पा रहा हिजाब
तीसरे चरण का रण - आलू, तंबाकू और गुलाब के आगे नहीं चल पा रहा हिजाब
59 में से 36 सीटों पर आलू किसान करेंगे फैसला

फर्रुखाबाद, कन्नौज, मैनपुरी और कानपुर के बिल्हौर से लेकर फिरोजाबाद तक खेतों में आलू के ढेर लगे हैं। आलू बेल्ट के इस पूरे इलाके में सड़क किनारे आलू के खेत दिखते हैं। शीतगृहों के सामने आलू लदे ट्रैक्टर खड़े हैं। खेतों में आलू की बोरियां लद रही हैं। वोट पाने की प्रत्याशा में नेताजी आलू की बोरियां लदवा रहे हैं। समूचे आलू बेल्ट के किसानों गुस्सा सातवें आसमान पर है। अकेले फर्रूखाबाद में 11 लाख मीट्रिक टन से ज्यादा आलू पैदा होती है। किसानों का कहना है चुनावों में वादे होते हैं। लेकिन, आलू की खपत बढ़ाने के लिए उद्योग नहीं लग सके। नेता हर चुनाव में चिप्स, अल्कोहल फैक्टरी और आलू पाउडर बनाने की बात कहते हैं। अंतत: हर साल औने-पौने दामों में आलू बेचने की मजबूरी होती है।
यह भी पढ़ें

हिजाब के पीछे अब खुला दिमाग रखती हैं मुस्लिम महिलाएं,इन मुददों पर कर रही मतदान

यूपी देश का सबसे बड़ा आलू उत्पादक

यूपी देश का सबसे बड़ा आलू उत्पादक राज्य है। यहां 6.1 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में आलू बोया जाता है। हर साल करीब 147.77 लाख मीट्रिक टन आलू उत्पादन होता है। कम से कम 40 लाख आबादी इस खेती से जुड़ी है। लेकिन, साल दर साल आढ़ती के सहारे ही आलू बेचेने का दर्द हर किसान के चेहरे पर पढ़ा जा सकता है।
'मैनपुरी तंबाकू' का बिजनेस बचाना बड़ी चुनौती

मैनपुरी जिलों के खेतों में तंबाकू की फसल लहलहा रही है। लेकिन किसान परेशान हैं। इन्हें खरीददार नहीं मिल रहा। फेमस 'मैनपुरी तंबाकू' बेचने वालों का बिजनेस मरणासन्न अवस्था में है। यहां की करहल सीट से सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव चुनाव लड़ रहे हैं। देशभर की निगाहें यहां टिकी हैं। लेकिन, देश-दुनिया में मशहूर मैनपुरी की तंबाकू की महक और तंबाकू विक्रेताओं के तीखे सवालों से नेताओं के माथे पर पसीने चुहचुहा रहा है। मैनपुरी तंबाकू पर कई देशों ने प्रतिबंध लगा दिया गया है। तंबाकू का कच्चा माल महंगा हो गया है। फेमस कपूरी तंबाकू महीन कटी हुई सुपारी, पिसी हुई लोंग, पिसी हुई इलायची, केवड़ा और चंदन के पाउडर से तैयार होती है। इन पर भारी जीएसटी लगती है। इससे कारोबारी परेशान हैं। यहां की किसी भी गली में चले जाइए, तंबाकू की तीक्ष्ण गमक से नथुने भर जाते हैं। किसानों के साथ ही विक्रेताओं की चिंता यही है कि उनकी समस्यायों पर कोई बात नहीं कर रहा है।
यह भी पढ़ें

केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा ने संभाली अयोध्या की कमान, कहा पूरा हुआ राम मंदिर का संकल्प

इत्र नगरी में बागों में मुरझा रहा फूलों का राजा

कनौज, फर्रुखाबाद और आसपास के कुछ जिलों में खेतों में सुर्ख गुलाब लहलहा रहा है। गुलाब, गेंदे और चमेली के फूलों की खेती से यहां के किसान खुशहाल थे। लेकिन पिछले दो सालों में कोरोना महामारी ने उन्हें तगड़ा झटका दिया है। कनौज की इत्र की भट्टियां ठंडी पड़ी हैं। आसवानियों के न चलने से खस की घास खेतों में सूख रही है। सुर्ख गुलाब की पंखुडिय़ां भी खेतों में ही मुरझा कर गिर रही हैं। कारोबार चलेगा इस उम्मीद में किसानों ने गेंदा, चमेली और तमाम अन्य औषधीय पौधों की रोपाई की थी। लेकिन खड़ी फसलों के खरीदार नहीं आ रहे। इससे किसानों के चेहरे पर मायूसी पसरी है। उनका कहना है, हमारी इस समस्या पर कोई नेता ध्यान ही नहीं दे रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठाLiquor Latest News : पियक्कडों की मौज ! रात एक बजे तक खरीदी जा सकेगी शराबशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफMorning Tips: सुबह आंख खुलते ही करें ये 5 काम, पूरा दिन गुजरेगा शानदारDelhi Schools: दिल्ली में बदलेगी स्कूल टाइमिंग! जारी हुई नई गाइडलाइनMahindra Scorpio 2022 का लॉन्च से पहले लीक हुआ पूरा डिजाइन और लुक, बाहर से ऐसी दिखती है ये पावरफुल कारबैड कोलेस्‍ट्राॅल और डिमेंशिया को कम करके याददाश्त को बढ़ाता है ये लाल खट्‌टा-मीठा फल, जानिए इसके और भी फायदेAC में लगाइये ये डिवाइस, न के बराबर आएगा बिजली बिल, पूरे महीने होगी भारी बचत

बड़ी खबरें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी टोक्यो पहुंचे, भारतीय प्रवासियों ने किया स्वागत, जापानी बच्चे के हिन्दी बोलने पर गदगद हुए PMदिल्ली-NCR में सुबह आंधी और बारिश से कई जगह उखड़े पेड़, विमान सेवा प्रभावितज्ञानवापी मामले के बीच गोवा के सीएम का बड़ा बयान, प्रमोद सावंत बोले- 'जहां भी मंदिर तोड़े गए फिर से बनाए जाएं'BJP को सरकार बनाने के लिए क्यों जरूरी है काशी और मथुरा? अयोध्या से बड़ा संदेश देने की तैयारीबेल्जियम, पहला देश जिसने मंकीपॉक्स वायरस के लिए अनिवार्य किया क्वारंटाइनएशिया कप हॉकी: पहले ही मैच में भिड़ेंगे भारत और पाकिस्तान, ऐसा है दोनों टीमों का रिकॉर्डआख़िर क्यों असदुद्दीन ओवैसी बार-बार प्लेसेज ऑफ़ वर्शिप एक्ट की बात कर रहे हैं, जानें क्या है यह एक्टकपिल देव के AAP में शामिल होने की चर्चा निकली गलत, सोशल मीडिया पर पूर्व कप्तान ने खुद साफ की स्थिति
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.