सरकारी अस्पताल के आवास में हो रहा था गंदा काम, चिकित्सा अधिकारी अचानक पहुंचे और फिर....

निधौली कलां के सीएचसी का है मामला, सीएमओ ने दिए जांच के आदेश।

By: धीरेंद्र यादव

Published: 07 Jun 2018, 03:51 PM IST

आगरा। उत्तर प्रदेश के एटा जिले में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र परिसर के अंदर सरकारी आवास में अवैध रूप से गर्भपात का धंधा चल रहा था। यह खुलासा तब हुआ चिकित्सा अधीक्षक अपने आवास की ओर जा रहे थे। इस मामले में बेसिक हैल्थ वर्कर और एक स्वीपर पकड़ा गया। कमरे को सील करने के साथ ही विभागीय कार्रवाई की तैयारी शुरू हो गई है।

ये भी पढ़ें - आतंकी निशाने पर क्यों हैं ये धार्मिक स्थल, जानिए चौंकाने वाला कारण

ये है मामला
ये मामला निधौली कलां स्थित सीएचसी का है। यहां पर चिकित्सा अधीक्षक डॉ. महराज सिंह ने अपने आवास की ओर जा रहे थे, तभी उन्होंने स्वीपर राजू और उसकी पत्नी कौशल्या चिकित्सकीय ग्लब्स पहने नजर आई। मामला संदिग्ध होने पर डॉ. महराज सिंह ने अस्पता से डॉ. उजमा अख्तर, डॉ. स्वाति कटियार, एचवी सुधा रानी, स्टाफ नर्स दीपमाला मिश्रा सहित अन्य स्टॉफ को बुला लिया। टीम के साथ उन्होंने आवास पर छापा मारा। अंदर का नजारा देख चिकित्सा अधिकारी के होश उड़ गए।

ये भी पढ़ें - उत्तर प्रदेश के आगरा में आरक्षण की मांग को लेकर रोक दी ट्रेन, जमकर हुआ हंगामा

अंदर हो रहा था गर्भपात
कमरे के अंदर गांव गहेतू की एक महिला मौजूद थी, जिसका गर्भपात किया जा रहा था। कमरे में खून से सने औजार रखे हुए थे। इस कार्य में अस्पताल में ही तैनात बीएचडब्लू शकुंतला भी शामिल थीं, जबकि कौशल्या उसका सहयोग कर रहीं थीं। मामले को गंभीरता से देखते हुए अधीक्षक ने गर्भपात कराने का पूरा सामान अपने कब्जे में लेकर कमरा सील कर दिया। सीएमओ डॉ. अजय अग्रवाल ने इस मामले में बताया कि जिला मुख्यालय से जांच के लिए एक टीम भेजी जाएगी। दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

ये भी पढ़ें - राज्य महिला आयोग की सदस्य ससुराल से पीड़ित महिलाओं से बोलीं आगे मिले कोई परेशानी, तो इस तरह सिखायें सबक

धीरेंद्र यादव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned