ब्रिटेन: जाकिर नाइक के पीस टीवी पर नफरत फैलाने वाले भाषण दिखाने का आरोप, 2.75 करोड़ रुपए का लगा जुर्माना

HIGHLIGHTS

  • पीस टीवी उर्दू के लाइसेंस धारकों पर दो लाख पाउंड और पीस टीवी पर एक लाख पाउंड का जुर्माना लगाया गया है
  • पीस टीवी पर नफरत फैलाने वाले भाषण और आपत्तिजनक विषयवस्तु का प्रसारण करने का आरोप है
  • जाकिर नाइक पर समाज में नफरत फैलाने व कट्टरपंथ को बढ़ावा देने के मामले में भारत में वांछित है

By: Anil Kumar

Published: 17 May 2020, 04:06 PM IST

लंदन। समाज में अपने भाषणों के जरिए धार्मिक नफरत फैलाने वाले विवादित इस्लामिक प्रचारक जाकिर नाइक के पीस टीवी नेटवर्क पर एक बार फिर से कार्रवाई की गई है। लंदन में पीस टीवी पर तीन लाख पाउंड (यानी 2.75 करोड़ रुपये) का जुर्माना लगाया गया है।

ब्रिटेन में मीडिया पर निगरानी रखने वाले नियामक ऑफकॉम नामक संस्था की ओर से पीस टीवी पर जुर्माना लगाने की ये कार्रवाई की गई है। आरोप है कि पीस टीवी पर नफरत फैलाने वाले भाषण और अत्यधिक आपत्तिजनक विषयवस्तु का प्रसारण किया जा रहा था।

विवादित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक को मालदीव में घुसने पर रोक

ऑफकॉम ने प्रसारण संबंधी नियमों के उल्लंघन करने को लेकर पीस टीवी उर्दू के लाइसेंस धारकों पर दो लाख पाउंड और पीस टीवी पर एक लाख पाउंड का जुर्माना लगाया है। ऑफकॉम की ओर से बयान जारी किया गया और बताया कि जांच में ये पाया कि पीस टीवी उर्दू और पीस टीवी पर प्रसारित कार्यक्रमों का प्रसारण सिर्फ नफरत फैलाने के उद्देश्य से किया गया है और आपत्तिजनक विषय वस्तुओं को दिखाया गया है। ऐसे भाषण व आपत्तिजनक चीजों को देखकर समाज में अपराध बढ़ने की संभावना काफी बढ़ जाती है।

मलेशिया में छिपा है जाकिर नाइक

ऑफकॉम की ओर से कहा गया है कि यह जुर्माना इसलिए लगाया गया है ताकि अगली बार से प्रसारण के नियमों का पालन करें। आपको बता दें कि जाकिर नाइक पर समाज में नफरत फैलाने व कट्टरपंथ को बढ़ावा देने के मामले में भारत में वांछित है। भारत से वह भागकर मलेशिया में शरण लेकर रह रहा है।

भारत सरकार की ओर से लगातार प्रत्यर्पण को लेकर प्रयास किया जा रहा है ताकि जाकिर नाइक को वापस लाया जा सके और उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा सके।

जाकिर नाइक का वीडियो शेयर कर दिग्विजय सिंह ने मोदी और शाह पर किया बड़ा हमला

मालूम हो कि जाकिर नाइक पीस टीवी कंपनी का मालिक है। पीस टीवी पर जाकिर नाइक धार्मिक भाषण करता है और लोगों को इस्लाम की ओर प्रेरित करने का काम करता है। लेकिन अब धार्मिक कट्टरता फैलाने के आरोप में ब्रिटेन में कार्रवाई की गई है। भारत में पहले से ही केस दर्ज हैं।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned