Raksha Bandhan vedic mantra and muhurat : इस विधान से वैदिक मंत्रों का उच्चारण करते हुए बांधे राखी, नहीं आएगी जीवन में कोई भी बाधा

Raksha Bandhan vedic mantra and muhurat : इस विधान से वैदिक मंत्रों का उच्चारण करते हुए बांधे राखी, नहीं आएगी जीवन में कोई भी बाधा

Shyam Kishor | Publish: Aug, 14 2019 11:17:10 AM (IST) त्यौहार

Raksha Bandhan vedic mantra and muhurat : इन मंत्रों का उच्चारण कर संकल्प के साथ बहनें अपने भाई के हाथ पर राखी बांधे तो भाईयों की भूत-प्रेत एवं अन्य बाधाओं से हमेशा रक्षा होती है।

रक्षाबंधन ( Raksha Bandhan vedic mantra ) के पवित्र दिन सुबह भाई बहन दोनों ही स्नान के जल में गंगा जल मिलाकर स्नान करें। स्नान के बाद सबसे पहले अपने ईष्ट देव श्री भगवान का पूजन कर उनकों राखी बांधने के बाद- रोली, अक्षत, कुमकुम एवं दीप जलकर थाल सजायें, फिर थाल में राखियों को रखकर उनकी पूजा करें। राखी का पूजन करने के बाद बहनें अपने भाइयों को नीचे दिये गये वैदिक मंत्रों का उच्चारण करते हुए राखी बांधें।

 

श्रावणी पूर्णिमा पर ऐसे करें महादेव का षोडशोपचार पूजन, सारी मनोकामना हो जायेगी पूरी

 

राखी बाधने से पहले बहने अपने भाई के माथे पर कुमकुम, रोली एवं अक्षत से नीचे दिये मंत्र का उच्चारण करते हुए तिलक करें। तिलक के बाद इस वैदिक मंत्र का उच्चारण करते हुए भाई की दाहिनी कलाई पर राखी बांध कर आरती उतारे और मिठाई खिलाकर जीवन भर मीठा बोलने का संकल्प करें है। जब बहन भाई को राखी बांध दे तो भाई भी बहन के सिर पर आजीवन रक्षा करने का आशीर्वाद देते हुए कुछ उपहार या धन भेट करें । उपहार लेने के बाद बहनें भी भाई की लम्बी उम्र एवं सुख तथा उन्नति की कामना करतेे हुए मिठाई खिलावें।

 

सभी पापों से मिलेगी मुक्ति, रक्षाबंधन पूर्णिमा पर इन चीजों से करे स्नान


तिलक लगाने का मंत्र

ॐ चन्दनस्य महत्पुण्यं, पवित्रं पापनाशनम्।
आपदां हरते नित्यम्, लक्ष्मीस्तिष्ठति सर्वदा॥

राखी बाधने का मंत्र

येन बद्धो बलिः राजा दानवेन्द्रो महाबलः।
तेन त्वामभिबध्नामि रक्षे मा चल मा चल॥
ॐ व्रतेन दीक्षामाप्नोति, दीक्षयाऽऽप्नोति दक्षिणाम्।
दक्षिणा श्रद्धामाप्नोति, श्रद्धया सत्यमाप्यते॥

 

बहनें ऐसे करें राखी बांधने की मंगल तैयारी, हमेशा बना रहेगा भाई-बहन में प्यार

 

रक्षा बंधन के दिन इन मंत्रों का उच्चारण कर संकल्प के साथ बहनें अपने भाई के हाथ पर राखी बांधने से भूत-प्रेत एवं अन्य बाधाओं से भाई की रक्षा होती है। इस दिन भाई-बहनों के अलावा पुरोहित भी अपने यजमान को राखी बांधते हैं और यजमान अपने पुरोहित को। इस प्रकार राखी बंधकर दोनों एक दूसरे के कल्याण एवं उन्नति की कामना करते हैं। प्रकृति भी जीवन के रक्षक हैं इसलिए रक्षाबंधन के दिन कई स्थानों पर वृक्षों को भी राखी बांधी जाती है। ईश्वर संसार के रचयिता एवं पालन करने वाले हैं अतः इन्हें रक्षा सूत्र अवश्य बांधना चाहिए।

*****************

 Raksha Bandhan vedic mantra
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned