RBI का बड़ा फैसले 180 दिनों के बाद डिफॉल्ट लोन बनेगा NPA, जानें किसे होगा फायदा

  • 180 दिनों के बाद घोषित होगा NPA
  • बैंको को मिलेगी राहत
  • बैंको के लिए समस्या है NPA

By: Pragati Bajpai

Updated: 18 Apr 2020, 07:35 AM IST

नई दिल्ली: 27 मार्च के बाद एक बार फिर से rbi ने अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए कुछ कड़े फैसले लिए । इनमें से एक फैसला बैंको के NPA के संबंध में भी लिया गया। दरअसल भारतीय बैंकों में NPA की समस्या बढ़ती जा रही है। इसी सिलसिले में RBI ने अब डिफाल्ट लोन को NPA घोषित करने की अवधि बढ़ा दी है। अब 90 दिनों की जगह 180 दिनों में डिफॉल्ट लोन को नॉन परफार्मिंग असेट्स घोषित किया जाएगा।

कोरोना ने बिगाड़ा टूरिज्म इंडस्ट्री का खेल, 96 फीसदी जगहों पर लगा है बैन

बैंक, लोन की किस्तों में देरी के आधार पर किसी अकाउंट को स्टैंडर्ड, सब-स्टैंडर्ड और डाउटफुल तीन कैटेगरी में बांटते हैं। नए ऐलान के बाद 90 दिनों के डिफॉल्ट के बावजूद बैंक उस लोन अकाउंट को स्टैंडर्ड की कैटेगरी में रखेंगे।

पहले कोई ऐसी वजह जिसमें प्रमोटर कुछ नहीं कर सकता और इसके चलते किसी कंपनी के कमर्शियल ऑपरेशंस शुरू होने में देरी होने पर उस लोन को एक साल तक NPA में नहीं डाले जाने की सुविधा दी गई थी। अब यह सुविधा NBFC को भी दी जा रही है।

1.9 फीसदी की रफ्तार से बढ़ेगी भारत की अर्थव्यवस्था, G20 देशों में सबसे ज्यादा

इसके अलावा बैंको को राहत देने के लिए RBI ने और भी कई फैसेल किये हैं। जिसमें शेड्यूल कमर्शियल बैंकों के लिए लिक्विड कवरेज रेशियो ( LCR ) 100 फीसदी से घटाकर 80 फीसदी कर दिया गया है। यानि बैंकों के पास अब 20 फीसदी कैश ज्यादा होगा। यह फैसला तत्काल प्रभाव से लागू हुआ। अक्टूबर 2020 तक इसे बढ़ाकर 90 फीसदी और अप्रैल 2021 तक इसे फिर से 100 फीसदी कर दिया जाएगा।

rbi
Pragati Bajpai
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned