एक साल में बैंकों के साथ 71,542 करोड़ रुपए का फ्रॉड, आरटीआई में हुआ खुलासा

एक साल में बैंकों के साथ 71,542 करोड़ रुपए का फ्रॉड, आरटीआई में हुआ खुलासा

Saurabh Sharma | Updated: 04 Jun 2019, 03:08:21 PM (IST) फाइनेंस

  • एक आरटीआई के जवाब में आरबीआई ने जारी किए आंकड़ें
  • एक साल में आरबीआई ने 6,801 धोखाधड़ी के मामले दर्ज किए
  • 11 वित्तीय वर्षों में बैंकों को धोखाधड़ी से 2 लाख करोड़ की चपत

नई दिल्ली। जब से नीरव मोदी और मेहुल चौकसी का पंजाब नेशनल बैंक फ्रॉड मामला सामने आया है। तब से देश में ऐसे मामलों की बाढ़ सी आ गई है। पिछले एक साल में इस तरह के मामलों ने पूरे देश को हिलाया हुआ है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा दिए आरटीआई के सवाल के जवाब में बैंक फ्रॉड से जुड़े ऐसे आंकड़े सामने आए हैं जो आपको भी चौंका देंगे। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर रिजर्व बैंक की ओर से इन मामलों के मद्देनजर किस तरह के आंकड़ें पेश किए हैं।

यह भी पढ़ेंः- एक दिन की बढ़त के बाद शेयर बाजार में गिरावट, सेंसेक्स 80 अंक नीचे, निफ्टी में 32 अंक फिसला

71,542.93 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी
रिजर्व बैंक ने आरटीआई के जवाब में जानकारी देते कहा है कि वित्त वर्ष 2018-19 में बैंकों से जुड़ी धोखाधड़ी के 71,542.93 करोड़ रुपए के मामले सामने आए हैं। वहीं 6,801 मामले रिपोर्ट हुए हैं। वहीं इससे पहले वित्त वर्ष 2017-18 में 41,167.03 करोड़ रुपए और 5,916 मामले उजागर हुए थे। आरबीआई ने बताया कि धोखाधड़ी वाली राशि में एक साल में 73 फीसदी की बढ़ोतरी देखने को मिली है। आरबीआई के यह आंकड़ें काफी चौंकाने वाले हैं। जबकि आरबीआई और केंद्र सरकार बैंकों के साथ होने वाले धोखाधड़ी के मामलों को रोकने का दावा करती रही है।

RBI

11 सालों में लाखों करोड़ रुपए की चपत
आरबीआई द्वारा आरटीआई में दिए आंकड़ों के अनुसार बीते 11 वित्तीय वर्षों में बैंकिंग धोखाधड़ी के तहत 2.05 लाख करोड़ रुपए की भारी भरकम हवा हो गई है। इस दौरान धोखाधड़ी के कुल 53,334 मामले दर्ज हुए हैं। ताज्जुब की बात तो ये है कि इन 11 सालों में दो अलग-अलग विचारधाराओं की सरकारें रहीं। लेकिन दोनों में किसी ने भी इन धोखाधड़ी को रोकने का कोई प्रयास नहीं किया।

यह भी पढ़ेंः- शेयर बाजार से लेकर देश की इकोनाॅमी ग्रोथ तक जानिए एक क्लिक में…

Reserve bank of india

साल दर साल होती रही धोखाधड़ी
बैंकिंग सेक्टर में डुबाने में किसी एक साल, सरकार या व्यक्ति को को जिम्मेदार मानना गलत होगा। इसे साल दर साल के हिसाब से देखें तो मामला समझने में देर नहीं लगेगी कि इस मामले में पूरा सिस्टम ही जिम्मेदार है। आंकड़ों पर गौर करें तो वित्तीय वर्ष 2008- 09 में 1,860.09 करोड़ रुपए के 4,372 मामले सामने आए थे। इसके बाद 2009- 10 में 1,998.94 करोड़ रुपए के 4,669 मामले दर्ज हुए। वित्त वर्ष 2015- 16 में 18,698.82 करोड़ रुपये 4,693 और मामले सामने आए। वहीं वित्तीय वर्ष 2016- 17 23,933.85 करोड़ रुपए मूल्य के 5,076 सामने सामने आए।

यह भी पढ़ेंः- Today Petrol-Diesel Price: लगातार छठे दिन पेट्रोल के दाम में 7 और डीजल की कीमत में 20 पैसे की गिरावट

Rbi

आरबीआई को कार्रवाई के बारे में नहीं है जानकारी
हैरानी वाली बात तो ये है कि बैंकिंग धोखाधड़ी में कितने लोगों पर क्या और किस तरह की कार्रवाई हुई इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। आरबीआई अधिकारियों की मानें तो आरबीआई को धोखाधड़ी के बारे में प्राप्त जानकारी इंफोर्समेंट एजेंसियों के पास जाकर मामले दर्ज कराने होते हैं। उसके बाद किस पर क्या कार्रवाई होती है उसके बारे में कोई जानकारी नहीं है। आपको बता दें कि मौजूदा समय में देश के दो भगोड़ों को लेकर भारत सरकार काफी चिंतित है। दोनों नीरव मोदी और विजय माल्या लंदन की कोर्ट में अपने आपको बचाने की कोशिशों में जुटे हैं।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned