Bank Account प्रीवैलिडेट ना करने का भुगतना पड़ सकता है खामियाजा, अटक सकता है आपका Income Tax Refund

  • अप्रैल से जुलाई तक आयकर विभाग ने जारी किये करोड़ों के रिफंड
  • 2-3 महीने में मिल जाता है इनकम टैक्स रिफंड
  • आप खुद भी हो सकते हैं देरी के जिम्मेदार

By: Pragati Bajpai

Published: 28 Jul 2020, 07:15 PM IST

नई दिल्ली : आयकर विभाग यानी Income Tax department ने 8 अप्रैल से लेकर के 11 जुलाई के बीच लगभग 21 लाख से ज्यादा टैक्सपेयर्स को 71000 करोड़ का टैक्स रिफंड जारी किया है ।अगर आप भी उम्मीद लगा रहे थे कि इस दौरान आपको भी रिफंड मिल जाएगा और अभी तक आपका रिफंड आपको नहीं मिला है तो इसके कई कारण हो सकते हैं और उनमें से कुछ कारणों के लिए आप खुद ही जिम्मेदार हो सकते हैं । इसीलिए आज मैं आपको कुछ ऐसे कारण बताएंगे जिसकी वजह से रिफंड मिलने में देर हो जाती है

रेलवे टिकट बुकिंग होगी और भी सस्ती, SBI ने IRCTC के साथ मिलकर लांच किया नया RUPAY CARD

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के ईमेल का जवाब न देना - आईटी डिपार्टमेंट में काम करने वाले अधिकारियों का कहना है कि आयकर विभाग से भेजे गए ईमेल का जब करदाता यानी टैक्सपेयर्स जवाब नहीं देते हैं तो ऐसे में उनका रिफंड अटक जाता है ।डिपार्टमेंट की ओर से भेजे जाने वाले ईमेल में टैक्सपेयर से उनकी बकाया मांगे उनके बैंक खाते और रिफंड में किसी भी तरह के अंतर के बारे में जानकारी मांगी जाती है और जब यह जानकारी विभाग तक नहीं पहुंचती है तो ऐसे में वह रिफंड प्रोसेस नहीं करते हैं ।इसलिए अगर आपका रिटर्न अभी तक वापस नहीं आया है तो आप चेक कर सकते हैं कि कहीं आप यह गलती तो नहीं कर रहे ।

रिफंड न आने का दूसरा सबसे बड़ा कारण होता है बैंक अकाउंट ( bank account ) का प्रीवैलिडेट ना होना- जिस खाते में इनकम टैक्स रिफंड आना होता है उस बैंक खाते को अगर टैक्सपेयर्स प्रीवैलिडेट नहीं करता यानी टाइम से वेरीफाई नहीं कर आते हैं तब भी इनकम टैक्स रिफंड अटक जाता है ।इसीलिए अगर आप चाहते हैं कि आपका रिफंड आपको टाइम से मिले तो आप अपने अकाउंट को सत्यापित जरूर करा लें क्योंकि टैक्स रिटर्न फाइल करने के बाद आपका जो भी रिटर्न बनेगा वह इनकम टैक्स डिपार्टमेंट सेंट्रलाइज्ड प्रोसेसिंग सेंटर के जरिए इसी अकाउंट में भेजेगा ।

रिटर्न ( ITR ) वेरीफाई ना करना -कई बार कि लोग इनकम टैक्स रिटर्न ( Income Tax Return ) तो टाइम पर भर देते हैं लेकिन वह अपने रिटर्न को वेरीफाई नहीं करते जब तक आप इसे वेरीफाई नहीं करेंगे आपका रिटर्न प्रोसेस नहीं होता इसीलिए रिफंड मिलने में भी देरी हो जाती है ।

आमतौर पर इनकम टैक्स रिटर्न ( Income Tax Return ) कर रिफंड ( Refund ) मनी में 2 से 3 महीने का समय लग जाता है लेकिन अगर आप कोई से ज्यादा का वक्त लग रहा है तो आप इन कारणों में से देख सकते हैं कि आपका रिटर्न आखिर क्यों नहीं आया और अगर आप अपने रिफंड का स्टेटस चेक करना चाहते हैं तब भी आप refundstatuslogin.html पर यह जानकारी ले सकते हैं

Pragati Bajpai
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned