चंदा कोचर पर आर्इ नई आफत, लॉ फर्म ने वापस ली क्लीन चिट

चंदा कोचर पर आर्इ नई आफत, लॉ फर्म ने वापस ली क्लीन चिट

Ashutosh Kumar Verma | Publish: Oct, 24 2018 03:44:07 PM (IST) | Updated: Oct, 25 2018 08:17:54 AM (IST) फाइनेंस

आर्इसीआर्इसीआर्इ बैंक ने मंगलवार को इस बारे में जानकारी देते हुए कहा कि सिरील अमरचंद मंगलदास लाॅ फर्म ने अपनी रिपोर्ट को विड्राॅ कर लिया है।

नर्इ दिल्ली। विडियाेकाॅन-आर्इसीआर्इसीआर्इ लोन मामला अब एक नए मोड़ पर पहुंच गया है। आर्इसीआर्इसीआर्इ बैंक की पूर्व सीर्इआे व एमडी को क्लीन चिट देने वाली लाॅ फर्म ने अपनी रिपोर्ट वापस ले ली है। आर्इसीआर्इसीआर्इ बैंक ने मंगलवार को इस बारे में जानकारी देते हुए कहा कि सिरील अमरचंद मंगलदास लाॅ फर्म ने अपनी रिपोर्ट को विड्राॅ कर लिया है। बता दें कि चंदा कोचर पर अपने पद का दुरूपयोग करते हुए करीबियों को फायदा पहुंचाने के आरोप को लेकर इस लाॅ फर्म ने क्लीन चिट दिया था।


चंदा कोचर की नेतृत्व में आर्इसीआर्इसीआर्इ बैंक उस कंसाॅर्टियम का हिस्सा था जिसने विडियोकाॅन ग्रुप को लोन दिया था। चंदा कोचर पर आरोप है कि इस लोन के बदले विडियोकाॅन के मालिक वेणुगोपाल राव ने उनके पति दीपक कोचर को व्यापारिक फायदा पहुंचाया है। बताते चलें की इस मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायधीश बी श्रीकृष्णा कर रहे है। न्यायधीश श्रीकृष्णा ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि अभी यह बात पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है कि चंदा कोचर ने बैंक के नियमों को उल्लंघन किया है या नहीं।


जानिक इस मामले में अब तक पूरी कहानी

1. वेणुगोपाल धूत ने नवंबर 2008 में न्यूपावर रिन्यूवेबल्स प्राइवेट लिमिटेड नाम से एक क्लिन एनर्जी फर्म बनार्इ थी। इस फर्म का मालिकाना हक दीपक कोचर उनके रिश्तेदारों के पास था।

2. इस मामले का खुलासा तब हुआ जब एक व्हिसलब्लोअर ने कहा कि साल 2012 में भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआर्इ) की नेतृत्व में 20 बैंकों के कंसाॅर्टियम ने शामिल आर्इसीआर्इसीआर्इ बैंक ने विडियोकाॅन को 3250 करोड़ रुपए के लोन की मंजूरी दी थी। व्हिसलब्लोअर ने अपने आरोप में कहा है कि चंदा कोचर को पता था कि उनके पति दीपक कोचर आैर विडियोकाॅन के मालिक वेणुगोपाल के बीच व्यापारिक संबंध हैं।

3. इस लोन की मंजूरी मिलने के छह महीने बाद दीपक कोचर को न्यूपावर रिन्यूवेबल प्राइवेट लिमिटेड में पूरी तरह से मालिकाना हक मिल गया था।

4. दिसंबर 2007 में भारतीय रिजर्व बैंक ने विडियोकाॅन को सबसे अधिक गैर-निष्पादित अस्तियों (एनपीए) वाले लिस्ट में दूसरे नंबर पर चिन्हित किया था। फिलहाल यह कंपनी इन्साॅल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड (आर्इबीसी) के तहत दिवालिया प्रोसेस से गुजर रही है।

5. इसी साल अप्रैल माह में जांच एजेंसी सीबीआर्इ ने इन अारोपों के बाद शुरुआती जांच की प्रक्रिया शुरू किया था। सीबीआर्इ इस बात की जांच कर रही है कि क्या चंदा कोचर ने अपने पति दीपक कोचर के व्यापारिक हितों को ध्यान में रखते हुए विडियोकाॅन को लोन की मंजूरी दी थी या नहीं।

6. इस मामले के सामने आने के तुरंत बाद आर्इसीआर्इसीआर्इ बैंक ने अपने तत्कालीन सीर्इआे व एमडी चंदा कोचर का बचाव किया था। बैंक ने कहा था कि 20 बैंकों को 40 हजार करोड़ रुपए कर्ज देने की इस प्रक्रिया में चंदा कोचर केवल उन 12 लोगों में एक सदस्य थीं।

7. हालांकि बाद में बैंक ने सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायधीध बी श्रीकृष्णा काे इस मामले की जांच के लिए नियुक्त किया था।

8. जून माह में आर्इसीआर्इसीआर्इ बैंक ने जांच की प्रक्रिया के दौरान चंदा कोचर को छुट्टी पर भेज दिया था। इस दौरान ग्रुप के इन्श्योरेंस हेड संदीप बख्शी को सीआेआे के तौर पर बैंक का नेतृत्व करने की जिम्मेदारी दी गर्इ।

9. गत 4 अक्टूबर को चंदा कोचर ने आर्इसीआर्इसीआर्इ बैंक के सीर्इआे व एमडी पद से इस्तीफा दिया था।

10. इसके बाद अब सिरील अमरचंद मंगलदास लाॅ फर्म ने चंदा कोचर को क्लिन-चिट देने वाला अपना रिपोर्ट विड्राॅ कर लिया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned