वीडियोकॉन-ICICI लोन केस में आया नया मोड़,चंदा कोचर ने दिया ये बड़ा बयान

वीडियोकॉन-ICICI लोन केस में आया नया मोड़,चंदा कोचर ने दिया ये बड़ा बयान

Manoj Kumar | Publish: Sep, 06 2018 05:53:06 PM (IST) | Updated: Sep, 07 2018 08:37:16 AM (IST) फाइनेंस

वीडियोकॉन लोन केस में ICICI बैंक की सीईओ ने सेबी को अपना जवाब भेज दिया है।

नई दिल्ली। वीडियोकॉन लोन केस में फंसी ICICI बैंक की सीईओ चंदा कोचर ने पहली बार इस मामले में अपना पक्ष रखा है। आईसीआईसीआई बैंक की प्रबंध निदेशक व मुख्य कार्यकारी अधिकारी चंदा कोचर ने भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) के सभी आरोपों से इनकार किया है। सेबी के कारण बताओ नोटिस का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि उनके पति दीपक कोचर और वीडियोकॉन समूह के साथ कारोबारी सौदे की उन्हें जानकारी नहीं थी। खबरों के मुताबिक चंदा ने 30 पृष्ठों में अपने जवाब को भेजा है। नियामक अब व्यक्तिगत सुनवाई के लिए कोचर और बैंक के प्रतिनिधियों को बुलाएगा।

बैंक-वीडियोकॉन के बीच 1985 से ही कारोबारी संबंध: कोचर

कर्ज आवंटन में अपनी भूमिका सीमित बताते हुए चंदा कोचर ने सेबी को भेजे जवाब में पूरे घटनाक्रम का विवरण दिया है। रेकार्ड के अनुसार आईसीआईसीआई बैंक की क्रेडिट समिति ने 2012 में समूह को कर्ज की मंजूरी दी थी। कोचर उस समय समिति की चेयरपर्सन नहीं थी। कोचर ने कहा कि वह समिति का हिस्सा जरूर थी, लेकिन उनके पास अपना मत देने का अधिकार नहीं था। कोचर ने कहा कि बैंक और वीडियोकॉन के बीच 1985 से ही कारोबारी संबंध है और वह 1984 में प्रशिक्षु के तौर पर बैंक में आई थीं। हालांकि, बैंक ने इस पर अब तक कोई जवाब नहीं दिया है।

ये है मामला

ICICI बैंक की सीईओ चंदा कोचर पर 2012 में वीडियोकॉन समूह को 3250 करोड़ रुपए का लोन देने के मामले में नियमितता बरतने और पद के दुरुपयोग जैसे आरोप हैं। आरोप है कि ICICI बैंक से लोन मिलने के बाद वीडियोकॉन ने चंदा कोचर के पति दीपक कोचर की कंपनी न्यू पावर रिन्यूएबल्स में 64 करोड़ रुपए का निवेश किया था। बैंक ने वीडियोकॉन को लोन देने के मामले में किसी भी तरह की गड़बड़ी से इनकार किया है। हालांकि, बैंक इस मामले में अपनी तरफ से भी जांच करा रहा है।

Ad Block is Banned