कोरोना काल में लैपटॉप की जबरदस्त डिमांड, तीन महीने में हुई इतनी बिक्री कि टूटा 7 वर्षों का रिकॉर्ड

कोरोना की वजह से भारत में मार्च महीने में ही लॉकडाउन लगा दिया गया था। ऐसे में पहली तिमाही यानी अप्रेल-जून के दौरान ही डेस्कटॉप, नोटबुक्स और वर्क स्टेशन की डिमांड में रिकॉर्ड बिक्री दर्ज की गई थी।

By: Mahendra Yadav

Published: 17 Nov 2020, 03:55 PM IST

कोरोना महामारी से विश्व का कोई भी देश अछूता नहीं रहा। इस महामारी की वजह से विश्व के कई देशों को लॉकडाउन लगाना पड़ा, जिसकी वजह से लोग घरों में कैद हो गए। उन्हें ऑफिस का काम घर से ही करना पड़ा। अब पूरे विश्व में वर्क फ्रॉम होम का ट्रेंड शुरू हो गया। कोरोना की वजह से स्कूल—कॉलेज और कोचिंग इंस्टीट्यूट भी बंद रहे। भारत के कई राज्यों में तो अभी तक शिक्षण संस्थान नहीं खोले गए हैं। ऐसे में स्टडी फ्रॉम होम का भी चलन बढ़ गया है। ऐसे में बड़ी स्क्रीन वाले डिवाइसेज की मांग कोरोना काल में अचानक बढ़ गई। इसी वजह से कंप्यूटर्स और लैपटॉप की काफी बिक्री हुई। लैपटॉप की बिक्री ने तो कोरोन काल में रिकॉर्ड ही तोड़ दिया।

तीन महीने में बिके इतने लैपटॉप
वर्क फ्रॉम होम और स्टडी फ्रॉम होत की वजह से भारत में पर्सनल कंप्यूटर मार्केट (पीसी) की बिक्री अचानक से बढ़ गई। एक रिपोर्ट के अनुसार इस वर्ष जुलाई माह से सितंबर के दौरान भारत में पर्सनल कंप्यूटर की बिक्री 34 लाख यूनिट रही। यह आंकड़ा वर्ष 2013 के बाद से सबसे ज्यादा है। आईडीसी की रिपोर्ट के अनुसार, कमर्शियल सेगमेंट में बहुत ही कम सरकारी और एज्यूकेशनल प्रोजेक्ट्स थे, जबकि कंज्यूमर सेगमेंट में जुलाई सितंबर तिमाही के दौरान रिकॉर्ड तोड़ 20 लाख कंप्यूटर बेचे गए।

यह भी पढ़ें—भारतीय स्मार्टफोन मार्केट में बंपर उछाल, सितंबर तिमाही में हुई 5.43 करोड़ शिपमेंट, जानिए किसका रहा दबदबा

laptop2.png

पहली तिमाही में ही बढ़ गई थी डिमांड
बता दें कि कोरोना की वजह से भारत में मार्च महीने में ही लॉकडाउन लगा दिया गया था। ऐसे में पहली तिमाही यानी अप्रेल-जून के दौरान ही डेस्कटॉप, नोटबुक्स और वर्क स्टेशन की डिमांड में रिकॉर्ड बिक्री दर्ज की गई थी। इसकी वजह यह थी कि लॉकडाउन लगते ही कंपनियों ने कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम पर लगा दिया था। ऐसे में बड़ी मात्रा में कंप्यूटर्स की खरीदारी हुई। वहीं दूसरी तिमाही यानि जुलाई—सितंबर में भी यह सिलसिला जारी रहा। सालाना आधार पर बिक्री 105 फीसदी से भी ज्यादा बढ़ी।

यह भी पढ़ें—Asus ने लॉन्च किया गेमिंग लैपटॉप ROG Zephyrus G14 का स्पेशल एडिशन, जानिए क्या खास है इसमें

नोटबुक और पीसी की डिमांड सप्लाई से भी ज्यादा
आईडीसी इंडिया के डाटा के अनुसार, स्कूलों और कॉलेजों ने ऑनलाइन क्लासेज जारी रखीं। इसकी वजह से नोटबुक्स की डिमांड में जबरदस्त तेजी रही। इसकी डिमांड बड़े शहरों में ज्यादा रही। वहीं नोटबुक पीसी की डिमांड सप्लाई से ज्यादा रही है। आईफोन निर्माता कंपनी एप्पल की बिक्री भी सालाना आधार पर 19.4 फीसदी बढ़ी है। वहीं बड़ी स्क्रीन के डिवाइसेज की डिमांड के चलते टैबलेट की बिक्री में जबरदस्त इजाफा रहा।

Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned