Coronavirus को मात देंगी ये टेक्नोलॉजी, चीन की तरह भारत सरकार भी करें इस्तेमाल

Coronavirus से बचने के लिए भारत सरकार इन Technology का इस्तेमाल करके काफी हद तक लोगों में Covid-19 को फैलने से रोक जा सकता है। बता दें कि चीन ने भी इस तकनीक का इस्तेमाल किया है जिससे उन्हें काफी मदद मिली है।

Pratima Tripathi

27 Mar 2020, 11:03 AM IST

नई दिल्ली: coronavirus ने पूरी दुनिया की रफ्तार रोक दी है। इससे बचने के लिए हर देश अलग-अलग प्रयास कर रही हैं ताकि लोगों को कोरोनावायरस से संक्रमित होने से बचाया जा सके। यही वजह है कि चीन ने कोविड-19 से लड़ने के लिए दवा के साथ-साथ टेक्नोलॉजी का भी सहारा लिया, जिसकी मदद से काफी हद तक इस वायरस पर नजर रखी जा सकी। ऐसे में अगर भारत सरकार भी इन तकनीक का इस्तेमाल करती है तो कोरोना वायरस को फैलने से काफी हद तक रोक सकती है। चलिए आज इसी तकनीक के बारे में आपको बताते हैं कि ये कैसे हमारे काम आ सकती है।

robot-1584441706_1.jpg

सरकार कर सकती है Robot का इस्तेमाल

कोरोना वायरस ने जब चीन को परेशान करके रख दिया तो उसने ऐसे वक्त में रोबोट का इस्तेमाल किया है। ये रोबोट होटल से लेकर ऑफिस तक सफा-सफाई का काम करते हैं और आप-पास की जगहों पर सैनिटाइजर का छिड़काव भी करते हैं। इसके अलावा रोबोट का इस्तेमाल मेडिकल सैंपल भेजने के लिए भी किया जा रहा था। भारत सरकार भी रोबोट के जरिए कई महत्वपूर्ण काम आसानी से करवा सकती है।

Facial recognition सिस्टम का इस्तेमाल

भारत भी चीन की तरह कोविड-19 ट्रैक करने के लिए Face recognition सिस्टम का इस्तेमाल कर सकती है। इसमें इंफ्रारेड डिटेक्शन तकनीक का इस्तेमाल है जो शरीर के तापमान जांच करने में कारगर है। साथ ही ये सिस्टम ये भी जानकारी प्रदान करता है कि किसने मास्क पहना है और किसने नहीं। साथ ही भारत सरकार आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का भी यूज कर सकती हैं।

Color Coding

चीन ने कोरोना वायरस पर काबू पाने के लिए सबसे पहले अपने कलर कोडिंग तकनीक का सहारा लिया था। ये सिस्टम स्मार्टफोन ऐप की तरह काम करता है। ये यूजर्स को उनकी ट्रेवल और मेडिकल हिस्ट्री के मुताबिक ग्रीन, यैल्लो और रेड कलर का क्यूआर कोड देता है, जो ये तय करता है कि यूजर्स को घर में रहना है या बाहर जा सकते हैं। बता दें कि चीन की सरकार ने इसके लिए कई चेकप्वाइंट्स भी बनाए हैं जहां लोगों की चेकिंग होती है। बता दें कि इस सिस्टम का इस्तेमाल 200 से ज्यादा चीनी शहरों में किया गया है और इससे लोगों को काफी मदद भी मिली है।

75b7b9f9-fbf6-4be9-af48-6c83b063d6ee_0.jpg

Drone का इस्तेमाल

चीन की तरह भारत सरकार भी ड्रोन की मदद से लोगों तक फेस मास्क और दवाईयां पहुंचाने का काम कर सकती है। इसके अलावा इसके जरिए कोरोना वायरस से संक्रमित क्षेत्रों में सैनिटाइजर का छिड़काव भी करा सकती है। ऐसा करने से काफी हद तक कोरोनावायरस को फैलने से रोका जा सकता है।

coronavirus
Show More
Pratima Tripathi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned