7 दिन पहले पापा ने दिलाई थी स्कूल जाने के लिए नई साइकिल, पढ़ाई करने के बाद लौटते ववक्त हुआ ऐसा कि छा गया मातम

Iftekhar Ahmed | Publish: Jul, 20 2019 07:59:27 PM (IST) Ghaziabad, Ghaziabad, Uttar Pradesh, India

  • गाजियाबाद में खुला नाला एक बार फिर कक्षा 10 के छात्र के लिए बना काल
  • तेज बारिश से ओवर फ्लो नाले की वजह से सड़क पर भरे पानी में बहकर डूब गया एक छात्र
  • नगर निगम और सार्षद के खलाफ भड़का लोगों का गुस्सा

गाजियाबाद. खुला नाला कक्षा 10 में पढ़ने वाले 14 वर्षीय छात्र के लिए काल बन गया है। इसके चलते गाजियाबाद के थाना विजय नगर इलाके की सर्वोदय नगर कॉलोनी में शनिवार को अचानक उस वक्त अफरा-तफरी मच गई, जब दोपहर बाद अचानक ही आई तेज बारिश के बाद नाले ओवरफ्लो हो गए, जिससे सड़क भी बारिश के पानी से लबालब हो गई। इसी दौरान दसवीं कक्षा में पढ़ने वाला एक छात्र नाले में समा गया। हालांकि, मौके पर खड़े लोगों ने छात्र को बचाने का भरसक प्रयास किया, लेकिन तेज बहाव के कारण किशोर नाली में बह गया । आनन-फानन में इसकी सूचना स्थानीय पुलिस को दी गई । सूचना के आधार पर स्थानीय पुलिस और पुलिस के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंचे । साथ ही दमकल विभाग की टीम और एनडीआरएफ की टीम को भी मौके पर बुलाया गया । करीब 4 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद किशोर को नाले से बाहर निकाला गया । इसके बाद तत्काल प्रभाव से उसे अस्पताल पहुंचाया गया, लेकिन अस्पताल पहुंचते ही चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें- कमिश्नर ने कांवड़ियों के लिए इन सुविधाओं के इंतजाम के दिए निर्देश

आपको बताते चलें कि शिवपुरी में रहने वाले अशोक के दीपांशु और शुभम नाम के दो बेटे थाना विजय नगर इलाके की सर्वोदय नगर कॉलोनी स्थित सैंट टैरेसा स्कूल में कक्षा 10 में पढ़ते थे। दोनों ही अपनी-अपनी साइकिल से स्कूल जाते थे । बारिश के तुरंत बाद ही स्कूल की छुट्टी हुई तो शुभम अपनी साइकिल से अपने भाई दीपांशु से कुछ देर पहले ही निकल गया । वह घर पहुंच गया और दीपांशु घर नहीं पहुंचा । दोपहर बाद अचानक ही तेज बारिश हुई, जिसके कारण सभी बरसाती नाले भर गए और सड़क पर भी पानी लबालब हो गया। चारों तरफ पानी ही पानी नजर आ रहा था । इसी दौरान 14 वर्षीय दीपांशु अपनी साइकिल से घर जा रहा था, जिसकी साइकल नाले की तरफ चली गई। देखते ही देखते वह तेज पानी में बह गया। इस दौरान पास में खड़ी एक लड़की ने उसे गिरते हुए देखा तो शोर मचाया । आसपास के लोग मौके पर इकट्ठा हुए। लोगों ने उसे बचाने का प्रयास किया गया, लेकिन पानी का बहाव इतना तेज था कि दीपांशु बह गया।

यह भी पढ़ें- बेरोजगारों को नौकरी का झांसा देकर ये लड़कियां उनके साथ करती थी ऐसा काम, गिरफ्तार होने पर छुपा रहीं मुंह

हालांकि, कुछ दूरी पर ही उसकी साइकिल मिल गई। आनन-फानन में इसकी सूचना स्थानीय पुलिस को दी गई। सूचना के आधार पर मौके पर पुलिस पहुंच गई । स्थानीय लोगों की मदद से दीपांशु को खोजना शुरू किया गया, लेकिन किसी तरह की कामयाबी न मिलने के बाद दमकल विभाग की टीम और एनडीआरएफ की टीम को मौके पर बुलाया गया। बहराल 4 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद दीपांशु करीब 400 मीटर की दूरी पर नाले के अंदर कूड़े में अटका हुआ मिला, जिसे आनन-फानन में अस्पताल पहुंचाया गया। जहां डॉक्टरों ने दीपांशु को मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें- मायावती के भाई पर IT का शिकंजा: 12 शेल कंपनियों की आड़ में बनाई गई 400 करोड़ की संपत्ति जब्त

जैसे ही दीपांशु के परिजनों ने यह खबर सुनी तो उनके पैरों तले जमीन खिसक गई। उधर इलाके के लोगों में भी नगर निगम के खिलाफ बेहद गुस्सा भरा है। इतना ही नहीं, इस क्षेत्र की पार्षद चंपा माहौर का काफी लोगों ने घेराव किया और जमकर नगर निगम को कोसा। इस दौरान मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने किसी तरह लोगों को उस वक्त शांत किया । लोगों का आरोप है कि इस इलाके में तमाम नाले खुले पड़े हैं, जो हमेशा लोगों की मौत को दावत देते रहते हैं। लोगों का कहना है कि इस बारे में कई बार नगर निगम के अधिकारियों को भी अवगत कराया जा चुका है । उसके बावजूद भी इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया गया है, जिसका नतीजा यह निकला कि दीपांशु काल के गाल में समा गया । लोगों का कहना है कि दीपांशु की मौत के जिम्मेदार पूरी तरह नगर निगम है।

इस पूरे मामले की जानकारी देते हुए गाजियाबाद के एसपी सिटी श्लोक कुमार ने बताया कि करीब 14 वर्षीय दीपांशु पुत्र अशोक निवासी शिवपुरी जोकि कक्षा 10 में पढ़ता था। वह स्कूल की छुट्टी होने के बाद अपने घर जा रहा था। उसी दौरान तेज बारिश हुई, जिससे नालों से बाहर पानी निकल आया था । सड़क और नाले ज्यादा पानी के कारण दिखाई नहीं दे रहे थे। दीपांशु अपनी साइकिल से घर जा रहा था अचानक ही वह नाली में गिर गया। जिसकी सूचना स्थानीय पुलिस को मिली थी। सूचना के आधार पर स्थानीय पुलिस एनडीआरएफ की टीम और दमकल विभाग की टीम के जवानों की मदद से दीपांशु को खोजा गया तो करीब 4 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद दीपांशु को निकाला गया। जिसे अस्पताल पहुंचाया गया लेकिन उसे मृत घोषित कर दिया गया है।

उधर मृतक दीपांशु के बाबा ने बताया कि दीपांशु और शुभम सेंट टेरेसा स्कूल मैं कक्षा 10 में पढ़ते थे। दीपांशु को 7 दिन पहले ही नई साइकिल दिलवाई गई थी । स्कूल की छुट्टी होने के बाद शुभम अपनी साइकिल से घर पहुंच गया था, लेकिन दीपांशु नहीं पहुंचा। इसके बाद घरवालों को चिंता शुरू हो गई । कुछ देर बाद ही उन्हें पता चला कि कोई 15 साल का बच्चा नाले में गिरा है । कुछ देर बाद जब उसकी साइकिल मिली तो साइकल पहचानने के बाद उन्हें पता लगा कि उन्हीं का लाल नाले में गिरा है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned