कोरोना से महिला सिपाही की मौत, भाजपा विधायक ने सीएम को लिखा पत्र, बोले- शहीद का मिला दर्जा

Highlights:

-23 वर्षीय शैली बंसल दिल्ली पुलिस में कार्यरत थी

-वह हापुड़ जिले की रहने वाली थी

-24 मई को उनकी कोरोना से मौत हो गई

By: Rahul Chauhan

Updated: 30 May 2020, 11:36 AM IST

गाजियाबाद। कोविड 19 महामारी के दौरान पिछले दिनों दिल्ली पुलिस की जवान की मौत को लेकर विवाद चल रहा है। इस बीच अब लोनी विधानसभा सीट से भाजपा विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरंविद केजरीवाल को पत्र लिखा है। विधायक ने अपने पत्र में दिल्ली सरकार से शैली बंसल को शहीद का दर्जा देने के अलावा कोविड-19 महामारी के दौरान सरकार द्वारा घोषित सभी सुविधाएं उनके परिजनों को दिए जाने की भी मांग की है।

यह भी पढ़ें : Lockdown में मिली बड़ी राहत: अब तीन घंटे के लिए मेरठ में खोले जाएंगे बाजार

दरअसल, भाजपा विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने ने मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में कहा है कि यूपी स्थित हापुड़ के एक छोटे गांव एवं गरीब पारिवारिक पृष्ठभूमि से आने वाली 23 वर्षीय शैली बंसल दिल्ली पुलिस में कार्यरत थी। वह एवं नंदनगरी थाने में कॅरोना महामारी के दौरान ड्युटी कर रही थी। इतना ही नहीं, शैली बंसल महामारी के दौरान कोरोना वारियर्स के रूप में लगातार अपने जान की परवाह किए बगैर दिल्ली पुलिस में अपनी सेवा दे रही थी। लेकिन 2 मई को ड्यूटी के दौरान ही उन्हें अचानक बुखार आया और जांच में कोविड टेस्ट निगेटिव आया।

यह भी पढ़ें: Corona की नई चेन से हड़कंप, एक ही परिवार के छह लोग मिले संक्रमित

शहीद का दिया जाए दर्जा

उन्होंने लिखा कि कोरोना लक्षणों के साथ ही शैली की तबीयत बिगड़ने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया गया।जिसके बाद हालत बिगड़ने पर 24 मई को उनकी नोएडा के एक अस्पताल में दुखद मृत्यु हो गई। इसी दौरान उनके साथ कार्य करने वाले थाने के ही अन्य तीन स्टाफ 3 और 4 मई को कोरोना पॉजिटिव पाए गए। दिल्ली पुलिस की जाबांज एवं होनहार सिपाही शैली बंसल जोकि एक साधारण पृष्ठभूमि से आती है और संघर्ष के बलबूते दिल्ली पुलिस की प्रतिष्ठित सेवा के लिए चयनित हुई। उनकी मौत कोरोना महामारी काल में ड्यूटी के दौरान सेवा देने के दौरान हुई। इसलिए शैली बंसल को शहीद का दर्जा दिए जाने के अतिरिक्त दिल्ली सरकार द्वारा कोरोना वारियर्स के लिए घोषित की गई 1 करोड़ की सहायता धनराशि एवं अन्य सहायता प्रदान की जाए।

यह भी पढ़ें : 68 दिन बाद आज से खुलेंगे बाजार, ग्राहकों के साथ दुकानदारों को इन नियमों का करना होगा पालन

परिवार में से किसी को मिले नौकरी

विधायक ने अपने पत्र में यह भी लिखा है कि शैली के परिवार की आर्थिक स्थिति बेहद कमजोर है। इसे ध्यान में रखते हुए परिवार के एक सदस्य को उसकी योग्यता के अनुसार सरकारी नौकरी और दिल्ली में रहने के लिए मकान भी दिया जाना चाहिए। जिससे जांबाज सिपाही शैली बंसल को श्रद्धांजलि के रूप में अर्पित की जा सके और उसका परिवार उसकी यादों को समेटे हुए आत्मनिर्भर होकर अपने जीवन का निर्वाह कर सकें। विधायक द्वारा गृहमंत्री भारत सरकार राज्यपाल और दिल्ली पुलिस कमिश्नर को भी पत्र के माध्यम से ही पूरा संज्ञान लिए जाने की मांग की गई है।

coronavirus
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned