राकेश टिकैत का बड़ा बयान उत्तराखंड-उत्तर प्रदेश में जाम नहीं लगाएंगे किसान, देखें वीडियो

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा है कि छह फरवरी काे किसान उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में जाम नहीं लगाएंगे सिर्फ अपने जिला मुख्यालय पर पहुंचकर ज्ञापन देंगे।

 

By: shivmani tyagi

Updated: 05 Feb 2021, 08:17 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
गाजियाबाद . उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के लाेगाें के लिए राहत भरी खबर है। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ( Rakesh Tikait Kisan Neta ) ने बयान जारी करते हुए किसानाें से कहा है कि उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh ) और उत्तराखंड ( uttrakhand ) में छह फरवरी को किसान कहीं भी जाम नहीं लगाएंगे। उन्हाेंने यह भी साफ कर दिया कि इन दाे प्रदेशों काे छाेड़कर देशभर में जाम होगा। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड यानी दोनों प्रदेश में हर जिले में किसान अपनी कुछ स्थानीय समस्याएं और तीनों कृषि कानून के खिलाफ ( Farmer Protest ) जिलाधिकारी को ज्ञापन देंगे और यहां के किसान सभी अलर्ट मोड पर रहें यदि आवश्यकता पड़ी तो उन्हें दिल्ली बुलाया जाएगा।

यह भी पढ़ें: शामली महापंचायत में उमड़ी भीड़ जयंत चौधरी ने कहा भाजपा ने कराई थी दिल्ली की हिंसा

राकेश टिकैत ( Kisan Neta Rakesh Tikait ) ने कहा कि जिस तरह से छह फरवरी को देशभर में जाम किए जाने की बात की जा रही थी। अब सभी किसान नेताओं से आपस में वार्ता करने के बाद यह फैसला लिया गया है कि उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में जाम नहीं किया जाएगा। यह फैसला उन्होंने गन्ना किसानों के हित में लेते हुए किया है। उन्होंने बताया कि यहां के किसान अपने जिला अधिकारी कार्यालय पर जाकर जिला अधिकारी को अपनी क्षेत्रीय समस्याओं और गन्ना पेमेंट के साथ-साथ इन तीनों कानून के खिलाफ ज्ञापन दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें: किसान महापंचायत : शामली में किसानाें ने चढ़ाई आस्तीनें ताे पुलिस ने पहने बॉडी प्रोटेक्टर

राकेश टिकैत ने कहा है कि यहां के सभी किसानों को अलर्ट मोड पर रहने के लिए भी कहा गया है ताकि दिल्ली में बुलाने की यदि आवश्यकता पड़ी तो तत्काल प्रभाव से यहां के किसान मौके पर पहुंच सकें उन्होंने कहा कि यहां के किसान पहले से ही बड़ी संख्या में एकत्र होकर एक बड़ी रैली का भी आयोजन कर चुके हैं। यानी जगह-जगह बड़ी पंचायत भी की जा रही है। इसलिए वहां के किसानों को केवल अभी अलर्ट मोड पर रहने के लिए ही कहा गया है।

यह भी पढ़ें: सेंट्रल जेल से फरार हुए कैदी ने पकड़े जाने के बाद अस्थाई जेल में फांसी लगाकर जान दी

उधर जैसे ही उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के अन्य लोगों को राकेश टिकैत के इस बयान की जानकारी मिली तो लोगों ने बड़ी राहत की सांस ली है क्योंकि हर किसी को यह अंदेशा था कि लोगों को अपने काम धंधे या अपने गंतव्य तक जाने के लिए छह फरवरी को बड़ी समस्या का सामना करना पड़ेगा क्योंकि किसानों ने सभी सड़कों पर जाम किए जाने की चेतावनी दी हुई थी लेकिन राकेश टिकैत के बयान के बाद से ऐसे सभी लोगों के लिए यह राहत वाली खबर है।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned