लखीमपुर खीरी जा रहे सचिन पायलट के काफिले को गाजीपुर बॉर्डर पर रोका, सिर्फ 4 लोगों को मिली अनुमति

सचिन पायलट और प्रमोद कृष्णम भी अपने काफिले के साथ गाजीपुर यूपी गेट बॉर्डर की तरफ से होते हुए लखीमपुर के लिए रवाना हुए। हालांकि प्रशासन को सूचना मिलते ही उन्हें गाजीपुर बॉर्डर पर रोक लिया गया। तमाम जद्दोजहद के बाद एक गाड़ी में ही केवल चार लोगों को जाने की अनुमति दी गई।

By: lokesh verma

Published: 06 Oct 2021, 04:06 PM IST

गाजियाबाद. लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर अभी भी मामला शांत होता नजर नहीं आ रहा है। तमाम राजनीतिक दल इस मुद्दे को भुनाने में लगे हुए हैं। इसी कड़ी में आज सचिन पायलट और प्रमोद कृष्णम भी अपने काफिले के साथ गाजीपुर यूपी गेट बॉर्डर की तरफ से होते हुए लखीमपुर के लिए रवाना हुए। हालांकि प्रशासन को सूचना मिलते ही उन्हें गाजीपुर बॉर्डर पर रोक लिया गया। तमाम जद्दोजहद के बाद एक गाड़ी में ही केवल चार लोगों को जाने की अनुमति दी गई। इसके बाद प्रमोद कृष्णम, सचिन पायलट उनका ड्राइवर और एक अन्य गाड़ी में सवार होकर लखीमपुर खीरी के लिए रवाना हो चुके हैं।

बता दें कि प्रमोद कृष्णम और सचिन पायलट के काफिले के कारण नेशनल हाईवे-9 कई किलोमीटर लंबा जाम लग गया, जिसके कारण लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। कांग्रेस कार्यकर्ताओं को जैसे ही यह जानकारी मिली की सचिन पायलट और प्रमोद कृष्णम का काफिला गाजीपुर बॉर्डर पहुंचने वाला है और इसी रास्ते से होकर वह लखीमपुर जा रहे हैं तो बड़ी संख्या में कांग्रेस के कार्यकर्ता गाजीपुर बॉर्डर पर पहुंच गए और अपने प्रिय नेताओं का जोरदार स्वागत किया।

यह भी पढ़ें- लखीमपुर हिंसा में मारे गये किसानों के मृतक आश्रितों को मिलेंगे 1.45 करोड़ रुपए, मृतक पत्रकार के परिजनों को भी आर्थिक मदद

इस दौरान कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने सरकार पर निशाना साधते हुए भाजपा के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। प्रशासन ने इनके साथ आए बड़े काफिले को बॉर्डर पर ही रोक दिया। तमाम जद्दोजहद के बाद केवल एक गाड़ी जाने की इजाजत दी गई।

यह भी पढ़ें- प्रियंका गांधी की गिरफ्तारी से आक्रोशित कांग्रेसियों ने कलेक्ट्रेट में किया धरना प्रदर्शन, रिहाई की मांग

lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned