scriptShia Waqf Board President Wasim Rizvi converted to Hinduism from Islam | शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष रहे वसीम रिजवी ने इस्लाम छोड़ हिंदू धर्म अपनाया, जानिए उनका नया नाम | Patrika News

शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष रहे वसीम रिजवी ने इस्लाम छोड़ हिंदू धर्म अपनाया, जानिए उनका नया नाम

- शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी ने आज अपना इस्लाम धर्म छोड़कर सबको चौंका दिया। भाजपा और हिंदू प्रेम की वजह से वसीम रिजवी हमेशा मुस्लिम संगठनों के निशाने पर रहे। वसीम रिजवी ने एक किताब मोहम्मद लिखी थी। जिसके बाद वसीम रिजवी के खिलाफ देश के कई हिस्सों में मुकदमा दर्ज हुआ। पर अब वसीम रिजवी, हरबीर नारायण सिंह त्यागी हो गए हैं।

गाज़ियाबाद

Updated: December 07, 2021 11:13:47 am

गाजियाबाद. शिया वक्‍फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी ने एक बड़ा फैसला लिया। वसीम रिजवी ने आज इस्‍लाम धर्म छोड़कर हिंदू धर्म अपना लिया। महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती ने डासना मंदिर में वसीम रिजवी को हिंदू धर्म ग्रहण कराया। इस प्रक्रिया में महंत नरसिंहानंद ने कई तरह के अनुष्ठान किए। धर्म परिवर्तन के बाद रिजवी अब त्यागी बिरादरी से जुड़ेंगे।
शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष रहे वसीम रिजवी ने इस्लाम छोड़ हिंदू धर्म अपनाया, जानिए उनका नया नाम
शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष रहे वसीम रिजवी ने इस्लाम छोड़ हिंदू धर्म अपनाया, जानिए उनका नया नाम
नया नाम अब हरबीर नारायण सिंह त्यागी

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सोमवार सुबह डासना देवी मंदिर में पूरे विधि-विधान से वसीम रिजवी को हिंदू धर्म स्वीकार कर लिया। उनका नया नाम अब हरबीर नारायण सिंह त्यागी (Harbeer Narayan Singh Tyagi) होगा। धर्म परिवर्तन से पहले रिजवी ने कहा था कि नरसिंहानंद गिरि महराज ही उनका नया नाम तय करेंगे।
सिर्फ हिंदुत्व के लिए करेंगे काम

धर्म परिवर्तन करने के बाद वसीम रिजवी ने कहा कि, आज से वह सिर्फ हिंदुत्व के लिए काम करेंगे। मुसलमानों का वोट किसी भी सियासी पार्टी को नहीं जाता है। मुसलमान केवल हिंदुत्व के खिलाफ और हिंदुओं को हराने के लिए वोट करते हैं।
वसीयत जारी की

वसीम रिजवी ने कुछ दिन पहले ही अपनी वसीयत जारी की थी। इस वसीयत में उन्‍होंने घोषणा की था कि, मरने के बाद उन्हें दफनाने के बजाय हिंदू रीति रिवाज से अंतिम संस्कार किया जाए। यति नरसिम्हानंद उनकी चिता को आग दें। इस वसीयत के बाद वसीम रिजवी का एक वीडियो भी सामने आया था, जिसमें उन्‍होंने खुद की हत्‍या की साजिश की आशंका जताई थी।
किताब मोहम्मद को सबको पढ़ना चाहिए

अपनी किताब मोहम्मद के बारे में वसीम रिजवी ने कहाकि, किताब मोहम्मद को दुनिया के हर व्यक्ति को पढ़ना चाहिए। जो इसे पढ़ेगा वह धर्मांतरण कर इस्लाम नहीं अपनाएगा। रिजवी का दावा है कि, किताब में लिखी बातों के लिए उन्होंने 350 रेफरेंस दिए हैं। इस किताब को पढ़ना बहुत जरूरी है मैंने वो हिडन फैक्ट्स ढूंढ-ढूंढ के निकाले हैं जो जल्दी मुहैया नहीं हो सकते और सबूत के साथ निकाले हैं, 350 रेफरेंस हैं उसमें किताबों के।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

5G से विमानों को खतरा? Air India ने अमरीका जाने वाली कई उड़ानें रद्द कीदेश में घट रहे कोरोना के मामले, एक दिन में सामने आए 2.38 लाख केसPM मोदी की मौजूदगी में BJP केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक आज, फाइनल किए जाएंगे UP, उत्तराखंड, गोवा और पंजाब के उम्मीदवारों के नामक्‍या फ‍िर महंगा होगा पेट्रोल और डीजल? कच्चे तेल के दाम 7 साल में सबसे ऊपरतो क्या अब रोबोट भी बनाएंगे मुकेश अंबानी? इस रोबोटिक्स कंपनी में खरीदी 54 फीसदी की हिस्सेदारीIND vs SA Dream11 Team Prediction: कैसी रहेगी पिच, बल्लेबाजों को मिलेगी मदद; जानें मैच से जुड़ी सारी अपडेटराजस्थान में 17 दिन में 46 लोगों की टूट गई सांसेंछत्तीसगढ़ के इस जिले में कलेक्टर हुए कोरोना संक्रमित, पॉजिटिविटी रेट बढ़ा तो बंद किए स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्र
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.