scriptगोरखपुर के जुहू चौपाटी रामगढ़ ताल में उतराती मिली सैकड़ों मरी मछलियां, क्षेत्र में हड़कंप | Patrika News
गोरखपुर

गोरखपुर के जुहू चौपाटी रामगढ़ ताल में उतराती मिली सैकड़ों मरी मछलियां, क्षेत्र में हड़कंप

गोरखपुर के टूरिस्ट हब बने रामगढ़ ताल में उस समय हड़कंप मच गया जब ताल के किनारे बड़ी मात्रा में मरी मछलियां दिखीं। इसे देख वहां घूमने आए लोगों में काफी रोष भी दिखा।

गोरखपुरJun 29, 2024 / 01:36 pm

anoop shukla

रामगढ़ताल में शुक्रवार को बड़ी संख्या में मरी हुई मछलियां उतराती हुई मिली। इनमें ज्यादातर मछलियां आधे किग्रा से अधिक की है। ठेका पानी वाली समिति 40 लाख से अधिक के नुकसान का दावा कर रही है।मछलियों के मरने की वजह साफ नहीं हो पाई है।
समिति और विशेषज्ञों के अनुसार आक्सीजन की कमी और तापमान में उतार-चढ़ाव मछलियों के मरने की वजह हो सकती है। इसके पहले भी ताल में मछलियां मर चुकी हैं। यद्यपि, इतनी बड़ी संख्या में मछलियों के मरने की घटना लंबे समय बाद हुई है। फिलहाल जीडीए, समिति की मदद से मछलियों को ताल से निकालने में जुट गया है।
गोरखपुर विकास प्राधिकरण (जीडीए) ने तकरीबन 20 करोड़ रुपये से अधिक पर 10 साल तक मछली मारने का ठेका दिया है। ठेका लेने वाली मत्स्यजीवी सहकारी समिति लिमिटेड तारामंडल रोड मनहट, के पदाधिकारियों के मुताबिक उन्हें भी शुक्रवार की सुबह ही मछलियों के मरने की जानकारी हुई।
उनका दावा है कि गुरुवार को हुई बारिश के बाद तेज धूप निकलने से ताल के पानी में घुलित आक्सीजन की मात्रा कम हो गई जिससे मछलियां मर गईं। उन्होंने कहा कि पहले भी कुछ मछलियों की ऐसे मौत हो चुकी है। समिति के अध्यक्ष मदन लाल व सचिव बलदेव सिंह ने दावा किया कि मछलियों की मौत से 40-50 लाख रुपए की क्षति उठानी पड़ी है।
फिलहाल मछलियों को ताल से मछुआरों ने एकत्र कर बाहर निकालना शुरु कर दिया है। देर शाम तक काफी मछलियों को निकाला जा चुका था। शनिवार की सुबह तक सभी मरी हुईं मछलियों को निकाल लिया जाएगा ताकि ताल में उनके सड़ने से बदबू न फैले। प्राधिकरण उपाध्यक्ष आनंद वर्द्धन ने बताया कि ताल में मछलियों के मौत की जानकारी मिली है, लेकिन मछलियों के मौत की वजह नहीं स्पष्ट हो सकी है।

Hindi News/ Gorakhpur / गोरखपुर के जुहू चौपाटी रामगढ़ ताल में उतराती मिली सैकड़ों मरी मछलियां, क्षेत्र में हड़कंप

ट्रेंडिंग वीडियो