scriptगोरखपुर में निरस्त हो जायेंगे 390 असलहों के लाइसेंस …सामने आई बड़ी वजह | Licenses of 390 weapons will be cancelled in the district, pending chargesheets will be filed in court within fifteen days | Patrika News
गोरखपुर

गोरखपुर में निरस्त हो जायेंगे 390 असलहों के लाइसेंस …सामने आई बड़ी वजह

जिले में कानून व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए SSP गोरखपुर डॉक्टर गौरव ग्रोवर ने लंबित विवेचनाओ को कोर्ट में दाखिल करने के लिए पंद्रह दिनों का समय विवेचना अधिकारी को दिए हैं। इसके बाद थानावार इसकी समीक्षा की जाएगी।

गोरखपुरJun 20, 2024 / 09:21 am

anoop shukla

जिले के ​थानों में पांच वर्ष या इससे अ​धिक समय से 390 लाइसेंसी असलहे जमा हैं। जिन्हें चुनाव के दौरान थानों में जमा कर लाइसेंसधारकों ने इनकी कभी सू​धि नहीं ली। थाने के मालखाने में जमा ऐसी बंदूक, रायफल और पिस्टल के लाइसेंस निरस्त किए जाएंगे।
एसएसपी डॉ. गौरव ग्रोवर के निर्देश पर सभी थानों से पांच वर्ष या इससे अ​धिक समय से जमा असलहों की रिपोर्ट मांगी गई थी। इसके बाद थानेदारों ने अपने-अपने थाने में पुराने समय से जमा असलहों की रिपोर्ट पुलिस ऑफिस भेजी है। इसमे सबसे अ​धिक असलहे की संख्या गोला थाने में 95 और बड़हलगंज में 46 मिली है। वहीं कई थानों में शून्य संख्या यानी इतने पुरानी असलहे नहीं मिले हैं। एसएसपी ने बताया कि अब यह रिपोर्ट डीएम को भेजी जाएगी। वहां से इन असलहों का निरस्तीकरण कराया जाएगा।
मर चुके 54 हिस्ट्रीशीटर का थाने से मिटेगा नाम

एसएसपी ने सभी थानों में हिस्ट्रीशीटर का सत्यापन करवाया है। जिले के थानों के 54 हिस्ट्रीशीटर ऐसे मिले हैं जिनकी मौत हो चुकी है और उनका नाम अभी भी लिस्ट में है। एसएपी ने मर चुके हिस्ट्रीशीटरों का खाका नष्ट करने के लिए सभी थानों से रिपोर्ट मांगी है। थाना प्रभारी अपने क्षेत्र के मर चुके हिस्ट्रीशीटर का मृत्यु प्रमाण पत्र या फिर ग्राम प्रधान व पार्षद से मृत्यु की सत्यापित कॉपी पुलिस ऑफिस में भेजेंगे। इसके बाद एसएसपी की अंतिम मुहर लगने के बाद मर चुके हिस्ट्रीशीटरों का खाका नष्ट किया जाएगा।
इनाम रखकर गैंगस्टर की होगी गिरफ्तारी

एसएसपी के निर्देश पर जिले में ऐसे गैंगस्टर जिनकी गिरफ्तारी अभी शेष है, उनकी गिरफ्तारी की जाएगी। साथ ही थाने के वांछित गैंगस्टर को पकड़ने के लिए इनाम रखाा जाएगा।
15 दिन अ​भियान चलाकर चार्जशीट होगी दा​खिल

एसएसपी के निर्देश पर 15 दिन का अ​भियान चलाया जा रहा है। इस अ​भियान के अंतर्गत सीओ को जिम्मेदारी सौंपी गई है कि वे 15 दिन के अंदर वर्ष 2015 से अबतक लंबित चार्जशीट को पूरा कर के कोर्ट में दा​खिल करेंगे। इसके बाद कोर्ट से मिली रसीद का विवरण थाने के अपराध रजिस्टर में दर्ज किया जाएगा।

Hindi News/ Gorakhpur / गोरखपुर में निरस्त हो जायेंगे 390 असलहों के लाइसेंस …सामने आई बड़ी वजह

ट्रेंडिंग वीडियो