scriptWrestling news : अंतराष्ट्रीय फलक पर चमका गोरखपुर, पुष्पा यादव ने जीता एशिया चैंपियनशिप में स्वर्ण | Wrestling Gorakhpur shines on the international stage, Pushpa Yadav wins gold in Asia Championship | Patrika News
गोरखपुर

Wrestling news : अंतराष्ट्रीय फलक पर चमका गोरखपुर, पुष्पा यादव ने जीता एशिया चैंपियनशिप में स्वर्ण

गोरखपुर की पुष्पा यादव ने कुश्ती में अंतर्राष्ट्रीय फलक पर जिले का नाम रोशन किया है। एशिया चैंपियनशिप जीतने के बाद पूरा जिला पुष्पा की इस रिकार्ड सफलता पर हर्षित है।

गोरखपुरJun 30, 2024 / 09:22 am

anoop shukla

गोरखपुर के माड़ापार निवासी पुष्पा यादव ने जॉर्डन की राजधानी अम्मान में आयोजित अंडर-23 एशियाई चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रच दिया है। पुष्पा ने 59 किलो भार वर्ग में यह सफलता प्राप्त की है।अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीतने वाली पुष्पा गोरखपुर की पहली महिला पहलवान बन गई हैं। पुष्पा उत्तर प्रदेश पुलिस में गाजियाबाद में तैनात हैं।
पुष्पा यादव ने एशियाई चैंपियनशिप में कुल तीन मुकाबले खेले। तीनों ही मैचों में प्रतिद्वंदियों को शिकस्त देकर विजेता बनने का गौरव हासिल किया। पुष्पा ने किर्गिस्तान की सेजिम झूमानजरोया, उज्जेबेकिस्तान की लालोखोंन सोबिरोया तथा कजाकिस्तान की गुलडाना बिकेश को मात देकर भारत को स्वर्ण पदक दिलाया।
पुष्पा ने एशियाई चैंपियनशिप के लिए नई दिल्ली के इंदिरा गांधी स्टेडियम में आयोजित चयन ट्रायल में शानदार प्रदर्शन कर 10 जून को क्वालीफाई किया था। उससे पहले पुष्पा ने जयपुर और पुणे में आयोजित नेशनल चैंपियनशिप में रजत पदक जीतकर एशियाई चैंपियनशिप के चयन ट्रायल के लिए अपना स्थान सुनिश्चित किया था। अब एशिया चैंपियनशिप में अब तक का सबसे शानदार प्रदर्शन किया है।
पुष्पा ने इससे पहले सब जूनियर वर्ल्ड चैंपियनशिप-2018 और सीनियर एशियन चैंपियनशिप-2024 में प्रतिभाग किया था। हालांकि वहां वे पदक नहीं जीत पाई थीं। पुष्पा ने राष्ट्रीय स्तर पर नेशनल गेम्स गोवा में रजत पदक जीता था। वर्ष 2021 में जूनियर नेशनल में भी वे रजत पदक विजेता रही थीं।
पुष्पा यादव कभी चाय की दुकान में पिता का हाथ बंटाया करती थी। माड़ापार बाईपास के पास उसके पिता की चाय की दुकान थी, वह दुकान अब भाई चलाते हैं। मां का निधन बचपन में ही हो गया था। तीन भाई और दो बहनों में चौथे नंबर की पुष्पा के सिर से करीब पांच वर्ष पूर्व पिता का भी साया उठ गया लेकिन वे लक्ष्य के प्रति अडिग रहीं। नतीजा आज सामने है।
माड़ापार गांव में 117 वर्षों से दंगल का आयोजन होता है। पुष्पा ने गांव के अखाड़े में आयोजित दंगल में उतरकर कुश्ती चुना था। माड़ापार के ही दीपक कुमार सिंह ‘दीपू (कुशीनगर कुश्ती संघ के जिलाध्यक्ष) पुष्पा और उसके पिता की इच्छा पर उसे रेलवे स्टेडियम में कोच चन्द्रविजय सिंह के पास ले आए थे। यहां पुष्पा को अच्छा प्रशिक्षण मिला। इसके बाद जेएसडब्ल्यू एकेडमी, बेंगलुरु में ट्रायल दी। ट्रायल में सफल होने के बाद वहीं प्रशिक्षण के लिए चयन हो गया।
पुष्पा की इस उपलब्धि पर पर दीपक सिंह व चन्द्रविजय सिंह के साथ ही भारतीय कुश्ती संघ के उपाध्यक्ष आदित्य प्रताप सिंह ‘आगू, जिलाध्यक्ष दिनेश सिंह, सचिव मायाशंकर शुक्ल, आरएसओ आले हैदर, अंतरराष्ट्रीय पहलवान पन्नेलाल यादव, रामाश्रय यादव, राकेश सिंह,जनार्दन सिंह यादव, शत्रुध्न राय, विवेकानंद तिवारी, गिरधारी पहलवान, विजय बहादुर सोनकर, राजीव यादव, परशुराम यादव, धर्मवीर पटेल, सावन सिंह, अमरनाथ, जितेंद्र, ओम प्रकाश यादव, सुमेर यादव, पलटू यादव, सुरेंद्र मोहन आदि कुश्ती प्रेमियों ने बधाई व शुभकामनाएं दी है।

Hindi News/ Gorakhpur / Wrestling news : अंतराष्ट्रीय फलक पर चमका गोरखपुर, पुष्पा यादव ने जीता एशिया चैंपियनशिप में स्वर्ण

ट्रेंडिंग वीडियो