ईरान ने अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो की पेशकश ठुकराई, दोनों देशों में बढ़ी तकरार

ईरान ने अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो की पेशकश ठुकराई, दोनों देशों में बढ़ी तकरार

Anil Kumar | Updated: 01 Aug 2019, 08:37:47 AM (IST) गल्फ

  • Iran-US Tension: अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ईरान आकर लोगों को संबोधित करना चाहते थे
  • फारस की खाड़ी में तेल टैंकरों पर हमले को लेकर ईरान और अमरीका में तनाव बढ़ गया है

तेहरान। अमरीका और ईरान के बीच लगातार विवाद गहराता ही जा रहा है। तेल टैंकरों पर हमले से उपजे तनाव के बीच अब ईरान ने अमरीका की एक आग्रह को सिरे से खारिज कर दिया है।

दरअसल, अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ईरान आना चाहते थे और वहां की जनता को संबोधित करना चाहते थे। ईरान ने अमरीका के इस आग्रह को 'पाखंडपूर्ण तरीका' बताते हुए सिरे से खारिज कर दिया।

ईरानी विदेश मंत्री जवाद जरीफ ने बुधवार को कैबिनेट की बैठक से इतर पोम्पियो की ओर इशारा करते हुए कहा कि 'आपको ईरान आने की आवश्यकता नहीं है'।

ईरानी मिसाइल हमले से घटी अमरीकी ड्रोन की साख, भारत खरीदने पर करेगा विचार

तंज कसते हुए जरीफ ने कहा कि पोम्पियो को ईरान के पत्रकारों को अमरीका की यात्रा करने के लिए वीजा देना चाहिए, जिससे वे उनका साक्षात्कार कर सके। जरीफ ने आरोप लगाया कि उनके पत्रकारों के आग्रह को खारिज कर दिया गया।

पोम्पियो ने खुमैनी पर लगाया था आरोप

बता दें कि सोमवार को अमरीकी विदेश मंत्री पोम्पियो ने एक ट्वीट करते हुए ईरान के शीर्ष नेता आयतुल्ला अली खुमैनी पर गंभीर आरोप लगाए थे।

उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा था ‘जरिफ के अमरीका आने से भयभीत नहीं है, वह यहां पर अपने बोलने के अधिकार का प्रयोग मुक्त होकर कर सकते हैं’।

2020 से पहले अफगानिस्तान में अमरीकी सैनिकों की संख्या कम करना चाहते हैं ट्रंप: माइक पोम्पियो

हालांकि खुमैनी पर आरोप लगाते हुए कहा था, 'क्या खुमैनी के शासन में व्यवस्था इतनी खराब है कि वे पोम्पियो को तेहरान में बोलने नहीं दे सकते हैं।'

पोम्पियो ने आगे तंज भरे अंदाज में यह भी कहा, ‘क्या होगा यदि आपके लोग बिना किसी काट-छांट के व संपूर्ण सत्य सुनते’।

पोम्पियो और जरीफ

ईरान-अमरीका में बढ़ता तनाव

बता दें कि ईरान और अमरीका में लगातार तनाव बढ़ता जा रहा है। इसकी शुरुआत बीते साल तब हुई जब अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान के साथ परमाणु कार्यक्रम समझौते से खुद को अलग कर लिया और ईरान पर कई प्रतिबंध लगा दिए।

इसके बाद से बीते दो महीने में फारस की खाड़ीओमान की खाड़ी में तेल टैंकरों पर हो रहे हमलों से दोनों देशों में तनाव बढ़ गया है।

कुछ दिन पहले ईरान रिवोल्यूशनरी गार्ड्स ने जब अमरीकी ड्रोन को मार गिराने का दावा किया तो दोनों देशों में माहौल गरमा गया और युद्ध जैसे हालात बन गए।

ईरान का बदला: खाड़ी में रोका ब्रिटिश तेल टैंकर, यूके और यूएस से विवाद गहराने के आसार

 

ईरान के साथ बढ़ते तनाव के बीच अमरीका ने फारस की खाड़ी में सैन्य गतिविधि बढ़ानी शुरू कर दी है तो वहीं ईरान भी परमाणु गतिविधियों को खुलेआम बढ़ाना शुरू कर दिया है।

ईरान साफ कर दिया है कि जबतक अमरीका पाबंदियों को नहीं हटाता और यूरोपीय देश उन्हें आर्थिक मदद नहीं करते तब तक वह 2015 परमाणु समझौते को नहीं मानेगा।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned