बाढ़ ग्रस्त इलाकों के हवाई दौरे पर शिवराज : मौसम विभाग ने जारी की 48 घंटे में तेज बारिश की चेतावनी, खाली कराये गए 30 और गांव

बिगड़ी हुई स्थितियों का जायजा लेने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी बुधवार को ग्वालियर पहुंच गए हैं। सीएम यहां से बाढ प्रभावित इलाकों का हवाई दौरा कर रहे हैं।

By: Faiz

Updated: 04 Aug 2021, 05:45 PM IST

ग्वालियर/ मध्य प्रदेश के उत्तरी क्षेत्र में स्थित ग्वालियर-चंबल संभाग इन दिनों भारी बारिश और भीषण बाढ़ की चपेट में है। लगातार जारी बारिश से इलाके के नदी नाले उफान पर हैं, जिसके चलते इन संभागों के करीब 200 गांव बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। बिगड़ी हुई स्थितियों का जायजा लेने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी बुधवार को ग्वालियर पहुंच गए हैं। सीएम ने एयरपोर्ट पर एयरफोर्स के साथ साथ प्रशासनिक अधिकारियों से राहत-बचाव कार्यों और मौजूदा स्थितियों के संबंध में जानकारी ली। इसके बाद सीएम बाढ़ प्रभावित शिवपुरी, श्योपुर और दतिया के लिये रवाना हो गए। सीएम इन इलाकों के बाढ़ प्रभावित इलाकों के हवाई दौरे पर हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- श्योपुर में 3 दिन से जारी है मुसलाधार बारिश, कई गांवाें में घुसा पानी, राजस्थान से टूटा संपर्क, 30 लोगों को रेस्क्यू कर बचाया


सीएम मंत्रालय में बुलाई थी बैठक

दौरे पर रवाना होने से पहले सीएम शिवराज द्वारा मंत्रालय में आपात बैठक भी बुलाई थी, जिसमें मौसम विशेषज्ञ भी शामिल हुए थे, जिन्होंने बैठक में बताया था कि, उत्तरी मध्य प्रदेश के लिये आगामी 48 घंटे और भी भारी हो सकते हैं। मौजूदा स्थितियों के अनुसार, इस अवधि में यहां तेज बारिश की संभावना है। बैठक के दौरान ही सीएम ने ग्वालियर, श्योपुर, शिवपुरी, गुना, भिंड, मुरैना और दतिया के कलेक्टरों के अलावा राहत कार्य में लगे एयर फोर्स, NDRF, SDRF, होम गार्ड के अधिकाारियों से बात की। इस दौरान बताया गया कि श्योपुर के विजयपुर-वीरपुर में हालात बिगड़ने से 30 गांवों को खाली कराया जा रहा है। लोगों को बोट और हेलिकॉप्टर से सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने का कार्य जारी है।


मड़ीखेड़ा डैम के 10 गेट खोले गए

बता दें कि, शिवपुरी में लगातार जारी मुसलाधार बारिश के कारण नदी-नालों का जल स्तर तेजी से बढ़ रहा है। वॉटर लेवल बढ़ने से मड़ीखेड़ा डैम के 10 गेट बुधवार को खोले गए हैं। हालांकि, इसकी वजह से निचले इलाकों में हालात और खराब होने की संभावनाएं बढ़ गई हैं। बारिश के चलते पूरे ग्वालियर-चंबल अंचल के नदी-नाले उफान पर हैं। इलाके के सभी डैम भर चुके हैं, जिन्हें समय समय पर खोला जा रहा है। शिवपुरी के पास मड़ीखेड़ा डैम से छोड़े गए पानी की वजह से दतिया में सिंध नदी भी उफान पर आ गई है। इसी सिंध नदी पर रतनगढ़ माता मंदिर के नीचे पुल बना हुआ था, जो नदी के तेज बहाव से बह गया।

 

पढ़ें ये खास खबर- श्योपुर में 3 दिन से जारी है मुसलाधार बारिश, कई गांवाें में घुसा पानी, राजस्थान से टूटा संपर्क, 30 लोगों को रेस्क्यू कर बचाया


सबसे खराब हालात शिवपुरी और श्योपुर जिले के

सबसे ज्यादा प्रभावित शिवपुरी और श्योपुर जिले हैं। इन दोनों जिलों के 200 से ज्यादा गांव डूबे हैं। कई जगह पर सड़क और रेलवे ट्रैक पर पानी भर गया है। इसके अलावा ग्वालियर में भी हालात खराब हैं। ग्वालियर जिले में आगरा-मुंबई हाईवे पर पानी आने से आवागमन पूरी तरह से बंद करना पड़ा है।


पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने जाने एमपी के हालात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी मध्य प्रदेश में बाढ के हालातों के देखते हुए सीएम शिवराज से फोन पर बात करते हुए मौजूदा हालात के बारे में जानकारी ली। पीएम मोदी ने कहा कि मध्य प्रदेश में बाढ़ से हालात खराब हैं। केंद्र सरकार हालातों पर नजर बनाए रखे हैं। राज्य सरकार की मांग के अनुसार राहत कार्य में हर संभव मदद की जा रही है। शिवराज ने गृह मंत्री अमित शाह को एमपी में बाढ़ के दौरान चलाए जा रहे राहत और बचाव कार्यों के बारे में जानकारी दी। इसपर शाह की ओर से भी मुख्यमंत्री को आश्वस्त किया गया है कि, केंद्र मध्य प्रदेश के साथ है और लोगों को रेस्क्यू करने में जहां, जैसी जो भी आवश्यकता होगी, उसमें केंद्र की तरफ हर संभव मदद की जाएगी।

 

ग्वालियर : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किया हवाई सर्वे - video

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned