scriptMother died 5 hours after giving birth to daughter | चौथी बेटी को जन्म देने के 5 घंटे बाद मां की मौत | Patrika News

चौथी बेटी को जन्म देने के 5 घंटे बाद मां की मौत

बच्ची को जन्म देने के 5 घंटे बाद प्रसूता को लगाया गया इंजेक्शन, परिजन का आरोप- गलत इंजेक्शन लगाने से हुई मौत...

ग्वालियर

Published: December 04, 2021 05:41:52 pm

ग्वालियर. ग्वालियर में एक महिला की मौत के बाद परिजन ने अस्पताल में जमकर हंगामा मचाया। घटना माधौगंज इलाके के ठाकुर नर्सिंग होम की है जहां एक महिला ने शुक्रवार रात को एक बच्ची को जन्म दिया था। परिजन का आरोप है कि प्रसव के 5 घंटे बाद मां को डॉक्टर ने इंजेक्शन लगाया था जिसके बाद उसकी तबीयत बिगड़ी और आईसीयू में शिफ्ट करना पड़ा जहां शनिवार सुबह महिला की मौत हो गई। पुलिस ने परिजन की शिकायत पर मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है।

gwalior_death.jpg

परिजन ने डॉक्टर्स पर लगाया गलत इंजेक्शन लगाने का आरोप
भिंड के रहने वाले व्यवसायी मुकेश जैन की पत्नी पिंकी जैन को शुक्रवार को प्रसव पीड़ा होने पर माधौगंज स्थित ठाकुर नर्सिंग होम में भर्ती कराया था। परिजन ने बताया कि अस्पताल में शुक्रवार की देर शाम पिंकी ने बच्ची को जन्म दिया। डिलीवरी के बाद जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ्य थे। लेकिन रात करीब 12 बजे डॉक्टर ने पिंकी को एक इंजेक्शन लगाया जिसके बाद पिंकी की तबीयत बिगड़ गई और उसे आनन-फानन में अस्पताल में भर्ती करना पड़ा जहां इलाज के दौरान शनिवार सुबह पिंकी की मौत हो गई। पिंकी की ये चौथी डिलीवरी थी और उसकी पहले से ही तीन बेटियां हैं।

ये भी पढ़ें- पिता से सहन नहीं हुआ गर्भवती बेटी का दर्द, गोद में उठाकर लगाई दौड़, रास्ते में हुई डिलीवरी


गुस्साए परिजन ने किया जमकर हंगामा
पिंकी की मौत के बाद गुस्साए परिजन ने अपने रिश्तेदारों को अस्पताल में बुला लिया और जमकर हंगामा किया। परिजन ने डॉक्टरों पर गलत इंजेक्शन लगाने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि नर्स ने बताया था कि टांके जल्दी सूखने के लिए इंजेक्शन लगाया गया था लेकिन उसी इंजेक्शन के लगने के बाद पिंकी की मौत हो गई। अस्पताल में हंगामे की खबर लगते ही पुलिस मौके पर पहुंची और किसी तरह समझाइश देकर परिजन को शांत कराया। पुलिस ने परिजन की शिकायत पर मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है।

देखें वीडियो- घोड़े को हुई ऐसी बीमारी की लगाना पड़ा 'मौत' का इंजेक्शन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.