भाजपा सांसद ने प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि केन्द्र कराया बंद, कारण है चौंकाने वाला

भाजपा सांसद ने प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि केन्द्र कराया बंद, कारण है चौंकाने वाला

Bhanu Pratap Singh | Publish: Sep, 09 2018 06:05:38 PM (IST) Hathras, Uttar Pradesh, India

तीन सितम्बर को जिलाधिकारी ने जिला अस्पताल कैम्पस में किया था उद्घाटन, दो दिन बाद ही करा दिया बंद।

हाथरस। सरकार द्वारा गरीबों को सस्ते और अच्छे इलाज के लिए तमाम योजनाए योजनाए संचालित की जा रही है। इसी क्रम में हाथरस में प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि केंद्र का तीन सितम्बर को जिलाधिकारी रमाशंकर मौर्य ने जिला अस्पताल कैम्पस में शुभारम्भ किया था। इस स्टोर पर कई प्रकार की दवाएं बाजार से बहुत कम कीमत पर लोगों को उपलब्ध कराये जाने की बात कही गयी थी। दो दिन खुलकर यह स्टोर बंद हो गया है। इस केन्द्र को बंद कराया भारतीय जनता पार्टी के सांसद राजेश दिवाकर ने। वे 10 सितम्बर, 2018 को इसका फिर से उद्घाटन करेंगे। इसके बाद चालू होगा।

यह भी पढ़ें

SC/ST एक्ट पर शंकराचार्य का बड़ा बयान, मोदी सरकार पर साधा निशाना, देखें वीडियो

 

क्या है योजना

भारत के प्रधानमंत्री ‪नरेन्द्र मोदी द्वारा 1 जुलाई 2015 को ‪प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि योजना चालू की गयी थी। इस योजना में सरकार द्वारा जैनरिक (Generic) दवाइयां कम कीमत पर मिलती हैं। आम नागरिकों को बाजार से 60 से 70 फीसदी कम कीमत पर दवाइयां मुहैया कराने के उद्देश्य से केंद्र सरकार द्वारा देशभर में 1000 से ज्यादा जन औषधि केंद्र खोले जा रहे हैं। 3 सितम्बर को जब इस स्टोर का उद्घाटन हुआ था, तब जिलाधिकारी रमाशंकर मोर्य के साथ विधायक हरिशंकर माहौर, भाजपा जिलाध्यक्ष गौरव आर्य, नगर पालिका चेयरमैन आशीष शर्मा, अलीगढ़ के कोल विधायक, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक ब्रजेश राठौर, जिला अस्पताल के सीएमएस आईवी सिंह सहित अन्य चिकित्सक मौजूद रहे थे।

यह भी पढ़ें

सुबह होने से पहले यहां खुल जाते हैं शराब के ठेके, देखें वीडियो

 

सांसद ने बंद कराया है

पता चला है कि हाथरस के सांसद राजेश दिवाकर को इस उद्घाटन में नहीं बुलाया गया था। उनकी नाराजगी के चलते यह स्टोर बंद हो गया है। स्टोर संचालक से बात की गयी तो उनका कहना है कि उनके किसी निजी कारण से इस स्टोर पर नहीं आ पा रहे हैं, एक दो दिन में आकर स्टोर खोलेंगे। उधर सीएमओ से जानकारी की गयी तो उनका कहना था कि यह स्टोर सीएमएस के अधीन है, उनसे पता कीजिये। जिला अस्पताल के सीएमएस भी इसका साफ़ कारण नहीं बता सके।

यह भी पढ़ें

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अखिलेश यादव देने जा रहे बड़ा झटका, भाजपाइयों के उड़ जायेंगे होश

Ad Block is Banned