कोरोना की दूसरी लहर में बदल गए लक्षण, ज्यादातर युवा हो रहे संक्रमित

कोरोना वायरस की नई लहर ने ना केवल रोजाना जबर्दस्त ढंग से नए मामले बढ़ाए हैं, बल्कि इससे संक्रमितों में बदले हुए लक्षण देखने को मिल रहे हैं और ज्यादातर युवा भी संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं।

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में रोजाना तांडव मचाते कोरोना वायरस के बीच निजी डायग्नोस्टिक लैबों में सैंपल देने वाले लोगों को टेस्ट रिपोर्ट मिलने में देरी हो रही है। इसकी वजह टेस्टिंग लैब के कर्मचारियों का भारी संख्या में कोरोना संक्रमित होना है। वहीं, कोरोना की दूसरी लहर में इसके लक्षण बदले हुए नजर आ रहे हैं जबकि युवाओं की काफी संख्या इससे संक्रमित हो रही है।

मत पढ़ें यह खबरः कोविड मरीजों की सच्चाई बताती इस लेडी डॉक्टर की पोस्ट वायरल, नहीं रुकेंगे आंसू

इस बारे में जीनस्ट्रिंग्स लैब्स की संस्थापक निदेशक डॉ. गौरी अग्रवाल ने कहा, "निश्चित रूप से नए मामलों में तेज उछाल है, कई प्रयोगशालाओं के डेटा एंट्री ऑपरेटर्स और लैब कर्मचारियों को कोविड-19 के टेस्ट में पॉजिटिव पाया जा रहा है।"

उन्होंने आगे कहा, "लगातार भर्ती किए जाने की प्रक्रिया जारी है, आपको लोगों को प्रशिक्षित करना होगा और उन्हें सिस्टम में लाना होगा। समस्या कर्मचारियों के साथ है, मशीनों के साथ नहीं।"

डॉ. गौरी कहती हैं कि उनकी लैबोरेटरी द्वारा इकट्ठा किए गए सैंपलों के आंकड़े यह बताते हैं कि COVID-19 की दूसरी लहर ज्यादातर युवा युवाओं को प्रभावित कर रही है। उन्होंने कहा, "बुजुर्गों की तुलना में COVID पॉजिटिव पाए जाने वाले अधिकांश लोग युवा हैं। इस बार अलग-अलग लक्षण सामने आ रहे हैं। कई लोग शुष्क मुंह, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल परेशानी (पेट), मतली, दस्त, लाल आंखें और सिरदर्द की शिकायत कर रहे हैं। हर कोई बुखार की शिकायत नहीं कर रहा है।"

जरूर पढ़ेंः WHO ने दी चेतावनीः कोरोना के दौर ये 4 खतरनाक लक्षण दिखते ही तुरंत डॉक्टर से करें संपर्क

डॉ. गौरी ने आगे कहा, "पिछली बार एक लॉकडाउन था। इस बार कोई सावधानी नहीं बरती गई। हर कोई सड़क पर है फिर भी यह हकीकत है कि कोई भी बिस्तर नहीं है, कोई दवा नहीं है।"

उन्होंने लोगों से कोविड-उपयुक्त व्यवहार का पालन करने, कपड़े के मुखौटे से बचने और इसके बजाय N95 मास्क का इस्तेमाल करने की सलाह दी है।

दरअसल, राजधानी दिल्ली में रविवार को बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस के 25,462 नए मामले सामने आए। यह अब तक दिल्ली में एक दिन में पाए गए सर्वाधिक नए केस हैं। इसके साथ ही राजधानी में कोविड-19 संक्रमितों की कुल संख्या 8,53,460 तक पहुंच गई है। राजधानी में पिछले 24 घंटों के दौरान 161 लोगों की मौत भी हो गई है और पॉजिटिविटी रेट बढ़कर 30 फीसदी पहुंच गया है।

BIG NEWS: बदलना पड़ेगा कोरोना वायरस से लड़ाई का तरीका! घर के भीतर भी मास्क पहनना होगा जरूरी

डॉ. अग्रवाल ने कहा, "COVID की टेस्टिंग बढ़ गई है और होम कलेक्शन के लिए कॉल में भी भारी उछाल आया है, जिससे निपटना मुश्किल हो रहा है। इंफ्रास्ट्रक्चर या मशीनों की कोई परेशानी नहीं है। समस्या सरकार द्वारा बनाए गए अनिवार्य नियम की है कि हर 24 घंटे के भीतर ICMR में एंट्री करना (जानकारी देना) जरूरी है।"

बता दें कि रविवार को देश में लगातार चौथे दिन दो लाख से ज्यादा नए मामले दर्ज किए गए। पिछले 24 घंटों में भारत में 2,61,500 नए COVID-19 मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही कुल मामलों की संख्या बढ़कर 1,47,88,109 हो गई और मृत्यु का आंकड़ा 1,75,649 पर पहुंच गया है।

अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned