कोरोना की दवा मन से न लें, हार्ट पर होता है असर

वुहान के मरीजों पर हुए एक अध्ययन में पाया गया है कि कोरोना से होने वाले 20 फीसदी रोगियों की मृत्यु मायोकार्डियाटिस से हुई थी। यह हृदय में सूजन की समस्या होती है। इससे स्पष्ट होता है कि कोरोना वायरस हृदय को भी प्रभावित करता है। सावधानी बरतें।

By: Hemant Pandey

Published: 24 May 2020, 08:28 PM IST

हो सकता है अटैक
पिछले दिनों एक शोध में सामने आया है कि कोविड-19 के रोगियों में भी हार्ट अटैक हो सकता है क्योंकि इसके बाद शरीर में वे कारक बढ़ जाते हैं जो अटैक के लिए जिम्मेदार हैं। जैसे शरीर में ट्रोपोनिन लेवल काफी बढ़ जाता है इससे हार्ट अटैक होता है। साथ ही खून की नलियों में ब्लॉकेज (खून का थक्का) बनने की आशंका भी अधिक हो जाती है।
अनदेखी न करें
हृदय रोगों के मुख्य लक्षणों में सीने में बाईं तरफ दर्द के साथ सांस लेने में दिक्कत होती है। इसकी जांच के लिए ईसीजी, २डी इको और खून की कुछ जांचें की जाती हैं।
कोरोना में भी ऐसे लक्षण
कोरोना रोगियों में भी सांस लेने की दिक्कत होती है। लेकिन दोनों अलग हैं। बावजूद इसके दोनों ही जानलेवा हैं। ऐसे में लापरवाही बिल्कुल ही न करें। तत्काल हॉस्पिटल में दिखाएं। जरूरी होने पर कोविड-19 की जांच कराते हैं।
अपने मन से दवा न लें
हार्ट का रोगी कोई भी दवा अपने मन से न लें। कई मरीज पूछते हैं कि कोरोना के लिए हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन दवा हमें लेनी चाहिए या नहीं। इसे बिल्कुल ही न लें। इससे हृदय की गति अचानक से कम या ज्यादा हो जाती है। अचानक से हृदय की गति बढऩे-घटने से मरीज की जान भी जा सकती है।
इनका रखें ध्यान
कोरोना से बचाव के सामान्य सावधानी के साथ बाहर की चीजों को छूने से बचें। जिन्हें सर्दी-जुकाम है उनसे 6-10 फीट की दूरी पर रहें। भीड़भाड़ वाली जगहों से बचें। बाहर से लौटने के बाद कपड़े जरूर बदलें। पर्याप्त नींद लें। घर का बना ताजा और पौष्टिक भोजन ही करें।
डॉ. रामचंद्र शेरावत, हृदय रोग विशेषज्ञ, जयपुर

Hemant Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned