कमजोर हड्डियों को इन तरीकों से करें मजबूत

हड्डियां कैल्शियम, फॉस्फोरस, प्रोटीन व मिनरल्स से बनी होती हैं। हड्डियों में प्रोटीन की कमी से कैल्शियम व अन्य मिनरल्स जमा नहीं होते हैं। बोन डेंसिटी टेस्ट को टी, जेड स्कोर में मापते हैं। गलत खानपान, खराब जीवनशैली बढ़ती उम्र, वजन कम होने, हार्मोन असंतुलन, शराब, धूम्रपान के प्रयोग से हड्डियों का घनत्व (बोन डेंसिटी) कम होने लगती है। हल्की चोट से फ्रैक्चर होता है।

By: Hemant Pandey

Published: 04 Aug 2019, 06:55 PM IST

आहार में विटामिन डी, कैल्शियम, मैग्रीशियम,विटामिन-के, प्रोटीन और फास्फोरस की कमी से हडिडयां कमजोर होती हैं। इनमें सुबह की धूप न लेना भी कारण है। पुरुषों में टेस्टोरॉन हार्मोन, स्तनपान कराने वाली महिलाओं व मेनोपॉज के बाद ऐसी दिक्कत होती है। कई बार किसी बीमारी में स्टेरॉयड और कैंसररोधी दवाएं हड्डियां कमजोर होती हैं। डायबिटीज, थाइरॉयड की लंबे समय चल रही दवाएं भी नुकसान पहुंचाती हैं। इस कारण शरीर में दर्द बना रहता है, हमेशा कमजोरी महसूस होती है। कमर झुकने लगती है। कोई भी काम करने की इच्छा नहीं होती है। स्वाभाव में बदलाव आता है। मूड बदलता रहता है। चिड़चिड़ापन बढ़ता है। कमर दर्द, गर्दन दर्द शुरू हो जाता है। हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए नियमित योग करें। 30 मिनट की वॉक करें,जिससे पसीना आ जाए। खानपान में प्रोटीन युक्त डाइट, हरी सब्जियां लें। पीले रंग के फल, सब्जियों इसके लिए ज्यादा फायदेमंद हैं।

दूध

दूध कैल्शियम का अच्छा स्रोत है। इसके सेवन से हड्डियों में मजबूती आती है। नियमित रूप से दिन में दो बार दूध पीने आपको कैल्शियम के साथ प्रोटीन भी मिलता है। दूध में कैल्शियम के अलावा प्रोटीन, पोटेशियम, फास्फोरस, विटामिन ए, डी, बी12 और राइबोफ्लेविन प्रचुर मात्रा में होता है।

बादाम

बादाम में कैल्शियम के साथ ही विटामिन ई और ओमेगा-3 फैटी एसिड भी होता है। साथ ही बादाम में मौजूद फॉस्फोरस हड्डियों और दांतों को मजबूत बनाता है। इसके साथ ही इनसे जुड़ी बीमारियों के होने का खतरा भी कम हो जाता है।

पालक

पालक में बहुत अधिक मात्रा में कैल्‍शियम, आयरन और विटामिन 'के' होता है। इसमें मौजूद कैल्शियम और हरित तत्व हड्डियों को मजबूती प्रदान करता हैं। साथ ही इसमें विटामिन ए भी पाया जाता है। आप इसका सेवन सलाद या सब्‍जी के रूप में कर सकते हैं।

अंजीर

ताजे और सूखे दोनों तरह के अंजीर सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं। इसमें आयरन और कैल्शियम भरपूर मात्रा में होता हैं। जो हड्डियों के लिए बहुत उपयोगी होता है। ताजे अंजीर में फायटो न्यूट्रीएंट्स, एंटी आक्सीडेंट और विभिन्न विटामिन पाए जाते हैं, जबकि सूखे अंजीर कैल्शियम, कॉपर, मैग्नीशियम, आयरन, सेलेनियम व जिंक का अच्‍छा स्रोत है। ताजे अंजीर को सलाद के रूप में और सूखे अंजीर को दूध में उबालकर ले सकते हैं।

टमाटर

टमाटर में कैलोरी कम और पोषक तत्‍व बहुत अध्रिक मात्रा में पाए जाते हैं। टमाटर विटामिन ए, सी, एंटी आक्सीडेंट, अल्फा और बीटा कैरोटिन, जैनथेनियम और ल्युटिन का अच्छा स्रोत होता है, जो हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए बहुत उपयोगी होते है। साथ ही इसमें विटामिन बी कॉम्प्लेक्स और कई मिनरल जैसे आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में होते हैं।

Hemant Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned