मेनोपॉज में इन 3 कारणों से बढ़ता है वजन

महिलाओं में मेनोपॉज के दौरान वजन बढऩा सामान्य परेशानी है। इससे महिलाओं में कई तरह की बीमारियां जैसे हाई ब्लड प्रेशर, तनाव, डायबिटीज, हार्ट डिजीज, कैंसर आदि हो सकता है। जानते हैं क्यों बढ़ता वजन व कैसे बचें।

By: Hemant Pandey

Updated: 23 Aug 2020, 01:33 PM IST

मसल्स कमजोर होती और घटता मेटाबोलिज्म
मेनोपॉज शुरू होने के बाद तीन मुख्य कारणों से वजन बढ़ता है। पहला, शरीर में हार्मोनल बदलाव, इसमें एस्ट्रोजन का लेवल कम होता है। शरीर का मेटाबॉलिक दर घटने से वजन बढऩे लगता है। दूसरा, बढ़ती उम्र के साथ शरीर में मसल्स कमजोर होने लगते हंै। इससे फैट की मात्रा बढऩे लगती है। अगर इस दौरान फिजिकल एक्टिविटी न हो और डाइट पहले जैसी लेती हैं वजन बढ़ता है। तीसरा, नींद व एक्सरसाइज की कमी, अनहैल्दी डाइट और तनाव से भी मेनोपॉज में वजन बढ़ता है।
फूड डायरी बनाएं
साबुत अनाज, फल, सब्जियां और प्रोटीन वाली चीजें ज्यादा खाएं। प्रोसेस्ड फूड का परहेज करें। फूड डायरी बनाएं, कितनी डाइट लेते हैं। उसमें लिखें ताकि पता चले कि कितनी कैलोरी ले रही हैं। शाम को जल्दी खा लें। कोई भी नशा न करें।
३० मिनट व्यायाम जरूर करें
वजन नियंत्रित रखने के लिए रोज 30 मिनट का व्यायाम करें। इसमें घर के कार्यों को शामिल न करें। इसमें साइक्लिंग, स्वीमिंग, वॉकिंग और दूसरे व्यायाम करें। योग-मेडिटेशन 15 मिनट करें। तनाव मुक्त रहें। इससे ओवरइटिंग से बचेंगी। सप्ताह में एक बार वजन जरूर नपवाएं।
7-8 घंटे की नींद लें रोजाना। देर रात में सोने से बचें। कई शोधों में कहा गया है कि देरी से सोने से मेनोपॉज के दौरान वजन बढ़ता है।
डॉ. सुनिला खंडेलवाल, मेनोपॉज एक्सपर्ट, जयपुर

Hemant Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned