आज का पंचांग 24 मार्च 2019: पर्यटन में विशेष रुचि रखेंगे आज जन्म लेने वाले बच्चे, ऐसे होगा इनका भाग्योदय

आज का पंचांग 24 मार्च 2019: पर्यटन में विशेष रुचि रखेंगे आज जन्म लेने वाले बच्चे, ऐसे होगा इनका भाग्योदय

Faiz Mubarak | Updated: 24 Mar 2019, 12:33:16 PM (IST) होरोस्कोप

आज का पंचांग 24 मार्च 2019

ज्योतिष गुलशन अग्रवाल

आज जन्म लेने वाले बच्चों के नाम ता, ती, तू, ते, तो अक्षरों पर रख सकते हैं। आज प्रातः 07.40 मिनट तक जन्में बच्चों का जन्म चांदी के पाए में होगा, पश्चात लोहे के पाए में होगा। सूर्योदय से अर्धरात्रि 01.07 मिनट तक तुला राशि रहेगी पश्चात वृश्चिक राशि रहेगी। आज जन्म लिए बच्चे शरीर से सामान्य होंगे। प्रायः इनका भाग्योदय करीब 22 वर्ष की आयु में होगा। ऐसे जातक मानवधर्मप्रेमी व अवसरवादी होंगे। इन्हें पर्यटन में विषेश रुचि रहेगी। विज्ञान विषय में पारंगत होंगे। मान सम्मान की चाह रहेगी। तुला राशि में जन्में जातक को सहित्य प्रेम को कम नहीं करना चाहिए।

तिथि

सूर्योदय से रात्रि 08.51 मिनट तक रिक्ता संज्ञक चतुर्थी तिथि रहेगी। पश्चात पूर्णा संज्ञक पंचमी तिथि लगेगी। चतुर्थी तिथि में भगवान श्री गणेश का पूजन करना चाहिए। इससे सभी प्रकार के विघ्नों का नाश हो जाता है। पंचमी तिथि में नागों की पूजा करने से विष का भय नहीं रहता, सुशील स्त्री और उत्तम संतान प्राप्त होते हैं और श्रेष्ठ लक्ष्मी भी प्राप्त होती है।

नक्षत्र

सूर्योदय से प्रातः 07.40 मिनट तक चर चल स्वाती नक्षत्र रहेगा। पश्चात मिश्र साधारण विशाखा नक्षत्र लगेगा। वर-वधु की दिखाई रस्म, सगाई, विवाह आदि के लिए स्वाती नक्षत्र शुभ माने गए हैं। औषधि एवं रसायन के निर्माण सर्जरी और चिकित्सा संबंधी अन्य कार्यों के लिए विशाखा नक्षत्र शुभ माने गए हैं। वहीं, सन्यास , मुकदमेबाजी आदि कार्य विशाख नक्षत्र में किये जा सकते हैं।

योग

सूर्योदय से रात्रि 08.04 मिनट तक हर्षण योग रहेगा पश्चात वज्र योग लगेगा। हर्षण योग के स्वामी भंगदेव माने जाते हैं, जबकि वज्र योग के स्वामी वरुणदेवता माने गए हैं।

विशिष्ट योग

दोनो ही योगों को कार्य की शुरुआत के लिए अशुभ माना जाता है। अतिआवश्यक होने पर किसी भी कार्य की शुरुआत के लिए इन दोनो योगों के प्रथम 03.36 मिनट का त्याग करना चाहिए।

आज का शुभ मुहूर्त

अनुकूल समय में वस्तु विशेष का विक्रय करने के लिए शुभ मुहूर्त है।

श्रेष्ठ चौघड़िए

प्रातः 07.59 मिनट से दोपहर 12.30 मिनट तक क्रमशः चंचल लाभ व अमृत का चौघड़िया रहेंगे। एवं दोपहर 02.01 मिनट से 03.31 मिनट तक शुभ का चौघड़िया रहेगा।

करण

सूर्योदय से प्रातः 09.42 मिनट तक बव नामक करण रहेगा। इसके पश्चात बावल नामक करण लगेगा। इसके पश्चात करण लगेगा। इसके पश्चात कौलव नामक करण लगेगा।

व्रतोत्सव

व्रत/पर्वः संकष्टी श्री गणेश चतुर्थी व्रत।

चंद्रमाः सूर्योदय से अर्धरात्रि 01.07 मिनट तक चंद्रमा वायु तत्व की तुला राशि में रहेंगे। पश्चात जल तत्व की वृश्चिक राशि में प्रवेश करेंगे।

दिशाशूलः पश्चिम दिशा में। अगर हो सके तो आज पश्चिम दिशा में की जाने वाली यात्रा को टाल दें।

राहु कालः दोपहर 05.02.23 से सायंः 06.32.57 तक राहु काल वेला रहेगी। अगर हो सके इस समय में शुभ कार्यों को करने से बचना चाहिए।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned