बाबा का ढाबा पर छिड़ा विवाद, ब्लॉगर गौरव वासन ने दिया जवाब

  • बाबा का ढाबा ( Baba Ka Dhaba ) कैंपेन चलाने वाले फूड ब्लॉगर गौरव वासन पर धोखाधड़ी का आरोप।
  • वासन ने सभी आरोपों को खंडन करते हुए सभी सबूत ऑनलाइन शेयर करने की बात कही।
  • एक यूट्यूबर लक्ष्य चौधरी ने कही है वासन पर बाबा के ढाबा नाम पर ठगी करने की बात।

नई दिल्ली। मालवीय नगर में सड़क किनारे खाना बेचने वाले बाबा का ढाबा ( Baba Ka Dhaba ) के बुजुर्ग दंपति की दुर्दशा दिखाने के लिए दिल छू लेने वाला वायरल वीडियो शूट करने वाले स्वाद ऑफिशियल के फूड ब्लॉगर गौरव वासन पर धोखाधड़ी का आरोप लगा है। एक यूट्यूबर लक्ष्य चौधरी द्वारा वासन पर ऑनलाइन स्कैम संचालित करने का आरोप लगाया गया है। हाल ही में अपलोड किए गए एक वीडियो में चौधरी ने आरोप लगाया है कि वासन ने गरीब दंपति की मदद करने के बहाने दान मांगा था, लेकिन बाबा के ढाबा के मालिक कांता प्रसाद को दान का पैसा ट्रांसफर नहीं किया। हालांकि वासन ने इस आरोपों का खंडन किया है।

Unlock 6.0: केंद्र सरकार ने जारी कीं गाइडलाइंस, जानिए क्या खुलेगा और क्या नहीं

एक विशेष बातचीत के दौरान वासन ने बताया कि ये सभी आरोप अफवाह हैं, और उसने कोई "धोखाधड़ी" नहीं की है। इस महीने की शुरुआत में गरीबी से जूझते बुजुर्ग दंपति का वीडियो सोशल मीडिया पर आने के बाद वायरल हो गया था। देश भर के लोगों ने उनका समर्थन किया। इनमें बॉलीवुड के विभिन्न कलाकार भी शामिल थे, और इसके तुरंत बाद दिल्ली वालों ने फूड स्टॉल की ओर रुख करना शुरू कर दिया।

धोखाधड़ी के आरोपों के बारे में पूछे जाने पर वासन कहते हैं, "मैंने उन्हें (ढाबा मालिक कांता प्रसाद) को 2.33 लाख रुपये का चेक दिया था और उनके खाते में 1 लाख रुपये ट्रांसफर किए। यह कुल मिलाकर 3.33 लाख रुपये हो जाता है, जिसे मैंने उनके नाम पर दान के रूप में प्राप्त किया था। मैं वही साबित करने के लिए बैंक स्टेटमेंट की व्यवस्था कर रहा हूं।"

Electric Vehicles को बढ़ाने पर फोकस, दिल्ली सरकार दे रही 1.50 लाख तक का कैश इंसेटिव

गबन के सभी दावों का खंडन करते हुए वासन कहते हैं, "मेरे ऊपर लगाए गए सभी आरोप झूठे हैं। 9 अक्टूबर को मैंने बाबा को आश्वासन दिया था कि उनका पैसा मेरे पास सुरक्षित है, और मेरे पास उसका प्रमाण है।" चौधरी ने जो वीडियो जारी किया था, उसमें उन्होंने वीडियो जारी करने के बाद वासन पर ढाबा मालिकों को पैसे देने का आरोप लगाया था। उन्होंने अपने दावों में कहा कि बाबा के नाम पर वासन ने 20 लाख से अधिक की रकम जुटाई थी।

हालांकि वासन कहते हैं, "मैं कांता प्रसाद को चेक देने के लिए उस दिन दोपहर 1 बजे गया था जब मेरे ऊपर आरोप लगाने वाला वीडियो को शाम 5 बजे अपलोड किया गया था। इसके अलावा यदि मेरे खाते में कथितरूप से आरोप के मुताबिक 25 लाख रुपये होते, तो वहां उस दावे का समर्थन करने के लिए बैंक स्टेटमेंट भी होंगी। लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है!"

इस कोरोना वैक्सीन ने दिखाया कमाल, मरीजों का बेहतर हुआ हाल

दान के सबूत के लिए सोशल मीडिया पर बढ़ते शोर पर प्रतिक्रिया देते हुए, वासन का कहना है कि वह सभी सबूत पब्लिक डोमेन में डाल देंगे। उन्होंने कहा, "जो लोग सबूत मांग रहे हैं, वे ऐसा करके कुछ गलत नहीं कर रहे हैं, और मैं सभी जरूरी सबूतों को जारी कर दूंगा। ये आरोप सिर्फ मुझे नीचे दिखाने के लिए लगाए गए हैं, इसमें कोई सच्चाई नहीं है!"

उन्होंने आखिरी में कहा, "मैं जल्द ही सभी सबूत अपलोड कर रहा हू, और फिर लोग खुद तय कर सकते हैं।"

अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned