आज शनि प्रदोष पर करें ये एक उपाय, दूर होंगे सभी संकट

आज के दिन शिव की पूजा के इस उपाय से सभी कष्ट दूर हो जाते हैं।

By: सुनील शर्मा

Published: 12 Dec 2020, 08:20 AM IST

आज शनि प्रदोष का शुभ संयोग बन रहा है। जब कभी शनिवार को प्रदोष आती है तो उसे ही शनि प्रदोष कहा जाता है। शास्त्रों में शनि प्रदोष का बहुत महत्व बताया गया है। इस दिन भगवान शंकर के साथ ही शनिदेव की पूजा का महत्व है। आज के दिन शिव की पूजा के एक उपाय से सभी कष्ट दूर हो जाते हैं।

ज्योतिष के ये टोटके बिना एक रुपया खर्च किए बदल सकते हैं आपका भाग्य

सर्दियों के रोग दूर करेंगे देसी लड्डू, शरीर को भरपूर ताकत भी देंगे

आज 12 दिसंबर को (शनि प्रदोष) के दिन मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष की उदया तिथि द्वादशी सुबह 7 बजकर 3 मिनट तक रहेगी, उसके बाद त्रयोदशी तिथि लग जाएगी जोकि देर रात 3 बजकर 53 मिनट तक रहेगी।

ज्योतिषाचार्यों के अनुसार सूर्योदय से लेकर रात के प्रथम पहर तक प्रदोष व्रत किया जाता है। इस अवधि में अन्न नहीं खाया जाता। सूर्यास्त के ठीक बाद रात्रि के प्रथम प्रहर को प्रदोष काल कहा जाता है। त्रयोदशी तिथि को प्रदोष काल में ही भगवान शंकर तथा शिव परिवार की पूजा का विधान है। शनि प्रदोष के दिन शंकरजी के साथ ही शनिदेव की पूजा करने से शनिजनित कष्टों से काफी हद तक राहत मिलती है।

सुबह स्नान आदि से निवृत होकर शिवजी का ध्यान करते हुए व्रत और पूजा का संकल्प लें। प्रदोष काल में शिव परिवार की विधिविधान से पूजा करें। शिवजी को पुष्प, बेल पत्र आदि अर्पित करें. शिवजी के आगे घी का दीपक जलाएं और ऊं नमः शिवायः मंत्र का जाप करें। शिव पूजन के बाद शनिदेव की भी पूजा करें। पीपल के पेड़ में जल चढ़ाएं। तेल का दिया जलाकर शनि के बीज मंत्र या 108 नामों का जाप करें। चूंकि शनि की दृष्टि खराब मानी जाती है इसलिए उनकी प्रतिमा के दर्शन के समय बिल्कुल सामने से न करें।

आज के शुभ मुहूर्त ये रहेंगे

  • त्रयोदशी तिथि आरंभ 12 दिसंबर सुबह 7 बजकर 3 मिनट से
  • त्रयोदशी तिथि समाप्त 12 दिसंबर रात 3 बजकर 53 मिनट तक
  • प्रदोष व्रत 12 दिसंबर को सूर्यास्त शाम को 05 बजकर 25 मिनट पर
सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned