कोरोना वायरस के इलाज पर वैज्ञानिकों ने किया नया दावा, तांबे से जल्दी खत्म हो सकता है वायरस

  • Coronavirus Treatment : कैलिफोर्निया के नेशनल इंस्टीट्यूट आफ एलर्जी एंड इंफेक्शियस डिजीज हैमिल्टन, प्रिंस्टन विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने की रिसर्च
  • नए शोध से सीवियर एक्यूट रेस्पिरेट्री सिंड्रोम कोरोना वायरस-2 यानि सार्स सीओवी-2 को फैलने से रोकने में मिलेगी मदद

By: Soma Roy

Published: 22 Mar 2020, 10:08 AM IST

नई दिल्ली। कोरोना वायरस (Coronavirus) की चपेट में अब तक कई देश आ चुके हैं। इससे लाखों लोख प्रभावित हो रहे हैं। भारत में भी ये तेजी से बढ़ रहा है। ऐसे में वैज्ञानिक इसका इलाज ढूंढ़ने के लिए लगातार रिसर्च कर रहे हैं। हाल ही में कैलिफोर्निया (California) की एक यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने इस बारे में एक रिपोर्ट जारी की है। जिसके मुताबिक तांबे के प्रयोग से इस वायरस को जल्दी खत्म किया जा सकता है।

मोदी की नगरी वाराणसी में कोरोना का मिला पहला पॉजिटिव मरीज, अबु धाबी से लौटा था युवक

कोरोना वायरस से निपटने और इसका इलाज खोजने के लिए इसकी जड़ तक पहुंचना बहुत जरूरी है। इसीलिए दुनिया के कई वैज्ञानिक इस पर अलग-अलग रिसर्च कर रहे हैं। हाल ही में नेशनल इंस्टीट्यूट आफ एलर्जी एंड इंफेक्शियस डिजीज हैमिल्टन, प्रिंस्टन विश्वविद्यालय, कैलिफोर्निया ने इस बारे में रिसर्च की है। वैज्ञानिकों ने बताया कि नया कोरोना वायरस तांबे (Copper) की सतह पर जल्दी नष्ट हो जाता है। जबकि प्लास्टिक की वस्तुओं पर ये 96 घंटे तक जीवित रहता है। इसी तरह स्टील पर कोरोना वायरस 72 घंटे और कार्ड बोर्ड पर 24 घंटे तक जिंदा रहता है।

corona_1.jpg

वैज्ञानिकों ने यह भी बताया कि कोरोना वायरस तांबे पर सबसे जल्दी खत्म होता है। इसकी सतह पर वायरस महज चार घंटे तक ही जीवित रह सकता है। इसलिए लोगों को तांबे का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग करना चाहिए। इससे वायरस के खात्मे में मदद मिलेगी। रिसर्चर्स की इस नई रिपोर्ट से संक्रमण (infection) फैलाने वाले सीवियर एक्यूट रेस्पिरेट्री सिंड्रोम कोरोना वायरस-2 यानि सार्स सीओवी-2 के प्रसार को नियंत्रित करने में भी मदद मिलेगी।

Soma Roy
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned