अस्पताल में शव बना कंकाल : मामले में कलेक्टर-एसपी की बढ़ी मुश्किल, मानवाधिकार आयोग ने मांगा जवाब

एमवाय अस्पताल में शव बना कंकाल कलेक्टर-एसपी से मानवाधिकार आयोग ने मांगा जवाब।

By: Faiz

Published: 16 Sep 2020, 08:52 PM IST

इंदौर/ मध्य प्रदेश के सबसे बड़े सरकारी एमवाय हॉस्पिटल की मर्चुरी में मंगलवार सामने आए नर कंकाल का मामला अब गंभीर रूप ले रहा है। अस्पताल प्रबंधन की इस गंभीर लापरवाही पर मध्य प्रदेश मानवाधिकार आयोग ने भी संज्ञान ले लिया है। आयोग ने इस मामले में कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, एमवायएच अधीक्षक और अस्पताल प्रबंधन से चार सप्ताह में स्पष्ट जवाब मांगा है।

 

पढ़ें ये खास खबर- खुलासा : लंबे समय सिरदर्द रहना भी कोरोना का लक्षण, यहां बेकाबू संक्रमण पहुंचा 18 हज़ार के पार


एमवीय प्रबंधन ने शुरु की जांच

मानवाधिकार आयोग के मुताबिक, मामले में प्रबंधन का अमानवीय चेहरा सामने आया है। अस्पताल के मर्चूरी में एक अज्ञात शव कई दिनों तक स्ट्रेचर पर पड़े पड़े ही कंकाल बन गया, लेकिन किसी भी जिम्मेदार को उसके संबंध में कोई उचित फैसला लेने की फिक्र नहीं रही। बताया जा रहा है कि, शव पहले से ही खराब स्थिति में था, जिसे अज्ञात मानते हुए एक तरफ ढंककर रख दिया गया। हालांकि, अब तक शव के संबंध में कोई शिनाख्त नहीं हो सकी है। उधर, मामले की जांच के लिए एमवाय प्रबंधन ने तीन सदस्यीय कमेटी गठित कर जांच शुरु कर दी है।

 

पढ़ें ये खास खबर- CM शिवराज और उमा भारती की सभा में लगे नारे- बंद करो मतदान, बिक जाते हैं श्रीमान...

क्या है मामला?

प्रदेश के सबसे बड़े महाराजा यशवंत राव होल्कर अस्पताल (एमवायएच) में मंगलवार को मानवता को शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया। अस्पताल की मर्चुरी में पिछले कई दिनों से एक अज्ञात शव पड़ा था। प्रबंधन की लापरवाही की इंतेहा ये रही कि, स्ट्रेचर पर पड़े पड़े शव में कीड़े लग गए, हालत ये हो गई कि, मौजूदा समय में शव कंकाल में तब्दील हो गया। शव से बदबू इस कदर उड़ रही थी कि, आसपास के इलाके में खड़े रहना संभव नहीं था, बावजूद इसके वहां से गुजरने वाले जिम्मेदार नाक पकड़ कर तो निकल रहे थे, लेकिन किसी को उस शव के लिए कोई सही सुझाव नहीं था। मीडिया द्वारा मामले को उठाए जाने के बाद एमवायएच प्रबंधन दिखावे की हरकत दिखाते हुए सड़े गले शव के संबंध में मर्चूरी इंचार्ज को सिर्फ नोटिस थमा दिया।

 

पढ़ें ये खास खबर- MP Corona Update : कोरोना संक्रमितों की संख्या पहुंची 93 हजार के पार, अब तक 1820 लोगों की मौत


प्रबंधन को नहीं पता कहां से आया शव

अस्पताल प्रबंधन की ओर से इस बात की पुष्टि तो हो चुकी है कि, मर्चुरी में कंकाल बना शव लावारिस है, लेकिन कई मीडिया रिपोर्ट्स में तो यहां तक कहा जा रहा है कि, उक्त शव कहां से अस्पताल की मर्चुरी में आया है, इस बात की जानकारी भी प्रबंधन को नहीं है। शव लावारिस होने के कारण बिना पर्ची के ही मर्चूरी में रखवा दिया गया था। सवाल ये है कि, इतने समय में प्रबंधन के किसी भी जिम्मेदार ने शव की शिनाख्त या उसके क्रियाक्रम के संबंध में भी सुध नहीं ली। मर्चुरी में बॉडी कूलर की व्यवस्था नहीं थी, जिसके चलते इतने दिनों तक शव को मर्चूरी हाल में ही पन्नी लपेटकर स्ट्रेचर पर पटक दिया। मर्चुरी कर्मचारियों के मुताबिक, शव के डिकंपोज होने पर पोस्टमार्टम रूम के डाक्टरों को अवगत भी किया गया, लेकिन किसी ने भी इसपर ध्यान नहीं दिया।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned