दिसंबर में 17 राज्यों के टैक्स रेवेन्यू से ज्यादा की शराब पी गई दिल्ली

  • दिसंबर के महीने में 1000 करोड़ रुपए की शराब पी गए दिल्लीवासी
  • देश के 17 राज्यों का 1000 करोड़ रुपए से कम है जीएसटी रेवेन्यू
  • दिल्ली में एक्साइज डिपार्टमेंट के टैक्स के रूप में मिले 465 करोड़ रुपए

By: Saurabh Sharma

Updated: 03 Jan 2020, 02:43 PM IST

नई दिल्ली। दिसंबर के महीने में जहां जीएसटी कलेक्शन ( GST collection ) का एक लाख करोड़ रुपए के पार गया। वहीं मैन्युफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स सूचकांक ( Manufacturing Purchasing Managers Index ) में उछाल देखने को मिला। अब जो आंकड़ा सामने आ गया है वो बेहद दिलचस्प है। दिल्ली के लोग दिसंबर के महीने में करीब 1000 करोड़ रुपए की शराब पी गए। ताज्जुब की बात तो ये है कि आंकड़ा देश के 17 राज्यों के जीएसटी कलेक्शन से ज्यादा है। जबकि देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली ( National capital Delhi ) ने इस महीने जीएसटी कलेक्शन करीब 3700 करोड़ रुपए का किया है।

यह भी पढ़ेंः- जम्मू कश्मीर से 370 हटाने के बाद सरकार की भरी झोली, 5 महीने में हुआ करीब 1700 करोड़ का फायदा

देश की राजधानी में पी गई 1000 करोड़ रुपए की शराब
साल 2019 के अंतिम महीने में दिल्ली के लोग एक हजार करोड़ रुपए की शराब पी गए। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इस बात का आंकलन नहीं हो सका है कि आखिरी दिन 31 दिसंबर 2019 को शराब की कितनी बोतलें बिकी हैं। वहीं बात शराब टैक्स की करें तो इस बार दिसंबर में आबकारी विभाग को टैक्स के रूप में 465 करोड़ रुपए मिले हैं। पिछले साल दिसंबर के महीने में यह आंकड़ा 460 करोड़ रुपए था। आबकारी विभाग के अनुसार इस राशि की गणना वेंडर्स, होटल और बार को दी जाने वाली शराब के आधार पर की जाती है। देश की राजधानी दिल्ली में सरकारी और निजी दुकानों कुल संख्या 864 हैं। 951 होटल, बार और क्लबों के पास ग्राहकों को शराब सर्व करने का लाइसेंस है।

s1.jpg

दिलचस्प है यह आंकड़ा
जब पत्रिका डॉट कॉम ने देश को जीएसटी कलेक्शन देने वाले राज्यों के आंकड़ों से दिल्ली वालों के शराब खर्च को कंपेयर किया तो चौंकाने वाली बात सामने आई। देश के 17 राज्य ऐसे पाए गए जिनका जीएसटी कलेक्शन दिल्ली वालों के शराब के खर्च से कम है। इसमें से कई कुछ नाम तो बेहद चौंकाने वाले हैं। जम्मू कश्मीर 409 करोड़, हिमाचल प्रदेश 699 करोड़, सिक्किम 214 करोड़, बात बिहार की करें तो 1016 करोड़ रुपए हैै। दिल्ली वालों के शराब के खर्च से कुछ ज्यादा, असम 991 करोड़, गोवा 363 करोड़ रुपए का जीएसटी कलेक्शन किया है।

s2.jpg

दिल्ली आबकारी विभाग को मिला टैक्स
दिल्ली आबकारी विभाग को दिसंबर के महीने के में शराब से जितना टैक्स मिला है, उतना भी कई राज्य जीएसटी कलेक्शन नहीं कर सके हैं। देश के करीब 14 राज्य ऐसे हैं जिनका जीएसटी कलेक्शन दिल्ली आबकारी विभाग को मिलने वाले टैक्स से कम है। नागालैंड, त्रिपुरा, मेघालय, मिजोरम जैसे राज्यों का नाम शामिल है। दिल्ली के आबकारी विभाग को दिसंबर के महीने में 465 करोड़ रुपए का टैक्स मिला है। जबकि पिछले साल दिसंबर में 460 करोड़ रुपए टैक्स मिला था।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned