Tesla से ज्यादा कमाई कर रही है Gloves बनाने वाली कंपनियां, कोरोना के कारण शेयर में 1000 फीसदी का उछाल

  • मलेशिया की तीन सबसे बड़ी ग्लव्स निर्माता कंपनियों के मार्केट कैपिटलाइजेशन (एमकैप) में इस साल कुल 26 अरब डॉलर (1.95 लाख करोड़ रुपए) की बढ़ोतरी दर्ज हुई है
  • ग्लब्स बनाने वाली टॉप 4 कंपनियों ( GLOVES MANUFACTURING COMPANY ) के ओनर्स जून के महीने में ही अरबपति ( Gloves company owner became billionaires )बन चुके हैं।

By: Pragati Bajpai

Published: 20 Jul 2020, 05:17 PM IST

नई दिल्ली: कोरोना ( coronavirus ) ने पूरी दुनिया की हालत खराब कर रखी है । हर कोई काम ठप्प होने की बात कह रहा है लेकिन ये महामारी भी कुछ लोगों के लिए कमाई का दौर बनकर आई है। मलेशिया में रबर के ग्लब्स ( RUBBER GLOVES ) बनाने वाली कंपनियों के बारे में ये बात बिल्कुल सही बैठती है। ग्लब्स बनाने वाली टॉप 4 कंपनियों ( GLOVES MANUFACTURING COMPANY ) के ओनर्स जून के महीने में ही अरबपति ( Gloves company owner became billionaires )बन चुके हैं। सबसे ज्यादा फायदा सुपरमैक्स कॉर्प कंपनी को हो रहा है। ब्लूमबर्ग बिलियनेयर्स इंडेक्स के अनुसार सुपरमैक्स कॉर्प कंपनी के फाउंडर थाई किम सिम जून महीने की शुरुआत में 1 बिलियन डॉलर ( करीब 7612 करोड़ रुपए ) के उच्च स्तर के साथ अरबपतियों के क्लब में शामिल हो गए थे ।

घर बैठे Reprint करें Aadhar Card, मात्र 50 रूपए करने होंगे खर्च

अब खबर आ रही है कि इन कंपनियों के शेयरों में 1000 फीसदी तक का इजाफा हुआ है जोकि इस साल अपने फायदे के चलते चर्चा बटोर रही है अमेरिका की टेस्ला कंपनी ( Tesla Companies ) से भी ज्यादा है। ( टेस्ला के शेयरों में 259 फीसदी का उछाल है )

Gloves कंपनियों में हो रहा है सबसे ज्यादा निवेश – आज आलम ये है कि मलेशिया में हर 10 रूपए के निवेश में से 1 रूपए से ज्यादा का निवेश गल्व्स कंपनियों के लिए है। इसी का नतीजा है कि मलेशिया की तीन सबसे बड़ी ग्लव्स निर्माता कंपनियों के मार्केट कैपिटलाइजेशन (एमकैप) में इस साल कुल 26 अरब डॉलर (1.95 लाख करोड़ रुपए) की बढ़ोतरी दर्ज हुई है।

यहां ध्यान देने वाली बात ये भी है कि पूरी दुनिया के रबर उत्पादन का 65 फीसदी उत्पादन मलेशिया में होता है, लेकिन इस साल कोरोना वायरस की वजह से रबर के ग्लब्स की डिमांड तेजी से बढ़ी है दरअसल वायरस से बचाव के लिए ग्लब्स पहनना लगभग हर इंसान के लिए जरूरी हो गया है। ऐसे में इनकी हर दिन के साथ बढ़ती डिमांड ने ग्लब्स की बिक्री में शानदार इजाफा किया । ऐसे में जो कंपनियां इस सेक्टर में शामिल थीं उन्हें तेजी से फायदा पहुंचा। दुनिया की सबसे बड़ी ग्लब्स बनाने वाली कंपनी हार्टलेगा और कोसन को बहुत फायदा हुआ।

coronavirus
Pragati Bajpai
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned