सरकार ने BPCL के Privatization के नियमों को बनाया आसान, निवेशकों को होगा ऐसा लाभ

  • अब एक अधिक कंपनियां मिलकर लगा सकेंगी बीपीसीएल के लिए बोली, और भी किए बदलाव
  • कोविड के चक्कर में चार बार खिसकाई जा चुकी है तारीख, बोली के लिए 30 सितंबर अंतिम तारीख

By: Saurabh Sharma

Updated: 06 Sep 2020, 10:58 AM IST

नई दिल्ली। सरकार ने भावी बोलीदाताओं के लिए भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड में सरकार की पूरी 52.98 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने में रुचि रखने वाले मानदंडों को और भी आसान कर दिया है, ताकि जीतने वाले उम्मीदवार को शेयर खरीद समझौते पर हस्ताक्षर करने से पहले कभी भी अपनी कॉर्पोरेट इकाई के पुनर्गठन की अनुमति दी जा सके। इसका मतलब यह होगा कि बीपीसीएल निजीकरण ( Privatization of BPCL ) में जीतने वाला उम्मीदवार या कंपनी अधिक निवेशकों को साथ ले सकती है और विशेष प्रयोजन वाहन (एसपीवी) की संरचना को बदल सकती है, जिसने शेयर खरीदने का काम पूरा करने से पहले कभी भी भारतीय रिफाइनरी के लिए ब्याज की अभिव्यक्ति रखी।

यह भी पढ़ेंः- अमेजन पर चाइनीज ब्रांड्स को फर्जी रेटिंग देने का बड़ा खुलासा,जानिए फिर क्या हुआ

30 सितंबर तक दे सकते हैं ईओआई
यह उन निवेशकों को अधिक आत्मविश्वास देने की उम्मीद करता है, जो महसूस करते हैं कि कंसोर्टियम दृष्टिकोण बीपीसीएल या अन्य जो निजी निवेशक के प्रबंधन में भाग लेने के लिए एक महत्वपूर्ण निवेशक प्राप्त करते हैं, अधिग्रहण के लिए सबसे उपयुक्त है। कोविड व्यवधानों के मद्देनजर, बीपीसीएल के लिए बोली को ईओआई प्रस्तुत करने के साथ चार बार स्थगित कर दिया गया है, जिसे अब 30 सितंबर तक बढ़ा दिया गया है। सरकार ने अब अधिकतम ब्याज प्राप्त करने के लिए प्रक्रिया को और अधिक लचीला बना दिया है।

यह भी पढ़ेंः- यूपी को Ease of Doing Business Ranking में दूसरा स्थान, जानिए आपके प्रदेश की है कौन सी रैंकिंग

नियमों में किया लचीलापन
पीआईएम में बदलावों ने न केवल एसपीए पर हस्ताक्षर करने के समय तक बीपीसीएल में शेयरों पर निवेश वाहन को शामिल करने के लिए इच्छुक पार्टियों को लचीलापन दिया है, बल्कि 100 फीसदी सहायक बनाने के लिए इच्छुक पार्टी को लचीलापन भी प्रदान किया है, जो कि बीपीसीएल में सरकार की हिस्सेदारी के अधिग्रहण के लिए एक एसपीवी के रूप में एकमात्र बोलीदाता हैं।

यह रखी है शर्त
आपकों बता दें कि सरकार ने कहा है कि बीपीसीएल के अधिग्रहण के लिए बोली लगाने की इच्छुक कंपनियों को आवश्यक सुरक्षा मंजूरी लेनी होगी। शुरुआती पीआईएम प्रावधान के अनुसार, आवश्यक सुरक्षा मंजूरी यदि जरूरी हुई, तो इसे भारत सरकार के निर्देश के अनुसार हासिल करना होगा। प्रत्येक क्यूआईपी को वित्तीय बोली जमा कराते समय सुरक्षा मंजूरी के लिए आवेदन करना होगा।

Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned