scriptOnline gambling and betting market around 6.50 lakh crore rs by 2024 | 2024 तक करीब 6.50 लाख करोड़ रुपए का हो जाएगा Online Gambling and Betting Market | Patrika News

2024 तक करीब 6.50 लाख करोड़ रुपए का हो जाएगा Online Gambling and Betting Market

  • भारत में धीरे-धीरे बढ़ रहा है ऑनलाइन जुए का कारोबार, कई राज्यों की ओर से किए गए बैन
  • 2018 में अमरीकी सुप्रीम कोर्ट ने स्पोर्ट्स गैंबलिंग को किया था वैध, न्यू जर्सी है सबसे बड़ा मार्केट

नई दिल्ली

Updated: September 04, 2020 03:02:54 pm

नई दिल्ली। भारत में बीते कुछ महीनों से ऑनलाइन गैंबलिंग को लेकर बड़ी कार्रवाई हुई हैं। हाल ही में आंध्रप्रदेश में ऑनलाइन गेम में बैन भी लगाया है। जिसमें आशंका जताई गई कि इन गेम के माध्यम से बड़े लेवल जुए का कारोबार चल रहा था। बीते कुछ हफ्तों में 1100 करोड़ रुपए के रैकेट का पर्दाफाश भी किया गया था। वहीं दूसरी ओर ग्लोबल लेवल पर इसके कारोबार में लगातार तेजी देखने को मिल रही है। एक अनुमान के अनुसार ऑनलाइन जुआ बाजार ( Online Gambling and Betting Market ) 2019 से 2024 तक करीब 9 फीसदी की तेजी के साथ बढ़ रहा है। खास बात तो ये है इस दौरान इसका ग्लोबल मार्केट 6 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का हो जाएगा।

Online gambling and betting market around 6.50 lakh crore rs by 2024
Online Gambling and Betting Market

यह भी पढ़ेंः- Vodafone Idea Share Price : 52 हफ्तों की उंचाई पर पहुंचकर फिसला शेयर, जानिए इसका कारण

6.5 लाख करोड़ का हो जाएगा जुआ कारोबार
ग्लोबल लेवल पर जुआ कारोबार में जबरदस्त तेजी देखने को मिल रही है। विदेशी मीडिया की रिपोर्ट में दिए गए अनुमन के अनुसार 2019 से 2024 के दौरान ऑनलाइन जुआ बाजार 87.75 बिलियन डॉलर यानी 6.50 लाख करोड़ रुपए तक होने की संभावना है। पूर्वानुमान अवधि के दौरान ऑनलाइन सट्टेबाजी सबसे तेजी से बढऩे वाला सेगमेंट है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, चॉबट, और मशीन लर्निंग ने बाजार पर कब्जा कर लिया है। कैसीनो में महिला आबादी की संख्या में इजाफा और गेमिंग के दौरान भुगतान के कैशलेस मोड की सुविधा पूर्वानुमान की अवधि के दौरान ऑनलाइन जुआ बाजार को बढ़ावा मिलने की संभावना है। 2018 में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा खेल में सट्टेबाजी को संयुक्त राज्य में वैध किया गया था जिसके बाद से ऑनलाइन बेटिंग कंपनियां अपने कारोबार को बढ़ाने में जुटी हुई हैं।

यह भी पढ़ेंः- Amreek Sukhdev Dhaba और Garam Dharam के 81 कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव, करीब 6 राज्यों में बढ़ सकते हैं मामले

फीफा जैसे इवेंट्स में होती है ऑनलाइन बेटिंग
ऑनलाइन सट्टेबाजी सेगमेंट को मुख्य रूप से स्पोट्र्स श्रेणी में लागू किया जाता है, विशेष रूप से फीफा विश्व कप और यूरोपीय चैंपियनशिप जैसे आयोजनों में इसका ज्यादा यूज होता है। ऑनलाइन सट्टेबाजी हॉर्स रेस और ग्रेहाउंड रेसिंग में भी लोकप्रिय है। ऑनलाइन सट्टेबाजी कंपनियां तो कई खेलों की टीम को भी स्पांसर कर रही हैं। ताकि उनका विस्तार होने के साथ मार्केटिंग भी हो सके। 2018 विश्व कप के लिए, गेमिंग इनोवेशन ग्रुप ने सट्टेबाजी के लिए एक प्लेटफॉर्म लॉन्च किया था।

यह भी पढ़ेंः- Vodafone Idea का अमेजन के निवेश से इनकार, कहा, ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं

नॉर्थ अमरीका सबसे तेजी से बढ़ता कारोबार
संयुक्त राज्य अमरीका में ऑनलाइन सट्टेबाजी के लिए मौजूदा कानून के मुतााबिक नेवादा, पेंसिल्वेनिया और न्यू जर्सी में लाइसेंस प्राप्त सट्टेबाजों को कानूनी रूप से संचालित करने की अनुमति देती है, क्योंकि ये तीन राज्य हैं जहां ऑनलाइन सट्टेबाजी को विनियमित किया जाता है। पेंसिल्वेनिया ऑनलाइन जुए को वैध और विनियमित करने वाला चौथा और सबसे बड़ा राज्य है। नया कानून ऑनलाइन कैसीनो, ऑनलाइन पोकर, खेल सट्टेबाजी के लिए अनुमति देता है। न्यू जर्सी वर्तमान में संयुक्त राज्य अमरीका में विनियमित ऑनलाइन जुए का सबसे बड़ा बाजार है। ऑनलाइन गेमिंग के मामले में कनाडा काफी अनियमित देश है। जबकि, मेक्सिको अपने जुआ कानूनों की समीक्षा कर रहा है, जिसका उद्देश्य ऑनलाइन जुए के क्षेत्र को विनियमित करना है और इसे देश के बाकी जुआ उद्योग के अनुरूप लाना है।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Azadi Ka Amrit Mahotsav में बोले पीएम मोदी- ये ज्ञान, शोध और इनोवेशन का वक्तभारत ने ओडिशा तट से ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफलतापूर्वक किया परीक्षणNEET UG PG Counselling 2021: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- नीट में OBC आरक्षण देने का फैसला सही, सामाजिक न्‍याय के लिए आरक्षण जरूरीटोंगा ज्वालामुखी विस्फोट का भारत पर भी पड़ सकता है प्रभाव! जानिए सबसे पहले कहां दिखा असरCorona cases in India: कोरोना ने तोड़ा 8 महीने का रिकॉर्ड; 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा कोरोना के नए केस, मौत का आंकड़ा 450 के पारपंजाब के बाद अब उत्तराखंड में भी बदलेगी चुनाव तारीख! जानिए क्या है बड़ी वजह6 रुपये की चाय, 37 रुपये में नाश्ता, जानें चुनावी खर्च के नियमZainab Abbas से आंखें नहीं मिला पा रहे थे मोहम्मद रिज़वान, महिला ने किया विकेटकीपर का सम्मान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.