scriptcheetah from namibia to india, know history of cheetah in jaipur | विलायत से दो हिंसक चीते रेल से लाए गए थे जयपुर, पढ़ें पूरी खबर | Patrika News

विलायत से दो हिंसक चीते रेल से लाए गए थे जयपुर, पढ़ें पूरी खबर

Cheetah: ढूंढाड़ के घने जंगलों में चीतों की प्रजाति करीब सवा सौ साल पहले ही लुप्त हो गई थी। उस दौर में सवाई माधो सिंह द्वितीय ने अगस्त, 1914 में हैदराबाद के तत्कालीन निजाम को पत्र लिख चीते भेजने का आग्रह किया था।

जयपुर

Published: September 17, 2022 01:30:47 pm

जितेन्द्र सिंह शेखावत
ढूंढाड़ के घने जंगलों में चीतों की प्रजाति करीब सवा सौ साल पहले ही लुप्त हो गई थी। उस दौर में सवाई माधो सिंह द्वितीय ने अगस्त, 1914 में हैदराबाद के तत्कालीन निजाम को पत्र लिख चीते भेजने का आग्रह किया था। जवाब में निजाम ने माधो सिंह को लिखा था कि हैदराबाद रियासत के जंगलों में भी चीतों की प्रजाति लुप्त हो चुकी है।

cheetah from namibia to india, know history of cheetah in jaipur

इसके कुछ दिन बाद विलायत से एक अंग्रेज दंपती विल फ्रायड माधो सिंह के मेहमान बनकर आए। उन्होंने चीता देखने की इच्छा जताई तब माधो सिंह ने उनसे कहा कि ढूंढाड़ के जंगलों में चीते लुप्त होने के बाद हमारे पालतू चीते भी मर चुके हैं। तब उस दंपती ने जयपुर से जाते समय इंग्लैंड से चीते भेजने का वादा किया था।

जयपुर फाउंडेशन के सियाशरण लश्करी के मुताबिक विल फ्रायड की इंग्लैंड में अचानक मृत्यु के बाद उनकी पत्नी ने अप्रैल 1921 में चीते के दो शावक कावस जदीन फर्म के जरिए जयपुर भेजे थे। समुद्री जहाज से मुंबई पहुंचे उन चीतों को रेल से जयपुर लाया गया। एक चीते की मृत्यु के पांच साल बाद जीवित बचे दूसरे चीते को रामनिवास बाग के जंतुघर में रखा गया। इस चीते को पालने वाले नन्हे खान को 26 अगस्त 1931 से खुराक के पेटे दस रुपए मासिक दिए गए थे।

यह भी पढ़ें

70 साल बाद हिंदुस्तान की जमीं पर दौड़े चीते, पीएम ने किए फोटोशूट, चीता सफारी भी शुरू

तब मुंह पर छीका लगे हिंसक चीते चौपड़ घूमने आते थे
जयपुर के तत्कालीन राजा पालतू चीतों से हिरण आदि जंगली जानवरों का शिकार करवाते थे। रामगंज में चीतावालों के मोहल्ले में इन चीतों को घरों में पाला जाता था। मुगल शासन में एक चीता पालक वाजिद खान अफगानिस्तान से परिवार सहित दिल्ली आया था। अकबर की अजमेर यात्रा के दौरान सांगानेर के जंगल में चीते से हिरण का शिकार कराया था।

तत्कालीन महाराज जगत सिंह ने चीता पालक निजामुद्दीन को अलवर से बुलाकर जयपुर में बसाया था। चीता पालक चीते के मुंह पर छींका व गले में चमड़े की बेल्ट बांध बड़ी चौपड़ तक घुमाने लाते। चीते की आंखों में पट्टी बांध शिकार करवाने के लिए बैलगाड़ी से जंगल में ले जाया जाता था। अंग्रेज़ मेहमानों को चीते से शिकार करने का चाव रहता था। ऐसे में अंग्रेज हाकिमों को खुश करने के लिए घने जंगल में शिकार कैंप लगाकर उनके सामने चीते को शिकार के लिए छोडा जाता।

वह चीता शिकार को मुंह में दबा कर वापस जाता तब मेहमान ख़ुशी से झूम उठते। मोहल्ला चीतावालान के पूर्वज निजामुद्दीन का मकान निजाम महल कहलाता है। वर्ष 1928 में अजीमुद्दीन के पास चीता पालने का लाइसेंस था। पर्यटन अधिकारी रहे गुलाब सिंह मिठड़ी के मुताबिक 80 मील/घंटे की रफ्तार से दौड़ता चीता पलक झपकते ही शिकार को मुंह में दबा कर लाता और मेहमान के सामने रख देता।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

'आज भी TMC के 21 विधायक संपर्क में, बस इंतजार करिए', मिथुन चक्रवर्ती ने दोहराया अपना दावाVideo: महबूबा मुफ्ती ने किया Pakistan PM का समर्थन, जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर दिया ये बयान'PFI पर कार्रवाई करने में इतना वक्त क्यों लगा?', प्रियंका चतुर्वेदी ने कश्मीर को लेकर PM मोदी पर साधा निशाना2 खिलाड़ी जिनका करियर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बीच सीरीज में हुआ खत्म, रोहित शर्मा नहीं देंगे मौका!चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग हुए हाउस अरेस्ट! बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी के Tweet से मचा हड़कंपयुवाओं को लश्कर-ए-तैयबा और ISIS में शामिल होने को उकसा रहा था PFI, ग्लोबल फंडिंग के सबूतअंकिता हत्याकांड : जांच के लिए गठित की गई SIT, CM ने कहा- "चाहे कोई भी हो, अपराधियों को नहीं बख्शा जाएगा"अंकिता भंडारी मर्डर केसः 7 दिन बाद मिली लाश, BJP नेता के बेटे पर देह व्यापार का आरोप, जानिए अब तक की 10 बड़ी बातें
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.