script राजस्थान में यहां अचानक 45 भेड़ों की एक साथ तड़प- तड़प कर मौत | Here in Rajasthan, 45 sheep died | Patrika News

राजस्थान में यहां अचानक 45 भेड़ों की एक साथ तड़प- तड़प कर मौत

locationजयपुरPublished: Feb 05, 2024 10:37:13 am

Submitted by:

santosh Trivedi

राजस्थान में अचानक 45 भेड़ों की मौत हो गई। मौके पर पहुंचे चिकित्सकों की टीम ने बीमार हुई अन्य भेड़ों का उपचार किया, जिससे मौत होने का सिलसिला रूक गया। जानिए पूरा मामला-

sheep_dies.jpg

जयपुर/कालाडेरा. थाना क्षेत्र के ग्राम भीलपुरा स्थित खाल्डे में फूड पोइजिंग से 45 भेड़ों की मौत हो गई। बाद में सूचना मिलने पर मौके पर जालसू ब्लॉक पशु चिकित्सकों की टीम पहुंची और मृत भेड़ों का पोस्टमार्टम किया। जालसू ब्लॉक के पशुपालन विभाग के उपनिदेशक डॉ. ओमप्रकाश अटल ने बताया कि ग्राम भीलपुरा खाल्डे में फूड पोइजिंग से बड़ी संख्या में भेड़ों की मौत होने की जानकारी मिली।

इस पर वह खुद डॉ. रामदास यादव, प्रदीप चौधरी एवं टीम के साथ मौके पर पहुंचे और 350 से अधिक भेड़ों का उपचार किया। वहीं मृत 45 भेड़ों का पोस्टमार्टम कर सेंपल भी लिए। इधर पशुचिकित्सकों की टीम अन्य बीमार भेड़ों का उपचार करने में जुटी हुई है। उन्होंने बताया कि विषाक्त चारे से ग्राम खेडा ममाणा तहसील साखून दूदू निवासी लक्ष्मण गुर्जर पुत्र भूराराम व रूपाराम गुर्जर पुत्र बोदूराम की 45 भेड़ें मौत का शिकार हो गई। डॉ. अटल ने बताया कि प्रथम दृष्ट्या जांच में इन भेड़ों की मौत होने का कारण अधिक मात्रा में नीम की पत्तियां और टहनियां खाने से हुई है।

इस दौरान मौके पर पहुंचे पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ.रामदास यादव व अन्य कंपाउण्डरों ने बीमार हुई अन्य भेडों का उपचार किया, जिससे भेड़ों की मौत होने का सिलसिला रूक गया। इधर सूचना मिलने पर मौके पर सरपंच सुनीता मदन प्रजापत, पशुधन सहायक ओमप्रकाश यादव, पटवारी छोटे लाल मीणा, कृष्ण कुमार मीणा, श्रवण गुर्जर, कानाराम जाट, गंगाराम गुर्जर आदि ग्रामीण भी पहुंचे। ग्रामीणों ने पीडित को आर्थिक सहायता दिलवाने की मांग की। जिस पर पटवारी मीणा ने सरकारी सहायता के लिए मौका रिपोर्ट तैयार की।

5 लाख से अधिक का नुकसान
पीड़ित रूपाराम व लक्ष्मण गुर्जर ने बताया कि दोनों की करीब 400 से भेड़ें थी। जिनको खिलाने के लिए उन्होंने नीम का पेड़ खरीदा था। नीम की पत्तियां खाने के बाद अचानक भेडें बीमार होकर मरने लगी। पीड़ितों ने बताया कि इस दौरान उनकी 45 भेडें मौत का शिकार हो गई। जिससे उनको करीब 5 लाख रुपए से अधिक का नुकसान हो गया। उन्होंने सरकार से आर्थिक सहायता दिलवाने की मांग की है।

ट्रेंडिंग वीडियो