scriptSMS ट्रोमा सेंटर जयपुर में कटा हाथ लेकर घूमता रहा कुत्ता, संवेदनहीनता की हो गई हद | Insensitivity Crossed All Limits SMS Trauma Center Jaipur Dog kept Roaming around with a Severed Hand | Patrika News
जयपुर

SMS ट्रोमा सेंटर जयपुर में कटा हाथ लेकर घूमता रहा कुत्ता, संवेदनहीनता की हो गई हद

SMS Trauma Center Jaipur : संवेदनहीनता। एसएमएस ट्रोमा सेंटर जयपुर में उस वक्त हद हो गई जब एक कुता कटा हाथ मुंह में दबाकर घूमता रहा। जिसने भी देखा वो चौंक गया।

जयपुरJun 25, 2024 / 12:40 pm

Sanjay Kumar Srivastava

Insensitivity Crossed All Limits SMS Trauma Center Jaipur Dog kept Roaming around with a Severed Hand

एसएमएस ट्रोमा सेंटर में कटा हाथ लेकर घूमता रहा कुत्ता

SMS Trauma Center Jaipur : एसएमएस अस्पताल जयपुर के ट्रोमा सेंटर में संवेदनहीनता की हद हो गई। शनिवार रात करीब 1 बजे एक कुत्ता इंसानी हाथ को मुंह में दबाकर घूमते दिखा। जब गार्ड यह देखा तो तत्काल एसएमएस प्रशासन को इसकी सूचना दी। मौके पर पुलिस पहुंची और हाथ को मोर्चरी में रखवाया गया। जांच में कटा हाथ SMS अस्पताल में इलाज कराने आए एक घायल व्यक्ति का निकला। पड़ताल की गई तो पता चला कि कटा हुआ हाथ ट्रोमा सेंटर में भर्ती मरीज विक्रम का है। 18 जून को उसका एक हाथ थ्रेसर मशीन में आने से कट गया था। अगले दिन परिजन उसे प्रतापनगर स्थित एक निजी अस्पताल लेकर गए। वहां हाथ को वापस जोड़ा नहीं जा सका। 20 जून रात 12 बजे परिजन मरीज विक्रम को ट्रोमा सेंटर लेकर पहुंचे।

डॉक्टरों ने कटे हुए हाथ को लेकर नहीं की कोई पूछताछ

परिजन जब मरीज का ट्रोमा सेंटर लेकर पहुंचे, उस वक्त उसके भाई घनश्याम के हाथ में एक कट्टा था। जिसमें कटे हाथ को डाल रखा था। यहां कटा हाथ जोड़ा नहीं जा सका और मरीज के कटे हुए अंग का ऑपरेशन कर दिया गया। यहां चिकित्सकों ने मरीज के परिजनों से कटे हाथ संबंधी कोई पूछताछ नहीं की। ऐसे में मरीज के भाई ने ऑपरेशन के बाद कटे हुए हाथ को अस्पताल के डस्टबिन में डाल दिया। जिसे 22 जून की रात को कुत्ता डस्टबिन से निकाल लाया और मुंह में लेकर घूम रहा था।
SMS Trauma Center Jaipur
एसएमएस ट्रोमा सेंटर में कटा हाथ लेकर घूमता रहा कुत्ता
यह भी पढ़ें –

Good News : राजस्थान को अब मिलेगी कुल 400 मेगावाट अनावंटित बिजली, केन्द्रीय ऊर्जा मंत्रालय ने दी मंजूरी

ट्रोमा सेंटर नोडल प्रभारी की सफाई

ट्रोमा सेंटर नोडल प्रभारी डॉ. अनुराग धाकड़ ने बताया कि मरीज दूसरे दिन अस्पताल में आया था, इसलिए उसका आते ही ऑपरेशन कर दिया गया। हाथ की जानकारी उसके भाई ने नहीं दी। हालांकि वो 4 घंटे में ही जोड़ा जाना था, लेकिन वो बताता तो उसका उचित तरीके से निस्तारण किया जाता। उसने कटा हाथ स्वयं ही डस्टबिन में डाल दिया।

Hindi News/ Jaipur / SMS ट्रोमा सेंटर जयपुर में कटा हाथ लेकर घूमता रहा कुत्ता, संवेदनहीनता की हो गई हद

ट्रेंडिंग वीडियो