script 25 साल में पहली बार सीएम का नाम तय करने में लम्बा इंतजार | Long wait to decide the name of CM for the first time in 25 years | Patrika News

25 साल में पहली बार सीएम का नाम तय करने में लम्बा इंतजार

locationजयपुरPublished: Dec 08, 2023 10:32:39 am

Submitted by:

rajesh dixit

-अब तक चुनाव परिणाम के बाद दो से पांच दिन में ले लेते थे सीएम शपथ

-आगामी लोकसभा चुनाव और भाजपा में सीएम के कई दावेदारों के कारण हो रही हैं देरी

25 साल में पहली बार सीएम का नाम तय करने में लम्बा इंतजार
25 साल में पहली बार सीएम का नाम तय करने में लम्बा इंतजार
जयपुर। राजस्थान में तीन दिसम्बर को विधानसभा चुनाव का परिणाम आ गया, लेकिन पांच दिन बाद भी सीएम का नाम तय नहीं हो पाया है। पिछले 25 साल के इतिहास में यह पहली बार है कि पांच दिन बाद भी सीएम के नाम का कोई अता-पता नहीं है। जबकि चुनाव परिणाम आने के बाद दो से पांच दिन में ही मुख्यमंत्री शपथ तक लेते रहे हैं।
अभी और टाइम लगेगा

राजस्थान में सीएम का नाम तय करने को लेकर जिस तरह की उलझन चल रही है,ऐसे में अभी और समय लगने की पूरी-पूरी संभावना जताई जा रही है। भाजपा के अनुसार रविवार तक पर्यवेक्षक तय होंगे। फिर विधायक दल की बैठक होगी। इसके बाद ही भाजपा सीएम का नाम तय कर पाएगी। ऐसे में अभी कितना समय और लगेगा अभी कहना मुश्किल है।
आखिर क्यों लग रहा है इतना समय

राजनीतिक पंडितों के अनुसार इस बार सीएम का नाम तय करने में भाजपा को पसीना छुट रहा है। राजस्थान में करीब आठ-दस दावेदार सीएम की उम्मीद लगाए हुए हैं। ऐसे में भाजपा आलाकमान कोई रिस्क नहीं लेना चाहता। इसके अलावा लोकसभा चुनाव अगले वर्ष अप्रेल-मई में प्रस्तावित हैं। इसलिए लोकसभा चुनाव को देखते हुए भी मुख्यमंत्री चयन में प्राथमिकता दी जा रही है।
चुनाव से पहले इस बार नहीं था सीएम फेस

एक कारण यह भी बताया जा रहा है कि पिछले चुनावों में सामान्यत: सीएम फेस सामने रखकर ही चुनाव होते आए हैं। ऐसे में चुनाव परिणाम के बाद सीएम चयन को लेकर ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ती है। वर्ष 1998 की बात करें तो कांग्रेस में परसराम मदेरणा और भाजपा में भैरोसिंह शेखावत मुख्य सीएम फेस थे। कांग्रेस पार्टी ने जीत हासिल की। लेकिन उस समय कांग्रेस ने परसराम मदेरणा के स्थान पर कांग्रेस के तत्कालीन प्रदेशाध्यक्ष अशोक गहलोत को एक लाइन का प्रस्ताव पारित करवाकर मुख्यमंत्री बनाया था। इसके बाद पिछले चार चुनावों में भाजपा में वसुन्धरा राजे ही सीएम फेस रही है। लेकिन इस बार भाजपा ने वसुन्धरा राजे को सीएम फेस नहीं रखा। हालांकि कांग्रेस में भी इस चुनाव से पहले सीएम फेस नहीं था, लेकिन मुख्य दावेदारी अशोक गहलोत की जताई जा रही थी। दूसरे नम्बर पर सचिन पायलट का नाम चल रहा था। चुनाव परिणाम भाजपा के पक्ष में आया। इस बार भाजपा में आठ से अधिक दावेदार सीएम की उम्मीद लगाए हुए हैं। इस कारण भाजपा भी सीएम चयन करने में देरी कर रही है।
राजस्थान में सीएम ने कब-कब ली थी शपथ

वर्ष मतदान मतगणना शपथ कुल दिन

1998 25 नवम्बर 28 नवम्बर 01 दिसम्बर 03

2003 01 दिसम्बर 04 दिसम्बर 08 दिसम्बर 04

2008 04 दिसम्बर 08 दिसम्बर 13 दिसम्बर 05
2013 01 दिसम्बर 08 दिसम्बर 13 दिसम्बर 05

2018 07 दिसम्बर 11 दिसम्बर 17 दिसम्बर 06

2023 25 नवम्बर 03 दिसम्बर --???---- ???

ट्रेंडिंग वीडियो