script social Media पर इन लोगों को फॉलो करते हैं तो आपका जेल जाना तय, अभी देख लें अपनी फ्रेंड लिस्ट, 5000 पकड़े जा चुके पहले | Police is catching those who follow goons and miscreants on social media, raids in Jodhpur | Patrika News

social Media पर इन लोगों को फॉलो करते हैं तो आपका जेल जाना तय, अभी देख लें अपनी फ्रेंड लिस्ट, 5000 पकड़े जा चुके पहले

locationजयपुरPublished: Feb 01, 2024 11:41:23 am

Submitted by:

JAYANT SHARMA

Rajasthan News: ताल्लुक रखने वाले बदमाशों को भी तलाशा जा रहा है। उनकी तलाश जेलों तक में की जा रही है।

police_patrika.jpg
police
Rajasthan News: लॉरेंस विश्नोई से ताल्लुक रखने वाले रोहित गोदारा और गैंगस्टर वीरेन्द्र चारण पर एनआईए ने पांच - पांच लाख रुपए का इनाम रखा है। दोनो फरार हैं और दोनो प्रदेश भर के कई बड़े मामलों में वांडेट हैं। लेकिन इस बीच अब लॉरेंस से ताल्लुक रखने वाले बदमाशों को भी तलाशा जा रहा है। उनकी तलाश जेलों तक में की जा रही है। जोधपुर सेंट्रल जेल में भी पुलिस ने छापे मारे हैं और वहां से भी इनपुट मिला है।
जोधपुर पुलिस ने बताया कि लॉरेंस और उससे ताल्लुक रखने वाले बड़े गैंगस्टर्स को जोधपुर के कई बदमाश फॉलो कर रहे हैं और लॉरेंस के संपर्क में आने की कोशिश कर रहे हैं, ऐसी सूचना मिली थी। उसके बाद जब बदमाशों की एक लिस्ट तैयार की गई और हर थाने की पुलिस ने रेड शुरू की तो पता चला कि जोधपुर में बीस से ज्यादा बदमाश लॉरेंस को फॉलो कर रहे हैं और उसके लिए काम करने को आतुर हैं। ऐसे बदमाशों की लिस्ट बनाई गई और उसके बाद उनको दोपहर से लेकर रात तक अरेस्ट करने का काम किया।
लॉरेंस से ताल्लुक रखने और सोशल मीडिया पर उसे फॉलो करने के मामले में जोधपुर पुलिस ने विनोद, श्याम सुंदर, हिमांशु, श्रामेश्वर, राहुल, आकाश, महेन्द्र, विकास, जितेन्द्र, पवन, प्रतीक, शक्ति, समेत 22 बदमाशों को पकडा है। जिन थाना क्षेत्रों में वे रहते हैं उनके खिलाफ उसी थाने में केस भी दर्ज कराए गए हैं। जोधपुर सेंट्रल जेल में भी छापा मारा गया है और वहां से बदमाशों द्वारा इस्तेमाल किए गए दो मोबाइल फोन और दो डाटा केबिल बरामद की गई है। एक आरोपी के पास से हथियार भी बरामद किए गए हैं और उसके बाद उसके खिलाफ भी केस दर्ज कराया गया है। जोधपुर के बाद अब प्रदेश भर की पुलिस इस तरह का अभियान चलाने की तैयारी कर रही है जिसमें बड़े बदमाशों और गैंगस्टर्स को सोशल मीडिया पर फॉलो करने वालों की पहचान की जा सके। पहले भी इस तरह का अभियान चलाया गया था और करीब पांच हजार से ज्यादा लोगों को पकड़ा गया था।

ट्रेंडिंग वीडियो