वैक्सीन लगाने के बाद एएनएम की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती

पांवों पर खड़ी नहीं हो पा रही, सीरियस लिख कर दें: परिवार

By: Deepak Vyas

Updated: 28 Jan 2021, 07:37 PM IST

जैसलमेर. कोरोना की काट के तौर पर टीकाकरण ने अब सीमावर्ती जैसलमेर जिले में धीरे-धीरे रफ्तार पकड़ी है, इस बीच एक महिला स्वास्थ्यकर्मी का स्वास्थ्य टीका लगाने के बाद बिगड़ गया और उसे जिला अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ा है। घटना दो दिन पहले की है। गत 25 तारीख को चांधन पीएचसी में कार्यरत एएनएम मंजुबाला चौधरी को वैक्सीन का इंजेक्शन लगाया गया। उसके बाद उन्हें सांस की तकलीफ हुई और पांवों से खड़े रहने की शक्ति नहीं रही। जिसके चलते उन्हें जैसलमेर के जवाहर चिकित्सालय लाकर भर्ती करवाया गया है।
अस्पताल व परिवार आमने.सामने
इस मामले में जहां चिकित्सालय प्रशासन का कहना है कि एएनएम की सभी जांचें सामान्य हैं तथा टीके से एलर्जी जैसी कोई समस्या नजर नहीं आ रही। इसके साथ ही अस्पताल प्रशासन उन्हें जोधपुर रेफर करने के लिए वाहन की व्यवस्था करने के लिए तैयार है। दूसरी ओर चौधरी के परिवारजनों का आरोप है कि चिकित्सालय में उनकी सही ढंग से देखभाल नहीं हो रही तथा वे चाहते हैं कि रेफर कार्ड पर गंभीर लिख कर दिया जाए। अन्यथा जोधपुर ले जाने पर भी उनका इलाज नहीं हो पाएगा। बहरहाल बुधवार शाम तक एएनएम मंजुबाला जवाहर चिकित्सालय के मेडिकल वार्ड में ही भर्ती हैं।

इलाज में कसर नहीं
एएनएम के उपचार में किसी तरह की कमी नहीं रखी जा रही है। मेरे साथ अस्पताल के फिजिशियन्स ने उनके स्वास्थ्य की जांच की है। सीएमएचओ भी देख गए हैं। ब्लड प्रेशर, ईसीजी आदि जांचें सामान्य आई हैं। जिले में सबसे पहला टीका मैंने लगवाया था। अन्य अनेक कार्मिकों ने भी टीका लगवाया है। फिर भी अगर उन्हें लगता है कि उनके पांवों में खड़ा रहने की शक्ति नहीं रही तो इसके लिए हम उन्हें जोधपुर जाने के लिए वाहन की व्यवस्था करवा रहे हैं। उच्चस्तरीय केंद्र में ही आगे की जांच हो पाएंगी।
-डॉ. जेआर पंवार, पीएमओए जवाहर चिकित्सालय जैसलमेर

तत्परता से नहीं कर रहे उपचार
मेरी मां को टीका लगवाने से पहले कोई शारीरिक समस्या नहीं थी। टीका लगाने के बाद उन्हें सांस लेने में तकलीफ हो गई। बड़ी मुश्किल से चांधन से जैसलमेर लेकर आए। यहां इलाज में अपेक्षित तत्परता नहीं दिखाई गई। अब रेफर कार्ड पर चिकित्सक सीरियल लिखकर देने को तैयार नहीं हैं। सामान्य लिखेंगे तो जोधपुर में कौनसा अस्पताल भर्ती कर इलाज करेगा या तो यहीं रखकर समुचित उपचार किया जाए अन्यथा सीरियस केस मानते हुए डॉक्टर के साथ एम्बुलेंस से जोधपुर भिजवाने की व्यवस्था की जाए।
-खुशबू चौधरी, बीमार एएनएम की पुत्री

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned