नगरपालिका चुनाव 2021: किसकी होगी शहर की सरकार, कौन होगा अगला नगरपालिका अध्यक्ष!

- कस्बे में चर्चाओं का बाजार गर्म, दोनों पार्टियां कर रही है बहुमत के दावे

By: Deepak Vyas

Published: 28 Jan 2021, 08:02 PM IST

पोकरण. नगर निकाय चुनाव 2021 के अंतर्गत प्रदेश के 90 निकायों के साथ पोकरण नगरपालिका के 24 वार्ड पार्षदों के लिए गुरुवार को मतदान कार्य पूर्ण हुआ। सभी 103 प्रत्याशियों के भाग्य ईवीएम में बंद हो गए है तथा रविवार को सुबह मतगणना के बाद उनके भाग्यों का फैसला होगा। कौन होगा पोकरण का अगला नगरपालिका अध्यक्ष, किसके सिर बंधेगा सेहरा तथा किसके हाथ होगी पोकरण के विकास की कमान, इसको लेकर कस्बे में चर्चाओं का बाजार गर्म होने लगा है। असली तस्वीर तो 31 जनवरी को मतगणना में प्राप्त होने वाले परिणामों के बाद ही स्पष्ट होगी। हालांकि दोनों ही पार्टियां अपने-अपने बहुमत, जीत व नगरपालिका पर कब्जा करने के दावे कर रही है। गत 30 वर्षों के इतिहास पर नजर डालें, तो नगरपालिका बोर्ड पर किसी एक दल का वर्चस्व नहीं रहा है। 1990 में कांग्रेस के नंदकिशोर गांधी, 1995 में भाजपा की उर्मिला पुरोहित, 2000 में कांग्रेस के आसूलाल पुरोहित, 2005 में भाजपा के आनंदीलाल गुचिया, 2010 में भाजपा की छोटेश्वरी माली व 2015 में कांग्रेस के आनंदीलाल गुचिया अध्यक्ष पद पर निर्वाचित हुए।
कांग्रेस गिना रही सरकार के विकास कार्य
कांग्रेस इस बार नगरपालिका चुनाव में अपनी जीत के दावे कर रही है तथा बोर्ड पर कब्जा करना अपना प्रतिष्ठा का सवाल मान रही है। कांग्रेस की ओर से केबिनेट मंत्री शाले मोहम्मद, प्रदेश कांग्रेस सचिव श्रवण पटेल, पूर्व जिला प्रमुख अब्दुला फकीर, पर्यवेक्षक लीलाधर दैया ने गत एक माह से कड़ी मेहनत की है। केन्द्र व राज्य सरकार तथा वर्तमान कांग्रेस बोर्ड की सफलताओं को गिनाकर बहुमत के साथ बोर्ड पर कब्जा करने का दावा कर रही है। साथ ही कांग्रेस नेताओं ने गत दो वर्षों में पोकरण क्षेत्र में करवाए गए विकास कार्यों का भी बखान किया।
भाजपा ने गिनाई विफलताएं
गत पांच वर्षों से नगरपालिका से दूर भाजपा अपनी पार्टी का बोर्ड बनाने के भरसक प्रयास कर रही है तथा भाजपा नेताओं की ओर से चुनाव में अधिक पार्षद जीतकर स्पष्ट बहुमत हासिल करने व बोर्ड पर अगला अध्यक्ष उनकी पार्टी का निर्वाचित होने के दावे किए जा रहे है। भाजपा की ओर से राज्य सरकार तथा वर्तमान नगरपालिका बोर्ड की विफलताओं को गिनाने का कार्य किया गया। भाजपा की ओर से महंत प्रतापपुरी महाराज, जिला प्रमुख प्रतापसिंह सोलंकी, पूर्व विधायक सांगसिंह भाटी, शैतानसिंह राठौड़, जिलाध्यक्ष चंद्रप्रकाश शारदा, प्रधान भगवतसिंह तंवर, जिला मंत्री मदनसिंह राजमथाई की ओर से कस्बे के सभी वार्डों में एक माह तक जमकर प्रचार व घर-घर जनसंपर्क कर कड़ी मेहनत की गई। उनकी ओर से नगरपालिका चुनाव में जीत हासिल करने के लिए पूरी ताकत झोंक दी गई। भाजपा के नेता पूर्ण बहुमत से बोर्ड बनाने को लेकर पूरी तरह से आश्वस्त है।
कुछ भी कहना हो रहा मुश्किल
नगरपालिका के वार्ड संख्या आठ में कांग्रेस की प्रत्याशी हेमलता के निर्विरोध निर्वाचन से कांग्रेस पूरी तरह से उत्साहित नजर आ रही है। शेष रहे 24 वार्डों में पार्षद पद के लिए गुरुवार को हुए मतदान के बाद यह कह पाना मुश्किल है कि किसी भी पार्टी को बहुमत मिलेगा या नहीं। इस बार 24 वार्डों में निर्दलीय प्रत्याशियों की संख्या अधिक होने पर उनके जीतने और उनके भरोसे बोर्ड बनने की संभावनाएं भी बन रही है।
ये हो सकते है दावेदार
भाजपा को बहुमत लायक आवश्यक आंकड़ा मिलने व विजयी रहने की स्थिति में अध्यक्ष पद के लिए खेताराम माली, मनीष पुरोहित, दिनेशकुमार व्यास के नामों की चर्चा चल रही है। दूसरी तरफ कांग्रेस में नारायण रंगा, आनंदीलाल गुचिया, रमेश माली के नामों पर चर्चाएं चल रही है। निर्दलीय प्रत्याशी आईदान पंवार भी पार्षद का चुनाव जीतने पर अध्यक्ष पद के प्रबल दावेदार माने जा रहे है।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned