झालावाड: तारों में उलझकर घंटों तक झूलता रहा शव- नहीं पहुंचे ‘रखवाले’, रौंगटे खड़े कर गया दृश्य

जीएसएस पर एक संविदाकर्मी तकनीकी कार्य कर रहा था। इसी दौरान उसे अचानक से करंट का तेज़ झटका लगा और वो वहीं झुलसकर रह गया। चंद सेकंड में ही उसकी मौत हो गई।

By: nakul

Updated: 22 Oct 2020, 02:49 PM IST

जयपुर।

राजस्थान के झालावाड में एक ऐसी घटना हुई जिसने हर किसी को झकझोर कर रख दिया। इस भयानक हादसे में विद्युत् विभाग का एक संविदाकर्मी ड्यूटी के दौरान ना सिर्फ करंट की चपेट आया बल्कि उसका शव कई घंटों तक बिजली के तारों में ही उलझा पडा रहा। हादसा क्यों और कैसे हुआ और इसके पीछे किसकी लापरवाही रही ये सब फिलहाल जांच का विषय बना हुआ है। लेकिन हादसे के बाद जो भी घटनास्थल पहुंचा उसके इस दृश्य को देखकर रौंगटे खड़े हो गए।



वाकया झालावाड के खानपुर उपखंड क्षेत्र स्थित हरिगढ़ कस्बे का है। सामने आया है कि यहाँ जीएसएस पर एक संविदाकर्मी तकनीकी कार्य कर रहा था। इसी दौरान उसे अचानक से करंट का तेज़ झटका लगा और वो वहीं झुलसकर रह गया। चंद सेकंड में ही उसकी मौत हो गई। मृतक की पहचान शिवा भील के तौर पर हुई है।



घंटों तक यूं ही झूलता रहा शव
चौंकाने वाली बात ये थी कि हादसे के बाद भी कई घंटों तक विद्युत विभाग का कोई कर्मचारी या अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा। इस वजह से मृतक का शव भी घंटों तक यूं ही तारों और विद्युत पोल पर झूलता रहा।



ग्रामीणों ने किया विरोध-प्रदर्शन
दर्दनाक वाकये की खबर पूरे गांव में आग की तरह फ़ैल गई। देखते ही देखते मौके पर ग्रामीणों का तांता लग गया। लेकिन जिसने भी इस दृश्य को देखा उसके रौंगटे खड़े हो गए। काफी देर तक जब विद्युत विभाग का अमला नहीं पहुंचा तो ग्रामीण विरोध जताने लगे। हरिगढ़ सरपंच की अगुवाई में ग्रामीण धरने पर बैठ गए और विद्युत विभाग के खिलाफ विरोध जताने लगे। ग्रामीणों ने मृतक कर्मी के परिवार को मुआवजा दिलाने की मांग की।


हादसे और ग्रामीणों के प्रदर्शन की सूचना पर पनवाड़ पुलिस भी मौके पर पहुंची और उचित कार्रवाई का आश्वासन देकर ग्रामीणों का गुस्सा शांत किया। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned