रिश्वत लेने के आरोपी चिकित्सक को जेल भेजा

रिश्वत लेने के आरोपी चिकित्सक को जेल भेजा

Vikas Choudhary | Publish: Sep, 05 2018 06:03:50 PM (IST) Jodhpur, Rajasthan, India

- बकाया भुगतान के बदले बतौर कमीशन साढ़े बारह हजार रिश्वत लेने का मामला

 

जोधपुर.

भाग्यश्री महिला बचत समूह की ओर से कलेवा योजना के तहत बकाया बिल भुगतान के बदले पच्चीस प्रतिशत कमीशन के तौर पर 12500 रुपए रिश्वत लेते भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की गिरफ्त में आने वाले लोहावट स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के प्रभारी अधिकारी को अदालत ने बुधवार को न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया।
एसीबी की ग्रामीण चौकी प्रभारी व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गोपालसिंह ने बताया कि प्रकरण में गिरफ्तार मूलत: बाड़मेर जिले में पचपदरा तहसील के कुड़ी गांव हाल लोहावट निवासी डॉ प्रदीप विश्नोई को बुधवार दोपहर बाद भ्रष्टाचार निरोधक मामलात की विशेष अदालत में पेश किया गया, जहां से उसे जेल भेजने के आदेश दिए गए। आरोपी के पैतृक गांव, लोहावट में क्लिनिक व मकान के साथ ही डीपीएस के सामने मानसरोवर कॉलोनी स्थित किराए के मकान की तलाशी भी ली गई, लेकिन एसीबी के हाथ कोई विशेष दस्तावेज या नगदी नहीं लगी। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गोपालसिंह ने बताया कि प्रकरण में पूछताछ के बाद उन्हें न्यायिक अभिरक्षा में भिजवा दिया गया।

गौरतलब है कि लोहावट में जाटाबास निवासी पप्पू शर्मा पत्नी जयकिशन की शिकायत पर डॉ प्रदीप विश्नोई को मंगलवार को लोहावट स्थित निजी क्लिनिक पर साढ़े बारह हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया था। आरोप है कि डॉ विश्नोई ने कलेवा योजना के तहत बकाया राशि का भुगतान करने के लिए पच्चीस प्रतिशत कमीशन की मांग की थी। फिर वो ८५ हजार रुपए की जगह पचास हजार रुपए का भुगतान करने को तैयार हुए, लेकिन फिर ३५ हजार रुपए का चेक ही बनाया, लेकिन चिकित्सक ने रिश्वत राशि के तौर पर साढ़े बारह हजार रुपए ले लिए थे। तभी इशारा मिलते ही एसीबी की टीम ने वहां दबिश देकर डॉ प्रदीप विश्नोई को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया था। उनकी पेंट की जेब से रिश्वत राशि बरामद की थी।प्रकरण में पूछताछ के बाद उन्हें न्यायिक अभिरक्षा में भिजवा दिया गया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned