जोधपुर जिले के 13 अस्पतालों में बायोवेस्ट उठना बंद

बकाया राशि के चलते फर्म ने बंद किया काम

By: Jay Kumar

Published: 11 Jan 2021, 03:26 PM IST

जोधपुर. जिले के 13 ग्रामीण क्षेत्र के अस्पतालों में बायोवेस्ट उठना बंद हो चुका है। वहीं ऐसे संक्रमणकाल में पड़ा बायोवेस्ट विभिन्न बीमारियों को न्यौता दे रहा है। मैसर्स सेल्स प्रमोटर्स ने स्वास्थ्य विभाग को पत्र लिख कहा कि बायोमेडिकल वेस्ट ट्रीटमेंट फैसिलिटी के तहत चिकित्सालयों को मेडिकल वेस्ट के संग्रहण, उपचार व निस्तारण की सेवाएं दी जाती है। इन अस्पतालों का मासिक बिल लंबे समय से बकाया है। जिसकी सूचना २२ दिसंबर को दे दी गई थी। उसके बावजूद भुगतान नहीं करने पर इनको प्रदान की जा रही सेवाएं १ जनवरी से फर्म ने स्थगित कर दी है। कई अस्पतालों के एक-एक साल से पैसे बकाया चल रहे हैं। बायोवेस्ट नहीं उठाने से अस्पताल में भी संक्रमण का खतरा मंडरा रहा है। फर्म इन अस्पतालों से कुल १ लाख ५१ हजार २०४ रुपए मांग रही है।

अस्पताल का नाम- बकाया माह- कुल बकाया राशि
राजकीय चिकित्सालय भोपालगढ़- मई से दिसंबर २०२०----१५३७६
राजकीय चिकित्सालय बोरूंदा-अगस्त से दिसंबर २०२०----९९१२
राजकीय चिकित्सालय पीपाड़ सिटी-अगस्त २०१९, जुलाई से दिसंबर २०२०----१३५९४
राजकीय चिकित्सालय बिलाड़ा- अगस्त से से दिसंबर २०२०---१६५२२
राजकीय चिकित्सालय धुंधाड़ा- मार्च से दिसंबर २०२०---- २४३८१
राजकीय चिकित्सालय शेरगढ़-अगस्त से दिसंबर २०२०----९९१२
राजकीय चिकित्सालय मथानिया-दिसंबर २०१९ से दिसंबर २०२०----२४४०४
राजकीय चिकित्सालय असोप- मई, जून, जुलाई व दिसंबर २०२०----७३९८
राजकीय चिकित्सालय आगोलाई-जुलाई, अगस्त, नवंबर व दिसंबर २०२०----१४९७
राजकीय चिकित्सालय बावड़ी- मार्च, नवंबर २०१९, फरवरी,जून, अगस्त से दिसंबर २०२०----५११२
राजकीय चिकित्सालय लूणी-फरवरी, जुलाई से दिसंबर २०२०----१३४७६
राजकीय चिकित्सालय सेतरावा-जुलाई से दिसंबर २०२०----२३५०
राजकीय आईजी चिकित्सालय बिलाड़ा- अगस्त से दिसंबर २०२०---- ७२७०

इनका कहना है...
मेरे पास कंपनी का कोई पत्र नहीं आया है। ना हीं फर्म के कार्मिकों ने कोई संपर्क साधा है। एेसी स्थिति है तो मामला गंभीर है।
- डॉ. बलवंत मंडा, सीएमएचओ

Jay Kumar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned