भूख हड़ताल पर बैठे कांग्रेसी कार्यकर्ता, उपखण्ड अधिकारी ने आश्वासन देकर उठाया

भोपालगढ़. कस्बे सहित क्षेत्र की विभिन्न समस्याओं को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ स्थानीय उपखण्ड कार्यालय के सामने सांकेतिक भूख हड़ताल की और विरोध-प्रदर्शन भी किया।

By: Manish Panwar

Updated: 25 Sep 2018, 06:13 PM IST

भोपालगढ़. कस्बे सहित क्षेत्र की विभिन्न समस्याओं को लेकर प्रशासन को बार-बार अवगत करवाए जाने के बावजूद इनका समाधान नहीं होने एवं बिराणी में फाइनेंस कंपनी के प्रतिनिधियों की धमकी के बाद हुई रामरतन सैन की मौत के मामले में पुलिस व प्रशासन की वादाखिलाफी से नाराज ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष राजेश जाखड़ ने सोमवार को दर्जनों पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ स्थानीय उपखण्ड कार्यालय के सामने एक दिवसीय सांकेतिक भूख हड़ताल की और सरकार व स्थानीय प्रशासन के लचर रवैये के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन भी किया। इस दौरान दिन में कई बार उपखण्ड अधिकारी रामानंद शर्मा ने धरना स्थल पर जाकर भूख हड़ताल कर रहे कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष व कार्यकर्ताओं से समझाइश की कोशिश की, लेकिन वार्ताएं असफल रही। वहीं शाम को करीब पांच बजे एक बार फिर उपखण्ड अधिकारी शर्मा व भोपालगढ़ थानाधिकारी मिट्ठूलाल द्वारा धरना स्थल पर पहुंचकर उनकी मांगों के संबंध में उचित कार्रवाई करने का ठोस आश्वासन दिए जाने के बाद कांग्रेसी नेताओं व कार्यकर्ताओं ने भूख हड़ताल समाप्त की।
यूथ कांग्रेस के पाली लोकसभा महासचिव महेन्द्रप्रताप देवड़ा ने बताया कि बिराणी मामले में समुचित कार्यवाही सहित विविध जनसमस्याओं के निराकरण की मांग को लेकर ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष राजेश जाखड़, कांग्रेस ओबीसी विभाग के राष्ट्रीय समन्वयक एवं विभाग के छत्तीसगढ़ प्रभारी शिवकरण सैनी एवं कांग्रेसी नेता ओमप्रकाश मेघवाल के नेतृत्व में दर्जनों कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने सोमवार को सुबह दस बजे से उपखण्ड मुख्यालय के सामने भूख हड़ताल व धरना-प्रदर्शन किया। इस दौरान यहां मौजूद ग्रामीणों एवं कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए ब्लॉक अध्यक्ष जाखड़ ने कहा कि निजी फाइनेंस कंपनी के प्रतिनिधियों की बार-बार दी गई धमकियों की वजह से क्षेत्र के बिरानी गांव निवासी रामरतन सैन का रक्तचाप बढ़ गया था और इस वजह से जोधपुर के एक निजी अस्पताल में इलाज के दौरान उनकी मौत भी हो गई थी। इसको लेकर मृतक के परिजनों की ओर से फाईनेंस कंपनी के खिलाफ भोपालगढ़ पुलिस थाने में मुकदमा भी दर्ज करवाया गया, लेकिन अभी तक पुलिस द्वारा कोई उचित कार्रवाई नहीं की गई। इसके साथ ही स्थानीय प्रशासन की ओर से भी इस संबंध में पिडि़त परिवार की मदद का भरोसा दिया गया था, लेकिन कोई कार्यवाही अभी तक शुरु ही नहीं हुई। इसके अलावा क्षेत्र की विभिन्न समस्याओं के संबंध में भी बार-बार प्रशासन को अवगत कराने के बावजूद भी कोई समाधान नहीं हो पाया है। ऐसे में हमने अपना कत्र्तव्य निभाने के लिए मजबूरन भूख हड़ताल की है। कांग्रेसी नेता सैनी ने कहा कि सरकार बड़े किसानों को 27 हजार रुपए के मुआवजे की राशि नहीं दे रही है, जिससे अकाल के दौर में किसानों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, लेकिन सरकार को इससे कोई परवाह ही नहीं है। इस दौरान भूख हड़ताल में ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष राजेश जाखड़, कांग्रेसी नेता सैनी व मेघवाल के साथ शिम्बुभाई प्रजापत, गजेन्द्रनाथ, पप्पु सोमानी, भानाराम विश्नोई, नारायणराम मोसलपुरी, महेंद्रप्रताप देवड़ा देवड़ा, पंसस सोयला मंजू जाटोलिया, रामनिवास सैन, महेश जाखड़, भंवरलाल गारासनी व ओमप्रकाश बावरी समेत ११ जने भूख हड़ताल पर रहे। वहीं इस मौके पर जिला कांग्रेस महासचिव शिवकरण सैनी, शिक्षक नेता कालूराम मेहरा, एसपीएम महाविद्यालय छात्रसंघ अध्यक्ष लीला चौधरी, पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष रामचन्द्र जलवनिया, ओमप्रकाश मेघवाल समेत क्षेत्र के कई कांग्रेसी कार्यकर्ता, पदाधिकारी व ग्रामीण भी मौजूद थे। (निसं)

एसडीएम व सीआई ने दिया आश्वासन
ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष राजेश जाखड़ समेत अन्य कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के भूख हड़ताल शुरु करने के बाद उपखण्ड अधिकारी रामानंद शर्मा ने दिन में दो-तीन बार इन लोगों को भूख हड़ताल समाप्त करने के लिए समझाइश की, लेकिन बात नहीं बनी। इसके बाद शाम करीब पांच बजे उपखण्ड अधिकारी शर्मा व थाना प्रभारी सीआई मिट्ठूलाल धरना स्थल पर पहुंचे और उनकी मांगों पर शीघ्र ही उचित करने का ठोस आश्वासन दिया। जिसके बाद कांग्रेसी नेताओं ने भूख हड़ताल समाप्त करने की घोषणा की।

ये थी प्रमुख मांगें
ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष जाखड़ ने बताया कि उन्होंने बिराणी निवासी मृतक रामरतन सैन की मौत के मामले में फाइनेंस कंपनी के खिलाफ उचित कार्यवाही करने के साथ ही आरोपियों को गिरफ्तार करने, कस्बे के शिम्भेश्वर तालाब में नहर का पानी छोड़कर मछलियों का जीवन बचाने, कस्बे के राजकीय अस्पताल में महिला चिकित्सक की नियुक्ति करने के साथ ही मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य केंद्र के लिए राज्य सरकार से वित्तीय स्वीकृति दिलवाकर समुचित स्टाफ लगाने एवं केन्द्र को शुरु करने, राजकीय अस्पताल में ब्लड बैंक व सोनाग्राफी को शुरु करवाने, कस्बे की टूटी सड़कों का नवीनीकरण करवाने, बड़े किसानों को 27 हजार रुपए की मुआवजा राशि तुरंत दिलवाने, बस स्टैंड पर स्थाई रुप से ट्रैफिक पुलिस लगवाने, बस स्टैंड पर लगी हाईमास्ट लाइट चालू करवाने, भोपालगढ़ में नहरी पानी की समय पर पर्याप्त आपूर्ति करवाने, जंगली सूअरों द्वारा किसानों के खेतों में किए जा रहे फसल खराबे को रोकने के लिए इन्हें पकड़वाने, भोपालगढ़ क्षेत्र में अकाल घोषित कर किसानों को मुआवजा दिलवाने, भोपालगढ़ उपखण्ड मुख्यालय पर अग्निशमन गाड़ी की व्यवस्था करवाने सहित जनहित से जुड़ी विविध मांगों को लेकर भूख हड़ताल की थी।

Congress
Manish Panwar Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned