होम डिलीवरी से हुआ संक्रमण का 'लॉकडाउन', जोधपुर का 50 प्रतिशत अब तक है कंटेनमेंट जोन

ई-कॉमर्स कंपनियों व फूड डिलीवरी एप के माध्यम से होम डिलीवरी लेने वाले जोधपुरवासी पिछले दो माह से प्रशासन की होम डिलीवरी ले रहे हैं। करीब 50 प्रतिशत से अधिक शहर अब तक कंटेनमेंट जोन व कफ्र्यू क्षेत्र में है।

By: Harshwardhan bhati

Published: 24 May 2020, 12:59 PM IST

अविनाश केवलिया/जोधपुर. ई-कॉमर्स कंपनियों व फूड डिलीवरी एप के माध्यम से होम डिलीवरी लेने वाले जोधपुरवासी पिछले दो माह से प्रशासन की होम डिलीवरी ले रहे हैं। करीब 50 प्रतिशत से अधिक शहर अब तक कंटेनमेंट जोन व कफ्र्यू क्षेत्र में है। ऐसे में संक्रमण का लॉकडाउन करने में होम डिलीवरी सिस्टम कुछ ऐसे सफल हुआ। कई विभागों से जुटाए गए आंकड़ों के हिसाब से दो माह का गणित कुछ इस प्रकार है।

फूड पैकेट्स
- नगर निगम की 30 टीमों ने अब तक 17 लाख से अधिक भोजन के पैकेट वितरित किए।
- 5 लाख 20 हजार भोजन के पैकेट कफ्र्यू क्षेत्र में।
- 22 हजार पैकेट रेल से आने एवं जाने वाले प्रवासी यात्रियों को भी।

चिकित्सा सुविधा
- मोबाइल फार्मेसी तथा ऑन कॉल से 4 हजार 276 रोगियों को चिकित्सा परामर्श।
- 1 हजार 780 परिवारों को घर बैठे दवाइयां।
- मोबाइल ओपीडी वैन से मिला 21 हजार से अधिक रोगियों को उपचार।

फल-सब्जी-दूध
- 437 लोडिंग टैक्सी और 500 ठेला धारकों ने पहुंचाई घर-घर सब्जी व फल।
- सहकारी उपभोक्ता होलसेल भंडार से 4 लाख 23 हजार परिवार लाभांवित।
- 10 करोड़ रुपए का सामान का बेचा गया।
- 20 लाख लीटर दूध डेयरी की ओर से पहुंचाया गया।

कोविड-19 सैम्पलिंग
- 43 हजार सैम्पल संक्रमण के खतरे को कम करने के लिए जिला प्रशासन ने डोर स्टेप में लिए।
- 3 लाख 65 हजार हाई रिस्क लोगों का चिन्हीकरण किया गया।
- 4 हजार से ज्यादा प्रवासियों के सैम्पल लिए गए।

सेनेटाइजिंग-स्वच्छता
- 10 अग्निशमन वाहन एवं 70 पोर्टेबल स्प्रे मशीन से पूरे शहर में सेनिटाइजेशन
- 2 माह में 13 हजार लीटर सोडियम हाइपोक्लोराइट का छिड़काव।
- 50 सफाई कर्मचारी व निरीक्षक सरकारी क्वारंटीन सेंटर की व्यवस्था संभाल रहे।
- 6 हजार 542 घरों को होम आइसोलेशन व क्वारंटीन किया गया।

coronavirus
Harshwardhan bhati
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned